• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Neemuch
  • कुचड़ौद के पूर्व सैनिक की जामनगर में सेना के आयुद्ध भंडार में गोली लगने से मौत
--Advertisement--

कुचड़ौद के पूर्व सैनिक की जामनगर में सेना के आयुद्ध भंडार में गोली लगने से मौत

Neemuch News - भास्कर संवाददाता | नीमच/कुचड़ौद जामनगर स्थित सेना के आयुद्ध भंडार की सुरक्षा में तैनात कुचड़ौद निवासी पूर्व...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 05:05 AM IST
कुचड़ौद के पूर्व सैनिक की जामनगर में सेना के आयुद्ध भंडार में गोली लगने से मौत
भास्कर संवाददाता | नीमच/कुचड़ौद

जामनगर स्थित सेना के आयुद्ध भंडार की सुरक्षा में तैनात कुचड़ौद निवासी पूर्व सैिनक 52 वर्षीय मदन गिरी की ड्यूटी के दौरान गोली लगने से मौत हो गई। ड्यूटी के दौरान अपनी ही बंदूक का ट्रिगर दबने से हादसा हुआ। तिरंगे में लपेटकर उनका शव गांव लाया गया। जहां परिजन ने अंतिम संस्कार किया।

मृतक के भतीजे जगदीश गिरी ने बताया कि 26 फरवरी को जामनगर के आयुद्ध भंडार से अधिकारियों ने फोन कर चाचा की मौत की सूचना दी। परिजन के साथ जामनगर पहुंचे तो वहां सेना के अफसरों ने बताया कि ड्यूटी के दौरान मदन गिरी बंदूक पर ठोड़ी टिका कर बैठे थे। इसी दौरान पैर लगने से ट्रिगर दब गया और गोली उनका जबड़ा फाड़ते हुए सिर चीरते आरपार हो गई। अधिकारियों ने घटना स्थल के फोटो भी दिखाए। 27 फरवरी को सेना के अस्पताल में पोस्टमार्टम के बाद दो सैनिक व परिजन शव लेकर बुधवार को कुचड़ौद पहुंचे। यहां सामाजिक परंपरानुसार समाधि देकर अंतिम संस्कार किया। इसमें शहर सहित जिले के लोगों ने शामिल होकर श्रद्धांजलि दी।

कुचड़ौद निवासी मदन गिरी पिता किशन गिरी ने 1983 में आर्मी में लांस नायक पद पर ज्वाइन किया था। आर्मी में सेवा के दौरान मदन गिरी शांति सेना में शामिल होकर लिट्टे उग्रवादियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए श्रीलंका गए थे। करगिल युद्ध के समय वे कश्मीर में तैनात रहे। उन्होंने जम्मू, कुपवाड़ा, आसाम में देश की सुरक्षा के लिए सेवाएं दीं। 2001 में रिटायर होने पर कुचड़ौद आ गए। उनको घर पर खाली बैठना अच्छा नहीं लगा तो दोबारा देश के लिए सेवा देने का निर्णय लिया और 2002 में आर्मी में ज्वाइन होने के लिए आवेदन दिया। उनका डीएससी में नायक पद पर चयन हुआ। जामनगर डीएससी कार्यालय पर नियुक्ति मिली। इसी साल जनवरी में अवकाश लेकर कुचड़ौद आए थे। करीब डेढ़ महीने पहले वापस जामनगर गए थे।

मृतक सैनिक मदन गिरी।

परिवार में प|ी, एक बेटा और तीन बेटियां हैं

सैनिक मदनगिरी के परिवार में प|ी शांतिबाई व चार बच्चे है। बेटा राजेश गिरी 12वीं में पढ़ रहा है। तीन बेटियों में बड़ी बेटी अन्नू गिरी और टीना गिरी की शादी हो गई है। जबकि एक बेटी मीना गिरी नीमच के शासकीय कॉलेज से बीए फाइनल कर रही है।

X
कुचड़ौद के पूर्व सैनिक की जामनगर में सेना के आयुद्ध भंडार में गोली लगने से मौत
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..