• Hindi News
  • Rajya
  • Madhya Pradesh
  • Murena
  • Morena News mp news 120 rupees the shopkeeper was selling ghee at the rate of kilos on asking he said i make it from dalda and refined 118 kg goods sewage

120 रु. किलो के भाव से घी बेच रहा था दुकानदार, पूछने पर बोला- डालडा और रिफाइंड से बनाता हूं; 118 किलो माल सीज

Murena News - फूड सेफ्टी विभाग की टीम ने शहर की नाला नंबर-2 पर संचालित एक दुकान पर छापामार कार्रवाई की तो वहां 120 रुपए प्रति किलो के...

Bhaskar News Network

Oct 12, 2019, 08:31 AM IST
Morena News - mp news 120 rupees the shopkeeper was selling ghee at the rate of kilos on asking he said i make it from dalda and refined 118 kg goods sewage
फूड सेफ्टी विभाग की टीम ने शहर की नाला नंबर-2 पर संचालित एक दुकान पर छापामार कार्रवाई की तो वहां 120 रुपए प्रति किलो के भाव से घी बिकता हुआ मिला। दुकान पर मौजूद कर्मचारी से टीम ने पूछा कि इतना सस्ता घी कैसे बेच रहे हो तो उसने कहा कि हम रिफाइंड अाैर डालडा मिलाकर यह घी तैयार करते हैं। यह सुनकर फूड इंस्पेक्टराें की टीम ने यहां रखा 118 किलोग्राम घी सीज कर दिया। वहीं यहां बिकते मिले घी व तेल के सैंपल जांच के लिए भेजे। इसके अलावा एक अन्य दुकान से अचार के सैंपल भी भरे गए।

फूड सेफ्टी विभाग की टीम ने शुक्रवार को शहर के नाला नंबर 2 पर स्थित गिर्राज अग्रवाल निवासी गायत्री कॉलोनी की फर्म सोनू ट्रेडर्स पर छापा मारा। जब टीम ने दुकान की छानबीन की तो काउंटर के नीचे एक किलोग्राम व डेढ़ किलोग्राम के मान से पॉलीथिन में पैक घी के सैकड़ों पैकेट रखे मिले। जब पैकिंग खोलकर जांच की गई तो उसमें से डालडा की बदबू आ रही थी। दुकान पर मौजूद कर्मचारी ने पूछताछ में यह बात स्वीकार कर ली कि यह घी हम रिफाइंड व डालडा मिलाकर तैयार करते हैं और उसे 120 रुपए प्रतिकिलो के भाव से बेचते हैं। यहां रखे 118 किलोग्राम घी को सीज कर सैंपल लिए गए जिन्हें जांच के लिए भेजा जाएगा।

बता दें कि बाजार में भगवान पर चढ़ाने व अंतिम संस्कार के वक्त उपयोग होने वाले घी के नाम पर रिफाइंड व डालडा बेचकर आमजन को गुमराह कर रहे हैं। वहीं फूड सेफ्टी अधिकारी धर्मेंद्र जैन व रेखा सोनी, महेंद्र सिरोहिया की टीम ने मारकंडेश्वर बाजार में संचालित महेशचंद्र गोयल के एमके इंटरप्राइजेज से गोल्डी ब्रांड आम के अचार का सैंपल भी भरा। सैंपल की जांच रिपोर्ट लैब भेजी जाएगी। वहीं नकली घी को सीज कर दिया गया है।

इन 2 मामलों से फूड विभाग के अफसरों की कार्रवाई पर सवाल

1. 16 सितंबर को एबी (ग्वालियर) रोड पर संचालित पवन ऑइल्स प्रा. लिमिटेड पर छापामार कार्रवाई कर फूड सेफ्टी विभाग की टीम ने तेल में सरसों की खुशबू पैदा करने वाला एसेंस पकड़ा था। इस मामले में फैक्टरी के 4 संचालकों को बचाते हुए नॉमिनी नितिन पुत्र मोहनलाल शिवहरे के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर दी गई। जबकि नियम यह होता है कि फैक्टरी के अंदर मिलावटी खाद्य सामग्री पकड़ने पर फैक्टरी मालिक व दुकान पर मिलावटी खाद्य सामग्री पकड़े जाने पर संबंधित फैक्टरी के नॉमिनी के खिलाफ केस दर्ज कराया जाता है।

बाजार से सैंपल भरे जाएं, तो सामने आ जाएगी मिलावटखोरों की हकीकत

मुरैना सहित पोरसा से सबलगढ़ तक के बाजार में 100 प्रतिशत शुद्ध सरसों तेल लिखकर 10 तरह के ब्रांड की खुलेआम बिक्री हो रही है। जब फूड विभाग की टीम फैक्टरियों पर पहुंचती है तो वहां ब्लेंडेड लाइसेंस के नाम पर फैक्टरी संचालक कार्रवाई से बच जाते हैं। इनके बाजार में दुकानों पर बिकने वाले पैक्ड तेल की सैंपलिंग हो तो यह सच सामने आ जाएगा कि सरसों तेल में कौन-कौन से तेल मिलाए जा रहे हैं और उनमें किस तेल की कितने प्रतिशत मिलावट है, लेकिन अभी तक एक भी बार इस तरह की कार्रवाई नहीं की गई।

नकली घी को चेक करती फूड सेफ्टी विभाग की टीम।

एफआईआर के मामले में हम नॉर्म्स दिखवाएंगे


2. 4 अक्टूबर को एबी रोड पर स्थित ऋषभ इंटरप्राइजेज ऑइल मिल पर 50 लाख रुपए का मिश्रित तेल पकड़ा गया था। इस फैक्टरी में एक ही टीन पर 2 तरह के ब्रांड आसाम गोल्ड व मोर के स्टीकर अंकित थे। साथ ही एक ही ब्रांड में दो अलग-अलग तरह के तेल का कंटेंट तैयार कर भरा जा रहा था। यह फैक्टरी पवन जैन पुत्र स्व. ओमप्रकाश जैन की है जो उस वक्त फैक्टरी में मौजूद थे। लेकिन फर्म दस्तावेजों में संचालक उनकी प|ी शशि जैन है। लेकिन एफआईआर में फैक्टरी मालिक शशि जैन को आरोपी बनाया गया।

रिफाइनरियों में डीओ-कनोला मिलाकर रोज तैयार हो रहा 40 से 50 टैंकर तेल

सरसों तेल में मिलावट करने वाली मिलों पर एक महीने से जारी कार्रवाई पर अब सवाल उठने लगे हैं। अभी तक फूड सेफ्टी विभाग की टीम ने तकरीबन 10 से 12 तेल मिलों पर पहुंचकर सैंपलिंग की कार्रवाई की। इनमें से 2 तेल मिलों पर एसेंस व अन्य तेल की मिलावट करने के मामले में एफआईआर दर्ज कराई जा चुकी है लेकिन अभी तक शहर में संचालित 4 रिफाइनरियों पर न तो छापेमार कार्रवाई हुई न सैंपलिंग। इन रिफाइनरियों में रोज अखाद्य तेल जैसे डीओ (डिगम ऑइल) व कनोल को 15 से 20 तरह के केमिकल से रिफाइंड कर सरसों तेल में मिलाया जा रहा है। इन रिफाइनरियों से रोज 40 से 50 टैंकर तेल स्टैंडर्ड पैकिंग में रोज दूसरे प्रांतों में सप्लाई किया जा रहा है।

X
Morena News - mp news 120 rupees the shopkeeper was selling ghee at the rate of kilos on asking he said i make it from dalda and refined 118 kg goods sewage
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना