• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Nagda
  • बजट खत्म हो गया, छात्राएं परीक्षा तक होस्टल में रह सकती हैं, पर सुरक्षा खुद करना होगी...कोई गड़बड़ हुई तो हम जिम्मेदार नहीं
--Advertisement--

बजट खत्म हो गया, छात्राएं परीक्षा तक होस्टल में रह सकती हैं, पर सुरक्षा खुद करना होगी...कोई गड़बड़ हुई तो हम जिम्मेदार नहीं

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:45 AM IST

Nagda News - श्रीराम कॉलोनी स्थित कन्या छात्रावास में रहने वाली कॉलेज छात्राओं के लिए मुसीबत खड़ी हो गई है। पहले तो बजट खत्म...

बजट खत्म हो गया, छात्राएं परीक्षा तक होस्टल में रह सकती हैं, पर सुरक्षा खुद करना होगी...कोई गड़बड़ हुई तो हम जिम्मेदार नहीं
श्रीराम कॉलोनी स्थित कन्या छात्रावास में रहने वाली कॉलेज छात्राओं के लिए मुसीबत खड़ी हो गई है। पहले तो बजट खत्म होने का हवाला देकर सभी को घर जाने का कह दिया गया था, जबकि 5 मई से उनकी परीक्षाएं शुरू हो रही हैं। ऐसे में परेशानी थी कि अब वे रहेंगी कहां। बात बढ़ी और कलेक्टर को शिकायत पहुंची, तो सशर्त अनुमित दी गई। शपथ पत्र पर छात्राओं से लिखवाया गया है कि वे रह तो सकती हैं, लेकिन खाने और सुरक्षा की जिम्मेदारी उनकी खुद की होगी। अगर कोई गड़बड़ी होती है, तो जिम्मेदारी छात्रावास की नहीं होगी।

छात्राओं को जब बजट का हवाला देकर घर जाने के लिए कहा गया, तो उन्होंने स्वामी विवेकानंद शासकीय कॉलेज छात्रसंघ अध्यक्ष सोनम कुरैशी से मदद मांगी। अध्यक्ष ने कलेक्टर को पत्र लिखकर फैक्स किया। छात्राओं की परेशानी को देखते हुए छात्रावास अधीक्षिका सविता दुबे ने छात्राओं को रहने की अनुमति दे दी है। हालांकि बजट खत्म होने की वजह से छात्राओं को भोजन की व्यवस्था स्वयं ही करना होगी। इसके अलावा सुरक्षा की जिम्मेदारी भी स्वयं की होगी। अधीक्षिका व चौकीदार मौजूद रहेंगे, लेकिन कोई घटना-दुर्घटना होती है तो इससे छात्रावास का कोई लेना-देना नहीं होगा। अधीक्षिका दुबे के अनुसार अनुमति वरिष्ठ कार्यालय को अवगत कराने के बाद दी गई है। गौरतलब है कि कॉलेज की करीब 20 अजा वर्ग की छात्राओं की परीक्षा 5 मई से शुरू हो रही है।

सिर्फ कॉलेज छात्राओं को है अनुमति

अधीक्षिका सविता दुबे के मुताबिक छात्राओं की परेशानी को लेकर वरिष्ठ कार्यालय से मार्गदर्शन मांगा था। जिस पर उन्होंने बजट खत्म होने पर सिर्फ रहने की अनुमति देने के निर्देश दिए हैं। छात्राएं व्यवस्था कर छात्रावास में ही भोजन बना सकती हंै। यह सुविधा मात्र कॉलेज छात्राओं को परीक्षा की वजह से दी गई है, अन्य स्कूली छात्राओं के लिए नियम पुराने ही रहेंगे।

छात्रसंघ अध्यक्ष ने लिखा था कलेक्टर को पत्र, कॉलेज की 20 छात्राएं खुद के खर्च पर रह सकेंगी

अब भोजन की व्यवस्था के लिए मांगी मदद

छात्रावास में रहने की अनुमति के बाद अब छात्राओं ने उनके भोजन की व्यवस्था करने के लिए भी मदद मांगी है। पूर्व विधायक दिलीपसिंह गुर्जर को इसकी जानकारी लगते ही छात्रावास में ही छात्राओं के भोजन की संपूर्ण व्यवस्था भी करा दी, ताकि छात्राओं को परीक्षा के दौरान परेशान न होना पड़े।

X
बजट खत्म हो गया, छात्राएं परीक्षा तक होस्टल में रह सकती हैं, पर सुरक्षा खुद करना होगी...कोई गड़बड़ हुई तो हम जिम्मेदार नहीं
Astrology

Recommended

Click to listen..