• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Narsinghgarh
  • उत्सव...भागवत कथा को मनोरंजन का नहीं बल्कि मोक्ष का माध्यम मानना चाहिए: पं. मेहता
--Advertisement--

उत्सव...भागवत कथा को मनोरंजन का नहीं बल्कि मोक्ष का माध्यम मानना चाहिए: पं. मेहता

नरसिंहगढ़ | श्री सद्गुरु आश्रम में चल रहे साप्ताहिक सद्गुरु महोत्सव में बुधवार को भागवत कथा में प्रवचन देते हुए...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:00 AM IST
नरसिंहगढ़ | श्री सद्गुरु आश्रम में चल रहे साप्ताहिक सद्गुरु महोत्सव में बुधवार को भागवत कथा में प्रवचन देते हुए पंडित मनोज मेहता ने कहा कि भागवत कथा को मनोरंजन का नहीं ,बल्कि मोक्ष का माध्यम मानना चाहिए। भगवान ने कलयुग में यह कथा इसीलिए उपलब्ध करवाई है कि मनुष्य इसके जरिए मोक्ष को प्राप्त कर सके।उन्होंने कहा कि वेद-पुराण और शास्त्र मनुष्य को वास्तविक मार्ग पर चलने की शिक्षा देते हैं। इन्हें गहराई से समझने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि गृहस्थी जीवन जीते हुए भी मोक्ष के मार्ग पर चला जा सकता है। उन्होंने भागवत पुराण के प्रसंगों पर भी व्याख्या की। इसके पहले मंगलवार रात को गुरुगादी पर आसीन पंडित बलभीम तोवर ने पंचपदी की पारंपरिक व्याख्या की। साथ ही पंडित कपिल कुमार शर्मा ने रामचरितमानस के प्रसंगों पर प्रवचन दिए। उत्सव का समापन 6 मार्च को रंगपंचमी के अवसर पर होगा।