• Hindi News
  • Rajya
  • Madhya Pradesh
  • Nagda
  • Nagda News mp news hearing a respectful speech from the union minister the founder of the institution maru bowed with folded hands the joint head of the department cbm project head greeted with clapping

केंद्रीय मंत्री से सम्मानजनक वाणी सुन संस्था संस्थापक मारू हाथ जोड़कर झुक गए, विभाग के संयुक्त सचिव, सीबीएम के प्रोजेक्ट हेड ने ताली बजाकर किया अभिवादन

Nagda News - सेल्फ एडवोकेट्स फोरम ऑफ इंडिया (साफी) के पांचवें राष्ट्रीय अधिवेशन के शुभारंभ सत्र में केंद्रीय सामाजिक न्याय...

Nov 17, 2019, 09:35 AM IST
Nagda News - mp news hearing a respectful speech from the union minister the founder of the institution maru bowed with folded hands the joint head of the department cbm project head greeted with clapping
सेल्फ एडवोकेट्स फोरम ऑफ इंडिया (साफी) के पांचवें राष्ट्रीय अधिवेशन के शुभारंभ सत्र में केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गेहलोत ने संस्था स्नेह के स्टाफ और कार्यों की खुले दिल से तारीफ की।

केंद्रीय मंत्री ने कहा- मैं तो सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग सिर्फ साढ़े पांच साल से संभाल रहा हूं, लेकिन दिव्यांगजनों की बेहतरी के लिए संस्था स्नेह 10 साल से ज्यादा समय से काम कर रही। मुझसे ज्यादा संस्था संस्थापक पंकज मारू और यहां के स्टाफ को यह बेहतर अनुभव है कि दिव्यांगों की जिंदगी कैसे बेहतर बनाई जा सकती है। इसलिए कभी-कभी मैं भी दिव्यांगजनांे से जुड़ी योजनाओं पर निर्णय लेने से पहले उनसे ही मार्गदर्शन लेता हूं। मंत्री गेहलाेत ने कहा- वर्तमान में मेरे सहयोगी मारू कभी विदेश में लाखों रुपए के पैकेज पर नौकरी में थे। चूंकि उनकी एक बेटी भी बौद्धिक दिव्यांग है। जिसे देख उन्होंने नौकरी छोड़ शहर आकर दिव्यांगजनों की बेहतरी के लिए काम करने की ठानी। लगभग दस साल से पहले छोटे से कमरे में शुरू हुई संस्था का नाम आज देशभर में ऊंचा है। केंद्रीय मंत्री के मुंह से संस्था स्नेह के सम्मान में तारीफ सुनकर संस्थापक मारू मंच पर ही खड़े होकर नतमस्तक हो गए। इस पर विभाग के संयुक्त सचिव डाॅ. प्रबोध सेट व अंतरराष्ट्रीय संस्था सीबीएम के प्रोजेक्ट हेड उमेश बौराई ने भी ताली बजाकर अभिवादन किया। केंद्रीय मंत्री के संबोधन से पहले अंतरराष्ट्रीय संस्था सीबीएम के प्रोजेक्ट हेड बौराई ने साफी को ग्रामीण क्षेत्रों तक ले जाने पर जोर दिया। वहीं दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग भारत सरकार के संयुक्त सचिव डॉ. सेट ने दिव्यांगजन अधिकार अधिनियम 2016 में बौद्धिक दिव्यांगों को दिए गए अधिकाराें और सुविधाओं की जानकारी दी। देशभर से आए प्रशिक्षणार्थियों को संस्था के अवलोकन कराने के केंद्रीय मंत्री के अनुरोध पर शाम करीब 5 बजे मारू ने सभी को संस्था ले गए। उन्होंने सभी संस्था के काम, सुविधाओं से अवगत कराया। कार्यक्रम में झमक राठी, कृष्णकांत गुप्ता, घनश्याम राठी, डॉ. हिमांशुदत्त पांडे, रवि शर्मा, स्नेह के सुनील गौतम, मनीष जोनवाल, चंदनसिंह, जीवेंद्र बिसेन, राकेश राना आदि मौजूद थे। संचालन विनयराज शर्मा ने किया। आभार संस्था की सेंटर हेड डॉ. नैना क्रिश्चियन ने माना।

सामाजिक न्याय विभाग मेरे पास सिर्फ साढ़े पांच साल से, संस्था स्नेह 10 साल से दिव्यांगों की बेहतरी के लिए काम कर रही, मैं भी मार्गदर्शन लेता हूं -मंत्री गेहलोत

संस्था स्नेह की तारीफ कर रहे केंद्रीय मंत्री के सम्मान में संस्थापक मारू हाथ जोड़कर झुक गए। अतिथियों ने अभिवादन किया। अधिवेशन में शामिल प्रशिक्षणार्थी।

मुश्किल है सेल्फ एडवोकेट्स बनना -मारू

मारू के अनुसार सेल्फ एडवोकेट्स बनना बहुत मुश्किल है। मगर सतत अभ्यास किया जाए तो यह नामुमकिन नहीं। चूंकि शारीरिक रूप से दिव्यांगों में अपने अधिकारों को समझने, उन्हें हासिल करने के लिए बौद्धिक शक्ति होती है, लेकिन बौद्धिक रूप से दिव्यांग तो कुछ भी नहीं समझ पाते तो अपने अधिकारों की लड़ाई कैसे लड़ेगे। ऐसे बौद्धिक दिव्यांगों को खेल-खेल में ट्रेनिंग देकर इस काबिल बनाया जाता है कि कम से कम वे अपने अधिकारों के प्रति सजग हो जाए। जो इस ट्रेनिंग में सफल हो जाते हैं। उन्हें सेल्फ एडवोकेट्स बनाया जाता है। जो देशभर में जाकर अपने जैसे अन्य बौद्धिक दिव्यांगों की मदद करते हैं।

आज होगा मतदान- साफी के मुख्य प्रशिक्षक पी.एस. बुरड़े के निर्देशन में रविवार सुबह 9.30 से चुनाव की तैयारियां शुरू होगी। इसमें अध्यक्ष, सचिव, ट्रेजरर व सदस्यों के लिए मतदान होंगे। चुनाव लड़ने वाले सेल्फ एडवोकेट्स से संबंधित पद पर काबिज का कारण पूछा जाएगा। इसके बाद प्रचार, प्रसार होगा। सुबह 10.30 बजे से मतदान होंगे। सुबह लगभग 11.30 बजे पदाधिकारियों की घोषणा की जाएगी। फिर सहभोज के बाद सेल्फ एडवोकेट्स को शैक्षणिक यात्रा पर उज्जैन ले जाया जाएगा। वहां उन्हें प्राचीन धरोहर का महत्व बताया जाएगा। इसके साथ दो दिवसीय अधिवेशन का समापन होगा।

साफी के जरिए स्वावलंबन बनना आज अच्छा लगता है -अदिति

अतिथि उद्बोधन से पहले नवी मुंबई से आई सेल्फ एडवोकेट्स अदिति वर्मा ने मंच से मन की बात कही। उन्होंने कहा- वे नवी मुंबई में कैफे संचालित करती है, वहां की पूरी व्यवस्था वही देखती है। बौद्धिक दिव्यांग के प्रति उनके अभिभावकों में चिंता बनी रहती है, लेकिन साफी (सेल्फ एड्वोकेट्स) के जरिए स्वावलंबन बनकर आज अच्छा महसूस होता है। मंच से अदिति ने अपने जीवन से जुड़े और भी अनुभव सांझा किए। इनके अलावा मुंबई की भावना मनोहर काले, बैंगलोर के दीपक ने भी मंच से अपने अनुभव बताए। 20 राज्यों से आए सेल्फ एड्वोकेट्स, ट्रेनर और परिजनों ने भी मंच से संबाेधन दिया। इसके बाद विभिन्न खेल गतिविधियां भी हुई।

अदिति वर्मा

Nagda News - mp news hearing a respectful speech from the union minister the founder of the institution maru bowed with folded hands the joint head of the department cbm project head greeted with clapping
Nagda News - mp news hearing a respectful speech from the union minister the founder of the institution maru bowed with folded hands the joint head of the department cbm project head greeted with clapping
X
Nagda News - mp news hearing a respectful speech from the union minister the founder of the institution maru bowed with folded hands the joint head of the department cbm project head greeted with clapping
Nagda News - mp news hearing a respectful speech from the union minister the founder of the institution maru bowed with folded hands the joint head of the department cbm project head greeted with clapping
Nagda News - mp news hearing a respectful speech from the union minister the founder of the institution maru bowed with folded hands the joint head of the department cbm project head greeted with clapping
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना