वीआईपी रोड: 56 लाख देने निगम पर फंड नहीं एसएएफ अफसरों ने रुकवाया सड़क का निर्माण

Murena News - नगर निगम व एसएएफ बटालियन के अफसरों के बीच 56 लाख रुपए के लेनदेन का विवाद नहीं सुलझने से वीआईपी रोड का काम तीन महीने से...

Bhaskar News Network

Mar 17, 2019, 04:01 AM IST
Morena News - mp news vip road construction of road stopped by saf officers not giving funds to 56 lacs
नगर निगम व एसएएफ बटालियन के अफसरों के बीच 56 लाख रुपए के लेनदेन का विवाद नहीं सुलझने से वीआईपी रोड का काम तीन महीने से बंद है। एसएएफ के अफसर 56 लाख रुपए की पहली किस्त का पैसा नहीं मिलने से खफा हैं। उन्होंने ठेकेदार को सड़क बनाने से रोक दिया है। दिसंबर तक सड़क का जितना निर्माण हुआ था, उसके बाद आगे नहीं बढ़ सका है। वीआईपी रोड नहीं बनने से शहर के लोगों को शॉर्टकट रूट से ग्वालियर जाने की सुविधा नहीं मिल पा रही है।

इस सड़क का निर्माण इसलिए कराया गया ताकि हाईवे पर ट्रैफिक जाम की दशा में लोग बाजार से सीधे ग्वालियर की ओर निकल सकें लेकिन जमीन व पैसों के विवाद ने इसका काम रोक दिया है। इससे जाहिर है कि बटालियन के अफसरों से लेकर नगर निगम के जनप्रतिनिधियों व अधिकारियों को लोगों की सुविधाओं से कोई सरोकार नहीं है। वीआईपी रोड कंपलीट न होने से जनता को जो परेशानी हो रही है उसे कलेक्टर प्रियंका दास व विधायक रघुराज सिंह कंसाना ने भी गंभीरता से नहीं लिया है। बटालियन के कमांडेंट सड़क निर्माण में बाधा बने हुए हैं। निगमायुक्त भी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं।

वीआईपी रोड नहीं बनने से एमएस रोड व बैरियर पर दिनभर रहते हैं ट्रैफिक जाम के हालात

एसएएफ के इन्हीं क्वार्टर काे तोड़कर बनाई जानी है वीआईपी रोड, जिससे यह सड़क सीधी हो जाएगी।

निगम को पहली किस्त में एसएएफ को देने हैं 56 लाख रु.

वीआईपी रोड के निर्माण में एसएएफ की जमीन का एक हिस्सा आ रहा है। इसे लेकर तत्कालीन कलेक्टर विनोद शर्मा की मौजूदगी में तय हुआ था कि बटालियन के 15 आवास तोड़ने के एवज में नगर निगम 2.26 करोड़ रुपए की राशि एसएएफ को जमा कराएगा। पहली किस्त के रूप में निगम को 56 लाख रुपए की राशि एसएएफ को प्रदान करना थी लेकिन बीते चार महीने से यह पैसा निगम ने एसएएफ को ट्रांसफर नहीं किया है। अनुबंध का पालन दोनों पक्षों ने ठीक से किया या नहीं, इसका रिव्यू करने का प्रयास वर्तमान कलेक्टर प्रियंका दास ने एक बार भी नहीं किया है। इस हाल में एसएएफ अफसर वीआईपी रोड के निर्माण कार्य को रोके हुए हैं। वहीं निगम भी पैसे का प्रबंध कर 56 लाख रुपए की अदायगी के मूड में नहीं है। कलेक्टर दोनों एजेंसियों को अपने समक्ष बुलाकर सुनवाई करें तो वीआईपी रोड का निर्माण कार्य जल्द पूरा हाे सकेगा क्योंकि यह मुद्दा शहर के सवा दो लाख लोगों की आवागमन की सुविधा से जुड़ा हुआ है।

15 आवास टूटें तो सीधी बनेगी सड़क

विशेष सशस्त्र बल (एसएएफ) के 15 आवास वीआईपी रोड को सीधा बनाने में बाधा बने हुए हैं। नगर निगम चाहता है कि ये आवास तोड़कर सड़क को सीधा बिछाया जाए लेकिन एसएएफ के अफसर आवास तोड़ने ही नहीं दे रहे हैं। इसके अलावा संजय काॅलोनी साइड में बटालियन के प्रवेश द्वार को तोड़कर उसे चौड़ा करना है ताकि वहां सड़क को 60 फीट की चौड़ाई में बनाया जा सके लेकिन बटालियन के अफसर गेट को तोड़कर सड़क नहीं बनाने दे रहे हैं।

ढाबा नहीं तोड़ने दे रहे

नगर निगम अफसरों का कहना है कि एसएएफ पेट्राेल पंप के बगल में एसएएफ के स्वामित्व का एक बहुत पुराना ढाबा भवन है। निगम उस ढाबा को तोड़कर उस जगह का उपयोग सड़क बिछाने के लिए करना चाहता है। निगम पुराने ढाबा को किसी नई जगह पर बनाकर देने को तैयार है लेकिन बटालियन के अफसर न जगह बता रहे हैं न ढाबा तोड़कर सड़क बनाने के काम को आगे बढ़ने दे रहे हैं।

फंड आने पर देंगे रुपए


निगम राशि नहीं दे रहा


जल्द साथ में करेंगे बैठक


X
Morena News - mp news vip road construction of road stopped by saf officers not giving funds to 56 lacs
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना