Hindi News »Madhya Pradesh »Narwar» उपचुनाव की आचार संहिता लागू फिर भी पीएचई ने Rs.8 करोड़ के टेंडर निकाल दिए

उपचुनाव की आचार संहिता लागू फिर भी पीएचई ने Rs.8 करोड़ के टेंडर निकाल दिए

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 03:00 AM IST

कांग्रेस ने कहा-चुनाव आयोग में करेंगे शिकायत, अफसर बोले-गलती हो गई

भास्कर संवाददाता | शिवपुरी

कोलारस उपचुनाव कांग्रेस व भाजपा के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बन गया है। लेकिन भाजपा द्वारा मतदाताओं को लुभाने के लिए सरकारी तंत्र का उपयोग करने का मामला पकड़ में आया है। उपचुनाव के लिए पूरे आदर्श आचरण संहिता लागू है बावजूद इसके पीएचई विभाग के अफसरों ने जिले के ग्रामीण क्षेत्र में पानी पहुंचाने के लिए 8 करोड़ के कार्यों वाले टेंडर प्रकाशित करा दिए। इनमें से 46 लाख के काम कोलारस व 96.59 लाख केे काम बदरवास में होने हैं। गड़बड़ी सामने आते ही कांग्रेस नेताओं ने चुनाव आयोग में शिकायत की बात कही है। वहीं पीएचई विभाग के अफसर इसे गलती मान रहे हैं।

नियमों के मुताबिक उपचुनाव की आचार संहिता के चलते इस समय कोई भी नए विकास कार्य या निर्माण कार्य नहीं कराए जा सकते, फिर भी पीएचई विभाग ने नल-जल योजना के काम कराने करीब 8 करोड़ के टेंडर प्रकाशित करा दिए।

पीएचई विभाग द्वारा जो टेंडर विज्ञप्ति निकाली गई है, उसमें कोलारस बदरवास और रन्नोद क्षेत्र के भी गांव शामिल है, जहां चुनाव होने हैं। नियमानुसार उप चुनाव की आचार संहिता लागू होने के चलते विकास कार्य नहीं कराए जा सकते हैं लेकिन नेताओं के दबाव में यह निर्माण कार्य निकाले गए हैं। अब चोरी छुपे इन कामों को कराया जा रहा है। गुपचुप निकाली गई इस विज्ञप्ति के जरिए कुछ चुनिंदा ठेकेदारों को यह काम दिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री पेयजल योजना के तहत होने हैं काम

टेंडर के अनुसार जो काम होने हैं, वह मुख्यमंत्री पेयजल योजना के तहत होंगे। आरसीसी ओवरहेड टैंक, पाइप लाइन बिछाने सहित कई अन्य काम शामिल हैं।

सवाल...सरकारी तंत्र का उपयोग कर चुनाव जीतने की जुगत में तो नहीं सरकार

गलती से प्रकाशित हुए टेंडर

यह टेंडर गलती से जारी हो गए हैं। अब हम इसे कैंसिल कर रहे हैं। हमने डेट भी बढ़ा दी है। अब यह टेंडर मार्च में खोलेंगे। ऑनलाइन भी बदलाव कर दिया है। कुछ विरोधियों ने इसे अखबार में छपवा दिया। एसएल बाथम, ईई पीएचई शिवपुरी

सरकारी तंत्र का दुरुपयोग

यहां सरकार का असली चेहरा सामने आ गया है। किस तरह यह लोग सरकारी मशीनरी का उपयोग कर रहे हैं, इससे अच्छा उदाहरण और क्या होगा। अब हम लोग इस मामले की शिकायत निर्वाचन आयोग से करेंगे। राजेंद्र भारती, कोलारस विस प्रभारी कांग्रेस

टेंडर के अनुसार कहां, कितने का काम

नरवर:
चकरामपुर 78.17 लाख

शिवपुरी: कुंवरपुर 57.35 लाख

करैरा: मछावली 72.54 लाख

बदरवास: सुनाज 96.59 लाख

पिछोर: भड़ोरा 58.80 लाख

खनियांधाना: लोहरच्छा बघारी 89.82 लाख

शिवपुरी: मुढैरी 68.40 लाख

कोलारस: पड़ौरा सड़क 46 लाख

करैरा: वनगंवा 53.36 लाख

कोलारस: चंदौनियां 51 लाख

शिवपुरी: कोटा 48 लाख

पोहरी: झलवासा 52.86 लाख

करैरा: मोमोनी खुर्द 70.85 लाख

जांच के दे दिए हैं आदेश

मामले की जांच करवा रहे हैं। अगर यह आचार संहिता लगने से पहले ऑनलाइन जारी हो गया है तो कोई इश्यू नहीं होगा। लेकिन अगर यह नया हुआ है तो गंभीर गड़बड़ी है। अब मामले की जांच करवा रहे हैं। तरुण राठी, कलेक्टर शिवपुरी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Narwar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×