परमात्मा को केवल मानो नहीं, जानो भी: मेरुदेवा

Murena News - परमात्मा को केवल मानो नहीं, अपितु जानो भी, क्याेंकि शाश्वत ब्रह्मज्ञान को प्राप्त किए बिना मनुष्य को ईश्वर की...

Feb 18, 2020, 08:25 AM IST
Morena News - mp news don39t just believe in god but also know it merudeva

परमात्मा को केवल मानो नहीं, अपितु जानो भी, क्याेंकि शाश्वत ब्रह्मज्ञान को प्राप्त किए बिना मनुष्य को ईश्वर की भक्ति प्राप्त नहीं हो नहीं की जा सकती। यह उपदेश दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान टॉउन में आयोजित भागवत कथा के पहले दिन दिल्ली से पधारी विदुषी मेरूदेवा भारती सोमवार को श्रद्धालुओं को सुना रहीं थीं। भागवत कथा के पहले दिन राजा परीक्षित की कथा सुनाई गई। जिसे सुनने के लिए काफी संख्या में श्रद्धालु मौजूद थे।

मेरूदेवा भारती ने उपदेशों के जरिए बताया कि भक्ति का अर्थ है परमात्मा से जुड़़ जाना। शाश्वत भक्ति के अभाव में मनुष्य मन माने तरीके से भक्ति कर रहा है। इसलिए उनमें सच्चा ज्ञान व वैराग्य उत्पन्न नहीं हो रहा। भक्ति करने के बावजूद भी वर्तमान में मनुष्य विषय-विकारों की ओर बढ़ रहा है तथा अपने जीवन का पतन कर रहा है। कार्यक्रम के बीच में संगीतमयी भजनों की प्रस्तुती श्रद्धालुओं के प्रमुख आकर्षण का केंद्र रही। भारती ने कहा कि भाव के बिना भक्ति हनीं की जा सकती। भक्ति का प्रारंभ संतों की शरण में जाने से होता है।

भागवत कथा का रसपान करातीं मेरुदेवा भारती।

भक्ति को दृष्टि से स्मृति तक ले जाने के लिए भजन आवश्यक: शास्त्री

मुरैना | भगवान का नाम लेने एवं उनके दर्शनों का लाभ प्राप्त करने का काफी महत्व है। पर अगर हम ईश्वर की कृपा प्राप्त कर वास्तव में मुक्ति की ओर अग्रसर होना चाहते हैं तो भक्ति को स्मृति तक ले जाना होगा और स्मृति भजन से ही आती है। हमारी दिनचर्या ऐसी हो कि हर समय परमपिता परमात्मा का ध्यान हमारे साथ बना रहे।

यह बात शहर से सटे दाऊजी मंदिर पर आयोजित भागवत कथा में भागवताचार्य अवध बिहारी शास्त्री सोमवार को कह रहे थे। शास्त्री ने कथा में बताया कि भजन के साथ भगवत कथा भी प्रभु की स्मृति को गहराई तक ले जाती है। उन्होंने देवभूति और करधन ऋषि के प्रसंग को सुनाते हुए कहा कि उन्हें पुत्र के रूप में कपिल देव मिले। कथा कहती है कि पुत्र के रूप में स्वयं ईश्वर मिलने के बाद भी उन्होंने परमात्मा के भजन को जारी रखा क्योंकि पुत्र के रूप में वह भगवान के दर्शन तो कर सकते थे पर स्मृति के लिए भजन ही आवश्यक था। सोमवार को यहां श्रद्धालुओं को परीक्षित जन्म, कुंती स्तुति, भीष्म पितामह की कथा कथा सुनाई गई।

Morena News - mp news don39t just believe in god but also know it merudeva
X
Morena News - mp news don39t just believe in god but also know it merudeva
Morena News - mp news don39t just believe in god but also know it merudeva

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना