बुक सेलर संशोधित मूल्य की सील लगाकर पुरानी किताबों को बेच रहे महंगे दामों पर, अभिभावकाें से ले रहे 15% अतिरिक्त रु

Murena News - भास्कर संवाददाता|मुरैना/जौरा नया शिक्षा सत्र, अभिभावकों के लिए आर्थिक बोझ लेकर आया है। स्कूल संचालकों की बढ़ी...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 08:30 AM IST
Morena News - mp news the book seller is selling a revised value seal at expensive prices selling 15 extra money from parents
भास्कर संवाददाता|मुरैना/जौरा

नया शिक्षा सत्र, अभिभावकों के लिए आर्थिक बोझ लेकर आया है। स्कूल संचालकों की बढ़ी फीस से लेकर उन्हें कोर्स की किताबों पर प्रिंट से अधिक रेट वसूले जा रहे हैं। यह सब एनसीईआरटी सिलेबस की किताबों पर हो रहा है लेेकिन शिक्षा विभाग के अफसर इस मामले में कार्रवाई के प्रति उदासीन बने हुए हैं। इस हाल में अभिभावकों को किताबों की खरीद पर 10 से 15 फीसदी अधिक भुगतान करना पड़ रहा है।

राज्य शिक्षा केन्द्र ने 2019-20 के लिए एनसीईआरटी सिलेबस की किताबों के रेट 10 से 15 फीसदी बढ़ाए हैं। नई रेट की किताबें अभी पुस्तक बाजार में नहीं आई हैं। जिन किताबों का प्रकाशन 2018-19 में किया गया था उन पुस्तकों के प्रिंट रेट के ऊपर संशोधित मूल्य की सील लगाकर बुकसेलर अधिक पैसा वसूल रहे हैं। उदाहरण के तौर पर देखें तो नवमीं कक्षा के एनसीईआरटी सिलेबस के गणित पर 122 रुपए रेट प्रिंट है। लेकिन इस किताब को बाजार में 140 रुपए मूल्य पर बेचा जा रहा है। अभिभावकों को संशोधित रेट पर भरोसा हो उसके लिए मप्र पाठ्य पुस्तक निगम की सील लगाकर संशोधित रेट के ठप्पे लगाए जा रहे हैं। खास बात यह है कि अभिभावक को पुस्तक बाजार में कोर्स की किताब खरीदने पर बिल भी नहीं दिए जा रहे हैंं।

शिक्षा विभाग के अधिकारी इसे गलत तो मान रहे हैं लेेकिन कार्रवाई के सवाल पर चुप्पी साध जाते हैं

एनसीईआरटी की किताबों को प्रिंट रेट से अधिक दामों पर बेचा जा रहा है।

ऐसे समझिए कोर्स के रेट

कक्षा छह, सात व आठ में एनसीईआरटी सिलेबस की हिंदी, गणित, साइंस, सोशल साइंस, संस्कृत, अंग्रेजी व सहायक वाचन की सात किताबें, कोर्स में चलाई जा रही हैं। कक्षा 6 की किताबों के पुराने रेट 301 रुपए प्रिंट हैं उनके स्थान पर अभिभावक से 317 रुपए लिए जा रहे हैं। सातवीं का कोर्स 340 रुपए में मिलना चाहिए उसकी जगह 358 रुपए लिए जा रहे हैं। आठवीं की किताबों का भुगतान 441 रुपए लिया जा रहा है जबकि पुराने रेट 420 रुपए के हैं। नवमीं व दसवीं के कोर्स में गणित व विज्ञान विषय की किताबों के रेट बढ़ाए गए हैं। कक्षा नौ की किताब 460 के स्थान पर 491 रुपए में और दसवीं की किताबों के कोर्स पर 511 के स्थान पर 551 रुपए लिए जा रहे हैं। प्राइमरी कक्षाओं की बात करें तो पहली क्लास के कोर्स पर सात रुपए, दूसरी के नौ रुपए, तीसरी पर 10 रुपए, चौथी क्लास पर 10 रुपए प पांचवी कक्षा के कोर्स पर 11 रुपए अधिक लिए जा रहे हैं। ये सभी किताबें बाजार में पुराने प्रिंट की बेची जा रही हैं।

इधर... 22 हजार किताबों से हटाया शिवराज का संदेश

कांग्रेस की नई सरकार के आदेश पर मप्र पाठय पुस्तक निगम ने स्टॉक में रखीं 22 हजार किताबों में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के छपे संदेश को हटवा दिया है। निगम सूत्रों का कहना है कि बाजार में जो वेंडर पुरानी किताबों का स्टॉक रखे हैं उन्हें पूर्व सीएम के संदेश वाला पेज किताब से हटा देना चाहिए। इसे अधिकारी स्थानीय स्तर पर देख सकते हैं। निगम का कहना है कि जिन सरकारी स्कूलों में एनसीईआरटी की जो किताबें राज्य शिक्षा केन्द्र ने भेजी हैं उनमें पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का कोई संदेश प्रकाशित नहीं है।

ज्यादा पैसे लेने की शिकायत पर होगी कार्रवाई


X
Morena News - mp news the book seller is selling a revised value seal at expensive prices selling 15 extra money from parents
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना