• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Nagda
  • Nagda - शांतिनाथ जिनालय में जन्म वाचन महोत्सव में चढ़ावे की बोलियां लगीं
--Advertisement--

शांतिनाथ जिनालय में जन्म वाचन महोत्सव में चढ़ावे की बोलियां लगीं

पर्युषण पर्व के छठे दिन मंगलवार सुबह 11 बजे जैन कॉलोनी स्थित शांतिनाथ जैन मंदिर में साध्वीश्री तत्वदर्शना श्रीजी...

Dainik Bhaskar

Sep 12, 2018, 04:31 AM IST
Nagda - शांतिनाथ जिनालय में जन्म वाचन महोत्सव में चढ़ावे की बोलियां लगीं
पर्युषण पर्व के छठे दिन मंगलवार सुबह 11 बजे जैन कॉलोनी स्थित शांतिनाथ जैन मंदिर में साध्वीश्री तत्वदर्शना श्रीजी मसा की निश्रा में वीर जन्म वाचन महोत्सव मनाया गया। जन्म के पन्ने का वाचन करते ही श्रावकगणों ने प्रभु महावीर स्वामी के जयकारे लगाए और खुशियां मनाईं। जिनालय में देर रात तक धार्मिक कार्यक्रमों का दौर जारी रहा।

सुबह 7 बजे पाठशाला भवन से चल समारोह के रूप में साध्वीवर्या शांतिनाथ जिनालय पहुंची। सुबह 9 बजे साध्वीश्री ने कल्पसूत्र का वाचन कर प्रभु महावीर के शासन का गुणगान किया। वार्षिक अष्ठप्रकारी पूजन के चढ़ावे का आयोजन किया गया। केसर पूजा का लाभ भेरूलाल पारसमल मेवानगर वाले ने लिया। प्रभु महावीर स्वामी की माता त्रिशला रानी ने गर्भस्थ अवस्था में जो 14 स्वप्न देखे थे, उनके चढ़ावे का आयोजन किया गया। इसमें सर्वाधिक चढ़ावा चौथे स्वप्न लक्ष्मीजी का गया, जिसका लाभ राजेंद्र संध्या मेहता परिवार ने लिया। साध्वीश्री को जन्म के पाने वेहराने का लाभ शारदा सौरभ नागदा परिवार ने लिया। पालनाजी का लाभ दाखाबाई शांतीलाल सकलेचा परिवार ने लिया। मंदिर के पुजारी व धार्मिक पाठशाला की अध्यापिका कोमल चौधरी, मंदिर में आठ दिन तक अंगरचना करने वाले नवयुवकों का बहुमान ट्रस्ट मंडल द्वारा किया गया। महोत्सव को स्थानीय महावीर संगीत मंडल ने संगीतमय कर दिया। संचालन संघ अध्यक्ष सुनील वागरेचा ने किया। आभार ट्रस्ट मंडल अध्यक्ष ब्रजेश बोहरा ने माना। स्वामी वात्सल्य का लाभ बोहरा व भारतीय परिवार ने लिया।

जन्म और मृत्यु शाश्वत सत्य है

साध्वीश्री तत्वदर्शना श्रीजी मसा ने धर्मसभा को संबोधित कर कहा कि यह शाश्वत सत्य है कि व्यक्ति ने जन्म लिया है, तो उसकी मृत्यु होगी। मृत्यु कब आए जाए और मानव शरीर से प्राण कब निकल जाएं, इसका किसी को भी अंदेशा नहीं है। आज जो हमें अपने हाथों से दान दिया है, वह पुण्य के रूप में दुखों को भी कम करेगा और अगले जन्म में भी हमारा साथ देगा। साध्वीश्री ने धर्मसभा में मंच से प्रेरणा दी कि शांतिनाथ मंदिर में जो स्वप्नाजी और पालनाजी अष्ठ धातु के हैं, उन्हें चांदी की धातु में निर्मित करें। साध्वीश्री की प्रेरणा को अंगीकार कर कई श्रद्धालुओं ने चांदी के सहमति प्रदान की। साध्वीश्री ने धर्मसभा में शांतिनाथ मंदिर के भूमिदाता हुकमचन्द्र एवं बाबूलाल बोहरा परिवार की भी अनुमोदना की।

धर्मसभा में साध्वीवर्या ने कहा- आज का दान दुखों के साथ अगले जन्म में भी हमारा साथ देगा

देर रात तक चली भजनों की प्रस्तुति

रात 8 बजे शांतिनाथ जैन मंदिर में भक्ति संध्या का आयोजन किया गया। महावीर संगीत मंडल के आशीष चौधरी, चंद्रप्रकाश नागदा, सुरेश नाहटा, अभिषेक कोलन, आयुष बोहरा के भजनों की प्रस्तुति पर श्रद्धालु देर रात तक झूमते रहे। 36 आकर्षक लक्की ड्राॅ का आयोजन किया गया। जन्म महोत्सव के मौके पर प्रथम बार मंदिर प्रेरणादाता पुण्य सम्राट आचार्य देवेश जयंतसेन सूरीश्वरजी मसा की महाआरती व अंगरचना की गई। करीब 12 से 15 घंटे में तैयार अंगीरचना का कार्य राजेश गेलड़ा, यश गेलड़ा, विपुल कोठारी, ऋषभ वागरेचा, आयुष बोहरा, प्रिंस गेलड़ा, आदित्य मेहता, हिमांशु गादिया, अमय गेलड़ा आदि ने किया।

कल संवत्सरी महापर्व आराधना

श्रीसंघ मीडिया प्रभारी विपिन वागरेचा बताया कि साध्वीश्री की निश्रा में गुरुवार को पाठशाला भवन में संवत्सरी महापर्व का आयोजन होगा। संवत्सरी महापर्व पर सुबह 5.30 बजे राई प्रतिक्रमण, सुबह 6.30 बजे भक्तांबर, 7 बजे प्रभात फेरी, सुबह 8 बजे बारसा सूत्र का वाचन, दोपहर 12.15 बजे चैत्य परिपाटी और दोपहर 3 बजे संवत्सरी महा प्रतिक्रमण कर 84 लाख जीवयोनी से क्षमायाचना की जाएगी।

रथयात्रा को लेकर साधारण सभा

तपस्या के अनुमोदना में साध्वीश्री की निश्रा में सोमवार को आयोजित रथयात्रा की तैयारी अंतिम चरण पर है। मंगलवार दोपहर 2.30 बजे संघ अध्यक्ष सुनील वागरेचा, सचिव राकेश ओरा, चातुर्मास समिति अध्यक्ष मनीष सालेचा, सचिव निर्मल छोरिया के मार्गदर्शन में महिला मंडल, नवयुवक मंडल व नवयुवक ग्रुप के अध्यक्ष व सचिव वर्ग की साधारण सभा हुई। इस दौरान सभी मंडलों के सुझाव को जानकर मंडल अध्यक्ष एवं सचिव को रथयात्रा की व्यवस्था सौंपी गई।

देर रात तक चली भजनों की प्रस्तुति

रात 8 बजे शांतिनाथ जैन मंदिर में भक्ति संध्या का आयोजन किया गया। महावीर संगीत मंडल के आशीष चौधरी, चंद्रप्रकाश नागदा, सुरेश नाहटा, अभिषेक कोलन, आयुष बोहरा के भजनों की प्रस्तुति पर श्रद्धालु देर रात तक झूमते रहे। 36 आकर्षक लक्की ड्राॅ का आयोजन किया गया। जन्म महोत्सव के मौके पर प्रथम बार मंदिर प्रेरणादाता पुण्य सम्राट आचार्य देवेश जयंतसेन सूरीश्वरजी मसा की महाआरती व अंगरचना की गई। करीब 12 से 15 घंटे में तैयार अंगीरचना का कार्य राजेश गेलड़ा, यश गेलड़ा, विपुल कोठारी, ऋषभ वागरेचा, आयुष बोहरा, प्रिंस गेलड़ा, आदित्य मेहता, हिमांशु गादिया, अमय गेलड़ा आदि ने किया।

कल संवत्सरी महापर्व आराधना

श्रीसंघ मीडिया प्रभारी विपिन वागरेचा बताया कि साध्वीश्री की निश्रा में गुरुवार को पाठशाला भवन में संवत्सरी महापर्व का आयोजन होगा। संवत्सरी महापर्व पर सुबह 5.30 बजे राई प्रतिक्रमण, सुबह 6.30 बजे भक्तांबर, 7 बजे प्रभात फेरी, सुबह 8 बजे बारसा सूत्र का वाचन, दोपहर 12.15 बजे चैत्य परिपाटी और दोपहर 3 बजे संवत्सरी महा प्रतिक्रमण कर 84 लाख जीवयोनी से क्षमायाचना की जाएगी।

रथयात्रा को लेकर साधारण सभा

तपस्या के अनुमोदना में साध्वीश्री की निश्रा में सोमवार को आयोजित रथयात्रा की तैयारी अंतिम चरण पर है। मंगलवार दोपहर 2.30 बजे संघ अध्यक्ष सुनील वागरेचा, सचिव राकेश ओरा, चातुर्मास समिति अध्यक्ष मनीष सालेचा, सचिव निर्मल छोरिया के मार्गदर्शन में महिला मंडल, नवयुवक मंडल व नवयुवक ग्रुप के अध्यक्ष व सचिव वर्ग की साधारण सभा हुई। इस दौरान सभी मंडलों के सुझाव को जानकर मंडल अध्यक्ष एवं सचिव को रथयात्रा की व्यवस्था सौंपी गई।

देर रात तक चली भजनों की प्रस्तुति

रात 8 बजे शांतिनाथ जैन मंदिर में भक्ति संध्या का आयोजन किया गया। महावीर संगीत मंडल के आशीष चौधरी, चंद्रप्रकाश नागदा, सुरेश नाहटा, अभिषेक कोलन, आयुष बोहरा के भजनों की प्रस्तुति पर श्रद्धालु देर रात तक झूमते रहे। 36 आकर्षक लक्की ड्राॅ का आयोजन किया गया। जन्म महोत्सव के मौके पर प्रथम बार मंदिर प्रेरणादाता पुण्य सम्राट आचार्य देवेश जयंतसेन सूरीश्वरजी मसा की महाआरती व अंगरचना की गई। करीब 12 से 15 घंटे में तैयार अंगीरचना का कार्य राजेश गेलड़ा, यश गेलड़ा, विपुल कोठारी, ऋषभ वागरेचा, आयुष बोहरा, प्रिंस गेलड़ा, आदित्य मेहता, हिमांशु गादिया, अमय गेलड़ा आदि ने किया।

कल संवत्सरी महापर्व आराधना

श्रीसंघ मीडिया प्रभारी विपिन वागरेचा बताया कि साध्वीश्री की निश्रा में गुरुवार को पाठशाला भवन में संवत्सरी महापर्व का आयोजन होगा। संवत्सरी महापर्व पर सुबह 5.30 बजे राई प्रतिक्रमण, सुबह 6.30 बजे भक्तांबर, 7 बजे प्रभात फेरी, सुबह 8 बजे बारसा सूत्र का वाचन, दोपहर 12.15 बजे चैत्य परिपाटी और दोपहर 3 बजे संवत्सरी महा प्रतिक्रमण कर 84 लाख जीवयोनी से क्षमायाचना की जाएगी।

रथयात्रा को लेकर साधारण सभा

तपस्या के अनुमोदना में साध्वीश्री की निश्रा में सोमवार को आयोजित रथयात्रा की तैयारी अंतिम चरण पर है। मंगलवार दोपहर 2.30 बजे संघ अध्यक्ष सुनील वागरेचा, सचिव राकेश ओरा, चातुर्मास समिति अध्यक्ष मनीष सालेचा, सचिव निर्मल छोरिया के मार्गदर्शन में महिला मंडल, नवयुवक मंडल व नवयुवक ग्रुप के अध्यक्ष व सचिव वर्ग की साधारण सभा हुई। इस दौरान सभी मंडलों के सुझाव को जानकर मंडल अध्यक्ष एवं सचिव को रथयात्रा की व्यवस्था सौंपी गई।

X
Nagda - शांतिनाथ जिनालय में जन्म वाचन महोत्सव में चढ़ावे की बोलियां लगीं
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..