मुरैना

--Advertisement--

15 लाख का बनाया हाट बाजार दो साल से चार दुकानों में ताले

नगर निगम के आधिपत्य में होने के बाद भी दुकानों को नहीं दिया जा रहा किराए पर भास्कर संवाददाता | मुरैना शहर के...

Danik Bhaskar

Apr 17, 2018, 04:00 AM IST
नगर निगम के आधिपत्य में होने के बाद भी दुकानों को नहीं दिया जा रहा किराए पर

भास्कर संवाददाता | मुरैना

शहर के बड़ोखर क्षेत्र में 15 लाख रुपए की लागत से बनाए हाट बाजार की दुकानें दो साल से ताले में बंद हैं। इससे जरूरतमंद लोगों को बिजनेस के अवसर नहीं मिल पा रहे हैं। लोगों की मांग के बाद भी नगर निगम हाट बाजार की दुकानों को किराए पर नहीं दे रहा है।

फाटक बाहर क्षेत्र में बड़ोखर माता मंदिर के पास पंचायत निकाय ने तीन साल पहले 15 लाख रुपए की लागत से हाट बाजार की पांच दुकानों का निर्माण कराया था। बड़ोखर पंचायत क्षेत्र को नगर निगम की सीमा में शामिल किए जाने के बाद हाट बाजार, निगम के आधिपत्य में आ गया। लेकिन बीते डेढ़ साल से हाट बाजार को चालू कराने के लिए नगर निगम ने कोइ्र्र प्रयास नहीं किए हैं। जबकि मौके की जगह पर दुकान चलाने के लिए कई लोग लालायित हैं। आलम यह है कि पांच में से एक दुकान एक हेयर कटिंग सैलून के रूप में कोई व्यक्ति चला रहा है लेकिन चार दुकानों पर ताले पड़े हैं।

महिलाओं को मिले प्राथमिकता : जरूरतमंद गरीब महिलाएं जो कम पूंजी में दुकान का संचालन करना चाहती हैं, उन्हें हाट बाजार की दुकानों का आवंटन किए जाने का मुद्दा कांग्रेस व बसपा के पार्षदों ने उठाया है। पार्षदों का कहना है कि जब उस क्षेत्र में बिजनेस बढ़ रहा है तो हाट बाजार में तालाबंदी किसलिए।

Click to listen..