• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Murena News
  • Morena - वाहनों के पेट्रोल टैंक से निकल रहा पानी कहीं भी कार व बाइक के इंजन हो रहे बंद
--Advertisement--

वाहनों के पेट्रोल टैंक से निकल रहा पानी कहीं भी कार व बाइक के इंजन हो रहे बंद

पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल में एथनॉल की मिलावट के बोर्ड लगा दिए गए हैं। सरकार ने नहीं कराया प्रचार पेट्रोल...

Danik Bhaskar | Sep 13, 2018, 03:25 AM IST
पेट्रोल पंपों पर पेट्रोल में एथनॉल की मिलावट के बोर्ड लगा दिए गए हैं।

सरकार ने नहीं कराया प्रचार

पेट्रोल पंप एसोसिएशन के अध्यक्ष विनोद शुक्ला का कहना है कि पेट्रोल में एथनॉल का मिलावट भारत सरकार का एक अच्छा कदम है। इससे वायु प्रदूषण कम होगा। लेकिन पेट्रोल में एथनॉल की मिलावट से पहले सरकार काे जनता के बीच इसका प्रचार प्रसार करने की जरूरत थी जिसे समय पर नहीं किया गया। अब जब लोगों की शिकायत बढ़ीं और पेट्रोल पंप डीलरों को पेट्रोल में पानी की मिलावट के आरोप सहने पड़ रहे हैं तब पेट्रोलियम कंपनियों ने एथनॉल की मिलावट के बोर्ड लगाने के लिए पंप डीलरों को बाध्य किया है।

पेट्रोल में 10 फीसदी एथनॉल की मिलावट


बाइक की टंकी से पेट्रोल की जगह पानी की शिकायत।

रास्ते में गाड़ी बंद हुई, धकेलकर मैकनिक के यहां लाने पर पता चला कि पेट्रोल टैंक में था पानी।

एथनॉल के संपर्क में पानी आया तो पेट्रोल अलग

एथनॉल के संपर्क में पानी आने पर वह पेट्रोल को एथनॉल से अलग कर देगा। बाद में इंजन में एथनॉल के दहन होने पर कार या बाइक का इंजन काम करना बंद कर देगा। चूंकि पेट्रोल के दहन से कार्बन मोनो ऑक्साइड निकलती है जिसके कण वायुमंडल को प्रदूषित करते हैं। वायु प्रदूषण के लिए पेट्रोल में एथनॉल की मिलावट नुकसानदायक नहीं है लेकिन अलर्ट रहने की जरूरत है कि पेट्रोल वाहनों के टैंकों में पानी नहीं पहुंच पाए। अन्यथा इंजन सीज होने पर बड़ी नुकसान सहना पड़ा सकता है।

हर दिन 50 हजार लीटर पेट्रोल की खपत

मुरैना जिले में 40 से अधिक पेट्रोल पंप जिलेभर में संचालित हैं। उन सभी से प्रतिदिन 50 हजार लीटर पेट्रोल की बिक्री होती है। 50 हजार लीटर पेट्रोल के दहन से होने वाली वायु प्रदूषण को 10 फीसदी एथनॉल की मिलावट से कम किए जाने के प्रयास पेट्रोलियम कंपनियों ने शुरू किए हैं। इससे किसानों को गन्ने के दाम अच्छे मिल सकेंगे। क्योंकि एथनॉल का उत्पादन मोलासिस से होता है। सरकार को भी इससे आर्थिक फायदा है। क्योंकि विदेशों ने उतना ही क्रूड ऑइल मंगाने की स्थिति बनेगी।