ममेरे भाई जिगर-कृष्णा का एक चिता पर किया अंतिम संस्कार

Nagda News - भास्कर संवाददाता | झारड़ा/ महिदपुर ग्राम बहादुरपुरा में नदी में डूबने से तीन मासूमों की मौत से गांव में सन्नाटा...

Oct 21, 2019, 08:15 AM IST
भास्कर संवाददाता | झारड़ा/ महिदपुर

ग्राम बहादुरपुरा में नदी में डूबने से तीन मासूमों की मौत से गांव में सन्नाटा पसरा हुआ था। हादसे में एक ही परिवार के ममेरे भाइयों के एक साथ चले जाने से परिजन स्तब्ध थे। पोस्टमार्टम के बाद शव लेकर गांव में पहुंचे। जहां तीन मासूमों की अंतिम यात्रा व चिता देख हर आंख नम हो गई। कृष्णा पिता कमल राव लसूड़लिया नाहटा निवासी है, जो जिगर की बुआ का लड़का है। कृष्णा की माता का निधन होने से नाना के घर गांव बहादुरपुरा में रहता था। इससे दोनों हम उम्र होने से साथ रहते थे। शांतिधाम में जिगर व कृष्णा दोनों भाइयों का अंतिम संस्कार एक ही चिता पर किया गया।

संदीप का राजवीर इकलौता पुत्र था। महिदपुर के अस्पताल में दादा देवीसिंह सहित अन्य परिजन अपने पड़पोते के अचानक चले जाने विलाप कर रहे थे। इधर, नायब तहसीलदार आरके गुहा ने बताया मृतक बच्चों के पंचनामे तैयार हो गए हैं, जिन्हें नियमानुसार 4-4 लाख रुपए की राशि शीघ्र उपलब्ध करवाई जाएगी।

झारड़ा अस्पताल में संदीप के दादा।

सुरक्षा को लेकर रहते हैं सतर्क

गांव के किनारे नदी बहने से ग्रामीण बच्चों की सुरक्षा को लेकर परिजन चिंतित ही रहते थे। जो बच्चों को नदी किनारे नहीं जाने की हमेशा हिदायत देते रहते थे। संदीप के दादा देवीसिंह तो अपनी निगरानी में रखने की हरसंभव कोशिश करते थे, लेकिन रविवार को अवकाश होने से बच्चे खेलते खेलते कब निकल गए, पता नहीं चला। खेती काम भी चल रहा था। ऐसे में ध्यान बंटने से मासूम हमेशा के लिए ओझल हो गए।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना