नीमच

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Neemuch
  • पानी के लिए नलाें पर सुबह से लग रही भीड़, इधर, वाहन धोने में व्यर्थ बहा रहे
--Advertisement--

पानी के लिए नलाें पर सुबह से लग रही भीड़, इधर, वाहन धोने में व्यर्थ बहा रहे

शहर के 40 वार्डों में जल संकट गहराने लगा है। एक दर्जन से ज्यादा क्षेत्रों में लोग सुबह से शाम पानी की तलाश में भटक रहे...

Dainik Bhaskar

May 18, 2018, 05:40 AM IST
पानी के लिए नलाें पर सुबह से लग रही भीड़, इधर, वाहन धोने में व्यर्थ बहा रहे
शहर के 40 वार्डों में जल संकट गहराने लगा है। एक दर्जन से ज्यादा क्षेत्रों में लोग सुबह से शाम पानी की तलाश में भटक रहे हैं। सार्वजनिक नलों पर लोगों की भीड़ जलसंकट की दास्ता बयां कर रही है। दूसरी कई जगह पर लोग घरों के बाहर सुबह के समय व्यर्थ पानी बह रहा है। इसके बावजूद नपा पानी की बर्बादी रोकने एवं भवन निर्माण पर रोक लगाने के प्रयास नहीं किए है।

वाहन और सड़कों को धोने सहित सर्विस और वाशिंग सेंटर भी चल रहे हैं। तीन दिन छोड़ कर पानी सप्लाई किया जा रहा है। समय में कटौती के कारण लोगों को पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा है। तापमान 43 डिग्री से अधिक होने पर घरों में कूलर का उपयोग भी बढ़ गया है। इसके कारण गर्मी में पानी खपत अधिक हो गई है। जाजू सागर डेम में 12 फीट पानी बचा है। इससे नगर पालिका जून तक सप्लाई करने का दावा कर रही है।

जाजू सागर डेम में 12 फीट पानी, नपा का दावा जून तक मिलेगा पानी

लोग इधर-उधर पेयजल की तलाश में सुबह से लगे रहते है।

नियमों का पालन नहीं हो रहा

शासन प्रशासन ने जल संरक्षण के लिए कई नियम बनाए। जिन लोगों को पानी आसानी से उपलब्ध हो रहा है वे इसकी कीमत नहीं समझ रहे हैं। इस कारण दूसरे लोगों को जल संकट का सामना करना पड़ रहा है। शहर के अधिकांश क्षेत्रों में निजी नलों पर टोटियां नहीं होने से सप्लाई के समय पानी व्यर्थ बहता है। लोगों की इस लापरवाही को सुधारने के लिए नपा के अधिकारी भी सप्लाई के समय भ्रमण नहीं करते हैं।

25 लाख लीटर यहां बचेगा

शहर में 1700 से अधिक मकानों का निर्माण चल रहा है। इनमें 1600 मकान तो आवास योजना में बन रहे हैं। औसतन 25 लाख लीटर पानी निर्माण पर खर्च होने का अनुमान है। इसके अलावा शहर में संचालित 12 वाशिंग और सर्विस सेंटर में प्रतिदिन 80 हजार लीटर पानी खर्च हो रहा है। करीब 5 हजार लीटर पानी लोग वाहनों को धोने में खर्च कर रहे हैं। नपा इन पर सख्ती दिखाए तो प्रतिदिन 25.85 लाख लीटर पानी की बचत हो सकती है।

अपव्यय रोकने के लिए बनाएंगे प्लान


पौधों के बजाए इस तरह पेड़ों को पानी देकर व्यर्थ बहाया जा रहा पानी।

पानी के लिए नलाें पर सुबह से लग रही भीड़, इधर, वाहन धोने में व्यर्थ बहा रहे
X
पानी के लिए नलाें पर सुबह से लग रही भीड़, इधर, वाहन धोने में व्यर्थ बहा रहे
पानी के लिए नलाें पर सुबह से लग रही भीड़, इधर, वाहन धोने में व्यर्थ बहा रहे
Click to listen..