ज्ञान रूपी प्रकाश देने के लिए धरती पर भगवान अवतरित होते हैं -उषा

Nagda News - इस कलयुगी अंधकाररूपी रात से ज्ञानरूपी प्रकाश देने के लिए भगवान इस धरती पर अवतरित होते हैं। जिसकी याद में...

Feb 25, 2020, 08:26 AM IST

इस कलयुगी अंधकाररूपी रात से ज्ञानरूपी प्रकाश देने के लिए भगवान इस धरती पर अवतरित होते हैं। जिसकी याद में महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाता है।

यह बात ब्रह्माकुमारी उज्जैन निर्देशिका उषा दीदी ने महारानी चंद्रावती वाचनालय में आयोजित आध्यात्मिक कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा शिवजी पर चढ़ने वाले अख-धतूरा बुराई का प्रतीक है। इसलिए इन्हें हम बाबा पर चढ़ाते हैं। इससे समाज में फैली बुराइयां खत्म होती है। 84वीं शिव जंयती पर प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय केंद्र पर शिव महोत्सव मनाया गया। इस अवसर पर कलश यात्रा निकाली गई। इसका शुभारंभ ब्रह्माकुमारी उज्जैन निर्देशिका उषा दीदी ने केंद्र पर ध्वज फहराकर िकया।

यात्रा में भारत माता के स्वरूप में बालिका हाथ में राष्ट्रीय ध्वज लेकर चल रही थी। साथ ही बालिकाएं संस्था के ध्वज लेकर चल रही थी। इसके पीछे हाथों में ध्वज थामे बच्चे घोड़ों पर सवार थे। वहीं सिर पर कलश लिए महिलाएं कतारबद्ध चल रही थी, जो आकर्षण का केंद्र रही। स्वागत भाषण मधू दीदी ने िदया। कार्यक्रम का शुभारंभ शिव स्तुति करते हुए शहर कांग्रेस कार्यवाहक अध्यक्ष विनोद धाड़ीवाल, जिला प्रवक्ता अरुण बुरड़, बीजेपी शहर अध्यक्ष उमा पांडे, दुर्गा वाहिनी संयोजिका रजनी गुलाटी सहित अतिथियों ने दीप प्रज्वलन की। अतिथियों का स्वागत कला कलाकार टिया परमार ने किया।

हमें तन, मन, धन भगवान को अर्पित कर वचन और कर्म से पवित्र रहना चाहिए - मनोरमा


बड़नगर| प्रजापिता ब्रह्मा कुमारी केंद्र पर शिव ध्वज फहराया गया।


यात्रा में कलश उठाए शामिल हुईं महिलाएं। इनसेट बग्गी में सवार प्रतिभा दीदी और मीना दीदी।

चल समारोह में ध्यान से जुड़ने का संदेश दिया

चल समारोह में शामिल महिला पुरुषों ने तख्तियां पर लोगों को राजयोग व ध्यान से जुड़ने का संदेश दिया। यात्रा का रहवासियों व सामाजिक संगठनों ने स्वागत किया। कलश यात्रा यशवंत मार्ग स्थित ब्रह्माकुमारी केंद्र से प्रारंभ होकर प्रमुख मार्गों से होते हुए महारानी चंद्रावती वाचनालय पहुंची। जहां पर आध्यात्मिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। अतिथि विधायक बहादुरसिंह चौहान थे। विशेष अतिथि सुभाष ठाकुर, डॉ. विकास उथरा, आसाराम अहिरवार थे। वहीं आसाराम अहिरवार ने सजन रे झूठ मत बोलो गीत गाकर झूठ बोलने की प्रथा पर प्रहार किया।

बड़नगर| हमें अपना तन, मन, धन भगवान को अर्पित कर मन, वचन और कर्म से पवित्र रहना चाहिए। यह बात रतलाम केंद्र संचालिका वीके मनोरमा ने शिक्षक कॉलोनी में शिव ध्वज फहराते के समय कही। उन्होंने कहा हम किसी को कटुता भरे शब्द न बोले। उन्होंने जीवन शांति के लिए ओरों को मन वचन कर्म से कष्ट न देना जरूरी बताया।

शिक्षक कॉॅलोनी स्थित प्रजापिता ब्रह्मा कुमारी केंद्र पर रविवार को आयोजित कार्यक्रम में शिव के नाम का महत्व और बारह ज्योर्तिलिंग के नाम व अर्थ बताए गए। इस मौके पर अतिथि जिला युवक कांग्रेस अध्यक्ष करण मोरवाल और डॉ. वासुदेव काबरा की उपस्थिति में केंद्र पर शिव ध्वज फहराया गया। कार्यक्रम में वीके रेखा दीदी, पार्वती बहन, वीके सावित्री दीदी सहित अतिथि मोरवाल व डॉ. काबरा ने भी संबोधित किया। संस्था परिचय शालिनी ने दिया। संचालन धर्मा कोठारी ने किया।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना