• Hindi News
  • Mp
  • Neemuch
  • Mandsore News mp news more than 20 lives saved in five years postponed the goods train accident in 2016

पांच साल में 20 से ज्यादा जानें बचाईं, 2016 में मालगाड़ी हादसे को टाल चुके

Neemuch News - आज बंद होगा मिड इंडिया रेलवे फाटक मिड इंडिया रेलवे फाटक नंबर 151ए आखिरकार 22 फरवरी को सुबह 10 बजे से बंद करने के...

Feb 22, 2020, 08:15 AM IST
Mandsore News - mp news more than 20 lives saved in five years postponed the goods train accident in 2016

आज बंद होगा मिड इंडिया रेलवे फाटक

मिड इंडिया रेलवे फाटक नंबर 151ए आखिरकार 22 फरवरी को सुबह 10 बजे से बंद करने के आदेश आ गए। अंडरब्रिज का काम शुरू होने से शहरवासियों में खुशी है, लेकिन वही दो लोग ऐसे भी हैं जो फाटक बंद होने से उदास हैं। क्योंकि उन्होंने पिछले पांच साल इसी फाटक पर गुजारे हैं। यह फाटक उनके और न जाने कितने लोगों के सुख-दुख का साथी रहा है। इन्होंने इस फाटक पर घर से ज्यादा समय बिताया है। पढि़ए उन गेटमैन की कहानी जो पांच साल से यहां कर रहे काम। कल आखिरी बार लगाएंगे फाटक।

फाटक नंबर 151ए पर गेट मैन के पद पर पदस्थ ब्रजेंद्र कुमार शाक्य पांच साल से है। कई बार इन्होंने 12 घंटे से ज्यादा समय तक फाटक पर ही काम किया है। शाक्य इसलिए भी खास है क्योंकि इन्होंने पांच साल में 20 से अधिक लोगों की जान बचाई। ये वे लोग थे जो घर-परिवार के झगड़े से दुखी होकर ट्रैक पर आत्महत्या करने आए थे और शाक्य ने उन्हें देखा और बचा लिया।

शाक्य 12 नवंबर 2016 को ब्रजेंद्र शाक्य गेट पर सुबह 8 से रात 8 की ड्यूटी कर रहे थे। शाम 5.17 पर नीमच की तरफ से एनईबी स्पेशल गुड्स ट्रेन आई। क्रासिंग होने से इसे ट्रेन को लाइन नंबर तीन पर लिया गया। ट्रेन गेट से होकर लाइन तीन पर जा रही थी। तभी गेट मेन ने देखा की ट्रेन में पीछे वैगन (डब्बा) नंबर 890224 की ब्रेक राड टूट कर लटक रही है। राड लाइन पर गिट्टी से रगड़ा रही थी। उन्होंने तुरंत तत्कालीन स्टेशन मास्टर सुभाषचंद्र मीणा को मामले की जानकारी दी। इससे ट्रेन को करीब एक घंटे मंदसौर स्टेशन पर रोक सुधार कार्य किया गया। इस राड की वजह से माल गाड़ी पटरी से भी उतर सकती थी। जिससे बड़ा हादसा हो सकता था। गेट मैन के कारण हादसा टल गया। ब्रजेश की समझदारी व सजगता पर कुछ दिन बाद ही रेलवे डीआरएम ने प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित भी किया। 22 फरवरी को सुबह दस बजे ब्रजेश ही आखिरीबार मिड इंडिया रेलवे फाटक को बंद करेंगे।

20 से ज्यादा लोगों की जान बचाई

गेट मैन ब्रजेंद्र शाक्य व नाइट ड्यूटी करने वाले मुबारिक मंसूरी ने बताया कि कई पारिवारिक विवाद रेलवे पटरी तक पहुंच जाते हैं। दो साल पुरानी बात है पहले ठंड के समय में सुबह ब्रजेंद्र गेट के वहीं बैठे थे। सुबह डेमू के समय एक महिला ट्रैक के बीच चल रही थी। उसे देख ब्रजेंद्र समझ गया कि वह आत्महत्या करना चाह रही है। यह देख ब्रजेंद्र ने दौड़ लगाई व महिला को पटरी से हटाया। बाद में उसे समझाइश देकर वापस भेजा। करीब सवा साल पहले पति प|ी लड़ाई करते हुए पटरी पर पहुंच गए थे। प|ी बार-बार पटरी पर आत्महत्या करने जा रही थी। यह देख ब्रजेंद्र ने दोनों को समझाया व कैबिन में बैठकर बात करने बुलाया। कुछ देर में उनका गुस्सा शांत हुआ तो उन्हें बात समझ आई और वे घर चले गए।

गेट खोलने बंद करने वाले गेट मेन ब्रजेंद्र ने अपनी समझ व सजगता से ट्रेन हादसे भी रोके।

X
Mandsore News - mp news more than 20 lives saved in five years postponed the goods train accident in 2016

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना