Hindi News »Madhya Pradesh »Neemuch» विद्यार्थियों को बताया उच्च शिक्षा में व्याप्त भ्रष्टाचार

विद्यार्थियों को बताया उच्च शिक्षा में व्याप्त भ्रष्टाचार

देश की शिक्षा व्यवस्था को भ्रष्ट और अयोग्य करार देते हुए इंदौर के एक आरटीआई कार्यकर्ता पंकज प्रजापति ने नई...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 18, 2018, 05:40 AM IST

विद्यार्थियों को बताया उच्च शिक्षा में व्याप्त भ्रष्टाचार
देश की शिक्षा व्यवस्था को भ्रष्ट और अयोग्य करार देते हुए इंदौर के एक आरटीआई कार्यकर्ता पंकज प्रजापति ने नई क्रांति के लिए अभियान चलाया है। वे इंदौर, उज्जैन संभाग के 10 जिलों में पहुंच कर कॉलेज के विद्यार्थियों और प्रोफेसरों को प्रदेश सरकार की हकीकत बता रहे हैं।

गुरुवार को पीजी कॉलेज, जाजू गर्ल्स कॉलेज में विद्यार्थियों को भ्रष्टाचार संबंधी दस्तावेजों पर तैयार पुस्तक संवाद क्रांति देकर अपने अधिकार के लिए आवाज उठाने की बात कही। प्रजापति द्वारा पेश किए गए दस्तावेजों को देख विद्यार्थी और प्रोफेसर भी हैरान रह गए। उन्होंने सारी जानकारी आरटीआई के तहत संबंधित विभागों से प्राप्त की है। उन्होंने इसे प्रदेश सरकार द्वारा युवाओं के भविष्य पर हमला करार दिया। उन्होंने वर्ष 2009 में प्रोफेसरों की भर्ती पर सवाल उठाते हुए न्यायालय में याचिका लगाई। न्यायालय में गड़बड़ी साबित भी हो गई। बावजूद उच्च शिक्षा विभाग ने अयोग्य होने के बाद भी भर्ती किए गए प्रोफेसरों को स्थायी कर प्रमोशन कर दिया। पीएससी में आयोग सदस्य और अध्यक्ष चुनने की प्रक्रिया पर गंभीर आरोप लगाते हुए अयोग्य लोगों को बैठाने की बात कही। उन्होंने कहा यदि ऐसा ही चलता रहा तो युवाओं का भविष्य बर्बाद हो जाएगा। युवाओं को आगे आकर अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ना पड़ेगी। प्रजापति ने रामपुरा, मनासा, जावद, सिंगोली कॉलेजों में विद्यार्थियों और प्रोफेसरों, शिक्षकों व प्रबुद्धजनों से संवाद कर जानकारी दी।

अभियान

नीमच, जावद, मनासा, रामपुरा, सिंगोली कॉलेज में संवाद क्रांति यात्रा में विद्यार्थियों व प्रबुद्धजनों से किया संवाद

संवाद क्रांति यात्रा के दौरान कॉलेज के विद्यार्थियों से संवाद करते आरटीआई कार्यकर्ता।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Neemuch

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×