• Hindi News
  • Mp
  • Neemuch
  • Manasa News mp news annapurna scheme canteen closed for a month in mandi farmers upset officials said will be tender again

मंडी में महीनेभर से अन्नपूर्णा योजना का कैंटीन बंद, किसान परेशान, अधिकारी बोले- फिर से टेंडर होंगे

Neemuch News - कृषि उपज मंडी में शासन की मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा योजना कैंटीन महीनेभर से बंद है। किसानों को महंगी दर पर बाजार में...

Dec 04, 2019, 09:35 AM IST
कृषि उपज मंडी में शासन की मुख्यमंत्री अन्नपूर्णा योजना कैंटीन महीनेभर से बंद है। किसानों को महंगी दर पर बाजार में भोजन करना पड़ा रहा। किसानों का कहना है मंडी प्रशासन से कैंटिन बंद होने के लिए शिकायत की लेकिन संतोषजनक जवाब नही मिला। मंडी प्रशासन के जिम्मेदारों का कहना है कैंटीन अनुबंध खत्म होने पर विज्ञप्ति जारी की गई थी। लेकिन टेंडर नहीं आने पर फिर से विज्ञप्ति जारी की गई। जल्द ही किसानों को मंडी में

मंडी में उपज लेकर आने वाले किसानों को पिछले एक महीने से कैंटीन बंद होने से भोजन नहीं मिल रहा है। किसान टोकन के लिए मंडी कार्यालय के चक्कर लगाते हैं तो उन्हें कैंटीन बंद होने की बात कही जा रही है। किसानों को बाहर भोजन करना पड़ रहा है। कई किसान रात से मंडी में उपज लेकर आते हैं उन्हें यहां पर भोजन नहीं मिल रहा है। होटलों पर भोजन करना काफी महंगा पड़ रहा है।

उपज लेकर आने वाले किसानों को मंडी के बाहर होटलों पर भोजन के देना पड़ रहे ज्यादा रुपए

मंडी में बंद पड़ा अन्नपूर्णा योजना का कैंटीन।

पुराने ठेकेदार का 5 लाख रुपए का भुगतान नहीं हुआ

पहले जिसके पास भोजन का ठेका था उसकाे मंडी बोर्ड ने करीब 5 लाख का भुगतान नहीं किया। इसको लेकर कई बार मंडी सचिव को आवेदन दिए। मंडी प्रशासन का कहना है कि भुगतान को लेकर प्रस्ताव मंडी बोर्ड को भेज दिया है। जल्द ही भुगतान किया जाएगा। मंडी प्रशासन चाहे तो सोरण से जो राशि बालाजी मंदिर समिति को जाती है नया अनुबंध ना होने तक उस राशि से भोजन की व्यवस्था की जा सकती है। व्यापारी संघ ने इसके लिए मंडी प्रशासन के सामने इच्छा भी जाहिर की है। हालांकि निर्णय नहीं हो पाया। भगोरी के जगन्नाथ गुर्जर ने बताया कई दिनों से मंडी मे कैंटिन बंद है, बाहर जाकर खाना पड़ रहा है। 5 रुपए शुल्क पर भोजन की व्यवस्था बंद हो गई।

मंडी ने दोबारा विज्ञप्ति प्रकाशन किया


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना