शहीदों की प्रतिमा देख भर आई मां व बेटी की आंखें, बेटा बोला-फौज ज्वाइन कर पाकिस्तान को मिटा दूंगा, परिवार की आंखों में दर्द सिर्फ यही था...काश मेरा बेटा, मेरे पिता आज मेरे साथ होते / शहीदों की प्रतिमा देख भर आई मां व बेटी की आंखें, बेटा बोला-फौज ज्वाइन कर पाकिस्तान को मिटा दूंगा, परिवार की आंखों में दर्द सिर्फ यही था...काश मेरा बेटा, मेरे पिता आज मेरे साथ होते

व्यथा..बेटा शहीद हो गया, पार्क बनाने 2 लाख रुपए हमें लगाने पडे, शासन से न एक करोड रुपया मिला न नौकरी

Bhaskar News

Feb 25, 2019, 10:51 AM IST
Madhya Pradesh News In Hindi Unveiling the statue of Shaheed Jawan Shailendra Singh

मुरैना (एमपी)। 8 जून 2016 को पाय का पुरा के जवान शैलेंद्र सिंह व 12 अगस्त 2017 को जम्मू-कश्मीर में शहीद हुए तरसमा के जगराम सिंह तोमर आतंकवादी हमले में एक बार शहीद हुए लेकिन उनका परिवार हर साल, हर बार आंसू बहाता है। जब-जब शहीदों की शहादत याद आती है तो उनकी मां, बेटी व बेटा आंखों में आंसू भरकर रोते हैं। यही दर्द रविवार को भी नजर आया, जब शहीदों की प्रतिमा का अनावरण करने के लिए केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर गांव में पहुंचे। जैसे ही जनप्रतिनिधियों ने शहीदों की प्रतिमा का अनावरण किया अपने शहीद बेटे व पिता का चेहरा देखते ही मां-बेटी-बेटा की आंखों से आंसू झलक पड़े। दर्द सिर्फ यही था...काश मेरा बेटा, मेरे पिता आज मेरे साथ होते।

घूंघट के अंदर सिसकने लगी शहीद की पत्नी


रविवार को शहीद शैलेंद्र सिंह तोमर व शहीद जगराम सिंह तोमर के पैतृक गांव पाय का पुरा व तरसमा में उनकी प्रतिमा का अनावरण कार्यक्रम था। दोपहर डेढ़ बजे केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर दोपहर डेढ़ बजे गांव में पहुंचे। यहां शहीद शैलेंद्र सिंह तोमर की प्रतिमा का जैसे ही केंद्रीय मंत्री सहित पूर्वमंत्री रुस्तम सिंह, सांसद अनूप मिश्रा ने अनावरण किया। सामने बैठी शहीद शैलेंद्र की मां बीना तोमर की आंखें भर आईं। पत्नी अंकिता तोमर चेहरे पर घूंघट डालकर अंदर ही अंदर सिसक रही थी। मासूम बेटा आदित्य (10) तो मानो कुछ समझ ही नहीं पा रहा था। अम्मा-बाबा को रोता देखकर वह तो सिर्फ उदास था। पिता महेंद्र सिंह तोमर व बाबा उदयभान सिंह तोमर का कहना था कि हमारा बेटा शहीद हो गया लेकिन देश का नाम रोशन कर गया। केंद्रीय मंत्री ने प्रतिमा का अनावरण करने के बाद शहीद की मां को पुष्प भेंट कर अपनी सहानुभूति जताई और कहा कि-आपके बेटे ने देश की रक्षा के लिए अपने प्राणन्यौछावर किए हैं। यह देश उनकी कुर्बानी को हमेंशा याद रखेगा।


इसके बाद तोमर सीधे तरसमा गांव में पहुंचे। यहां भी लांस नायक जगराम सिंह की प्रतिमा का जैसे ही जनप्रतिनिधियों ने अनावरण किया वहां मौजूद जगराम सिंह की छोटी बेटी रोशनी तोमर (16) अपने पिता की प्रतिमा देखते ही फूट-फूटकर रोने लगी। पास ही बैठी मां ओमवती ने सिसकियां भरती बेटी को सहारा दिया...क्योंकि वह तो शहीद की पत्नी होने के साथ एक मां भी थी। सिसकियां भरती शहीद की बेटी को देखकर वहां मौजूद हर शख्स की आंखें भर आईं। केंद्रीय मंत्री तोमर ने यहां भी शहीद जवान के परिवार के सामने संवेदना प्रकट की और उनकी शहादत को सलाम किया।


आक्रोश: डेढ़ साल बीता, लेकिन शहीद के बेटा का आक्रोश वही, बोला-पाकिस्तान को मिटा दूंगा


शहीद जगराम सिंह तोमर के प्रतिमा अनावरण समारोह में मंच पर मौजूद उनका 13 साल का बेटा नीरज तोमर को मंच पर जब बुलाया गया तो उसने सबसे पहले अपने पिता की शहादत को सलाम किया। इसके बाद पुलवामा हमले में मृतक सीआरपीएफ जवानों को नमन करते हुए बोला-मेरे पापा शहीद हुए। मुझे इसका गम नहीं लेकिन मेरे पिता को मारने वाले पाकिस्तान परस्त आतंकवादी आज भी देश में दहशत फैला रहे हैं। मैं फौज में शामिल होकर आतंक परस्त पाकिस्तान को मिटा दूंगा। यहां बता दें कि जब शहीद जगराम सिंह तोमर की पार्थिव देह वर्ष 2017 में उनके गांव तरसमा पहुंची थी तब नीरज 11 साल का था। तब भी उसने यही कहा था कि मुझे कोई बता नहीं रहा मेरे पापा को किसने मारा है। लेकिन मैं पाकिस्तान को मिटा दूंगा। अंत में शहीद जगराम के नाती मयंक तोमर ने भी अंग्रेजी में स्पीच देकर देश के जवानों को सैल्यूट किया।


खुलासा: शहीद पार्क के नाम पर पिता को देने पड़े 2 लाख


शहीदों के प्रतिमा अनावरण समारोह के दौरान बड़ा ही गंभीर मुद्दा सामने आया। पाय का पुरा गांव में शहीद शैलेंद्र सिंह के पिता महेंद्र तोमर व चाचा महेश सिंह तोमर ने प्रतिमा अनावरण समारोह के दौरान केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को आवेदन दिया। इस आवेदन में उन्होंने स्पश्ट कहा कि-हमें अपने शहीद बेटे के नाम पर बन रहे पार्क के लिए अपनी जमापूंजी से 2 लाख रुपए देने पड़े हैं। जबकि सांसद अनूप मिश्रा शहादत के बाद गांव में आकर अपनी निधि से पार्क बनवाने की घोषणा करके गए थे। 3 लाख रुपए तो ठेकेदार ने लगाए। लेकिन दो लाख रुपए हमें खर्च करने पड़े। यह आवेदन केंद्रीय मंत्री ने मौके पर ही सांसद अनूप मिश्रा की ओर देने का इशारा किया। इस पर सांसद ने शहीद के परिजन को आश्वासन दिया कि जल्द ही सांसद निधि की राशि विभाग को स्वीकृत कर दी जाएगी।


तत्कालीन सरकार ने कहा था एक करोड़ देंगे, न राशि मिली न नौकरी


सेना के जवान शहीद शैलेंद्र सिंह तोमर की शहादत पर पूर्व की शिवराज सरकार ने 1 करोड़ की राशि देने व शहीद के परिजन को नौकरी देने की घोषणा की थी। शहीद के चाचा एड. महेश तोमर ने बताया कि जम्मू कश्मीर सरकार से 10 लाख व सेना द्वारा दी जाने वाली राशि के अलावा आज तक राज्य सरकार से घोषणा के अनुरूप परिजन को नौकरी तो छोड़िए उसकी पत्नी व मासूम बच्चे को एक रुपया भी नहीं दिया।

Madhya Pradesh News In Hindi Unveiling the statue of Shaheed Jawan Shailendra Singh
Madhya Pradesh News In Hindi Unveiling the statue of Shaheed Jawan Shailendra Singh
X
Madhya Pradesh News In Hindi Unveiling the statue of Shaheed Jawan Shailendra Singh
Madhya Pradesh News In Hindi Unveiling the statue of Shaheed Jawan Shailendra Singh
Madhya Pradesh News In Hindi Unveiling the statue of Shaheed Jawan Shailendra Singh
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना