1.36 लाख किसानों का सात वर्ष से रिकॉर्ड में नहीं चढ़ा लगान, हर साल वसूले जा रहे 60 लाख रुपए

Murena News - किसानों का आरोप- लगान को लेकर कोई न कोई गड़बड़ी जरूर है... जिलेभर के 1 लाख 36 लाख किसानों के खाते में सात वर्ष से लगान...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 08:30 AM IST
Morena News - mp news 136 lakh farmers have not been in the record for seven years not less than 60 lakh rupees for every year
किसानों का आरोप- लगान को लेकर कोई न कोई गड़बड़ी जरूर है...

जिलेभर के 1 लाख 36 लाख किसानों के खाते में सात वर्ष से लगान राजस्व को ऑनलाइन रिकाॅर्ड दर्ज नहीं किया गया है। सभी किसानों के खाते में बकाया राशि दिख रही है। तहसीलदार और पटवारी समस्या को सुनने तक के लिए तैयार नहीं हैं। इस वजह से किसान परेशान हो रहे हैं। किसान शिव सिंह सिकरवार, देवेंद्र सिंह तोमर, राकेश सिंह, ब्रजकिशोर सिंह तोमर, योगेंद्र सिंह तोमर, गोविंद प्रसाद शर्मा, विजेंद्र सिंह तोमर सहित अन्य किसानों का कहना है कि जब शासन ने सभी किसानों के खाते ऑनलाइन कर दिए हैं तो हमारे द्वारा हर साल भरी जा रही लगान यानि राजस्व राशि को भी रिकॉर्ड में अंकित क्यों नहीं किया जा रहा। किसानों का आरोप है कि इस मामले में कोई न कोई गड़बड़ी जरूर है।

पटवारियों ने किसानों के रकबा में की गड़बड़ी, संशोधन करने में भी आनाकानी

शासन ने 2012 से सभी किसानों के खातों का हिसाब ऑनलाइन करवा दिया है लेकिन पटवारियों ऑनलाइन रिकाॅर्ड में कई किसानों के रकबा को कम कर दिया गया है। इसकी शिकायत किसानों ने पटवारियों से की है लेकिन संशोधन को लेकर पटवारियों द्वारा किसानों को नियम बताए जा रहे हैं, जबकि गलती पटवारी की। इसका मुख्य कारण वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा लापरवाही को लेकर संबंधित के खिलाफ कोई कार्रवाई न करना है। इस वजह से पटवारी अपनी मनमानी करते हैं।

किसान चक्कर काटते हैं और एक से दो हजार रुपए देते हैं, तब होता है संशोधन

शासन एक तरफ किसानों को हर सुविधा मुहैया कराने की बात कह रहा है। वहीं दूसरी ओर राजस्व अधिकारी किसानों के खातों में गड़बड़ी कर उनके लिए हर साल मुसीबत खड़ी कर रहे हैं। किसानों को खाता संशोधन कराने के लिए एक से दो हजार रुपए तक खर्च करना पड़ता है। तहसील कार्यालय में महीनों तक चक्कर लगाने पड़ते हैं। पटवारी हमेशा किसानों के खातों से छेड़छाड़ करते रहते हैं। इसकी शिकायत के बाद भी वरिष्ठ अधिकारी कोई कार्रवाई नहीं करते हैं।

नकल निकलवाने के नाम पर मनमानी वसूली: शासन ने खेती संबंधी नकल निकलवाने के लिए अंबाह एसडीएम परिसर में विंडो खोली है। विंडो पर किसानों से नकल निकलवाने के लिए एक नंबर के 30 रुपए वसूले जा रहे हैं। बता दें कि एक किसान के खेत के 12 नंबर है तो उसे नकल के लिए 360 रुपए जमा करना पड़ते हैं, तब जाकर उसे नकल मिलती है। इससे पहले 10 रुपए के आवेदन पर नकल मिल जाती थी। किसानों से नकल के नाम अवैध वसूली की जा रही है, लेकिन अधिकारी कोई कार्रवाई नहीं कर रहे।

लगान राजस्व ऑनलाइन चढ़ाने के लिए पटवारियों को करूंगा निर्देशित


लगान ऑनलाइन रिकाॅर्ड में क्यों नहीं चढ़ा, इसकी जानकारी ली जाएगी


X
Morena News - mp news 136 lakh farmers have not been in the record for seven years not less than 60 lakh rupees for every year
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना