विज्ञापन

मोबाइल को लेकर झगड़े दंपती, वन स्टाॅप सेंटर ने कराया समझौता

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 03:55 AM IST

Neemuch News - प|ी द्वारा मोबाइल का उपयोग करने पर गुस्साया पति हर दिन प|ी से मारपीट करने लगा। वह प|ी को मोबाइल ना रखने व बाहर काम न...

Mandsore News - mp news couple on the issue of mobile phones one stap center made agreement
  • comment
प|ी द्वारा मोबाइल का उपयोग करने पर गुस्साया पति हर दिन प|ी से मारपीट करने लगा। वह प|ी को मोबाइल ना रखने व बाहर काम न करने की बात पर पीटता था। विवाद बढ़ने के बाद सुलह के लिए दोनों वन स्टाॅप सखी सेंटर पहुंचे। जहां महिला अधिकारियाें ने दोनों की काउंसिलिंग की। दो घंटे समझाइश के बाद प|ी ने कहा - अब नहीं रखूंगी मोबाइल। ना ही बाहर काम पर जाऊंगी। पति बोला - घर पर कमाकर खिलाऊंगा, बाहर काम पर नहीं जाने दूंगा और दोनों में सुलह हो गई। यह मामला वन स्टाॅप सेंटर पर 16 मार्च को आया।

महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा उषा किरण योजना के तहत वन स्टाप (सखी) सेंटर शहर की पाटिल कॉलोनी, ब्रह्माकुमारी आश्रम के पास स्थित है। यह 8 अक्टूबर 2018 से संचालित है। जहां 5 महीने में पीड़ित महिलाओं से संबंधित 41 केस आ चुके हैं। सेंटर का उद्देश्य एक ही छत के नीचे हिंसा से पीड़ित महिलाओं एवं बालिकाओं को एकीकृत रूप से सहायता एवं सहयोग देना है। साथ ही पीड़ित महिला एवं बालिका को तत्काल आपातकालीन एवं गैर आपातकालीन सुविधाएं उपलब्ध कराना है। वन स्टॉप सेंटर के तहत सभी प्रकार की हिंसा से पीड़ित महिलाओं एवं बालिकाओं को एक ही स्थान पर अस्थायी आश्रय, पुलिस डेस्क, विधि सहायता, चिकित्सा एवं काउंसिलिंग की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है। सेंटर का लक्ष्य है कि हिंसा से पीड़ित महिलाएं जिसमें 18 वर्ष से कम आयु की बालिकाएं भी शामिल हैं, उनको सहायता प्रदाय करना। बालिकाओं की सहायता के लिए लैंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 व किशोर न्याय बालकों की देखरेख और संरक्षण अधिनियम 2015 के तहत गठित संस्थाओं को सेंटर से जोड़ा हे।

सेंटर पर इन्होंने से कराई सुलह- 16 मार्च को वन स्टाॅप सेंटर पर पहुंचे सेतखेड़ी निवासी प|ी दुर्गा व पति राहुल का समझौता शौर्या दल की मास्टर ट्रेनर रामकुंवर राठौर, प्रशासक धापू गौड़, महिला सशक्तिकरण अधिकारी रवींद्र महाजन व केस वर्कर निर्मला चौहान ने कराया। पीड़ित महिलाएं सेंटर के नंबर 07422-221400 पर कॉल कर सहायता ले सकती हैं।

5 पीड़ित महिलाओं को पुलिस सहायता दी

वन स्टाॅप सेंटर पर 8 अक्टूबर से अब तक 41 केस आ चुके हैं, जिसमें 5 पीड़ित महिलाओं को पुलिस सहायता, 9 महिलाओं का पति व सास ससुर से समझाैता कराकर पुनर्वास (स्वयं के घर) कराया। 2 नाबालिग बालिकाओं को आश्रय सुविधा देने के लिए अपना घर भेजा है। वहीं 9 पीड़ित महिलाओं की काउंसिलिंग कर उनके बीच समझौते की प्रक्रिया चल रही है। बाकी 16 पीड़ित महिलाओं ने पति से तलाकनामे के लिए कोर्ट में याचिका दायर की है। अधिकतर मामले पति द्वारा शराब पीकर प|ी व बच्चों से मारपीट कर प्रताड़ित करने वाले हैं।

X
Mandsore News - mp news couple on the issue of mobile phones one stap center made agreement
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन