• Hindi News
  • Mp
  • Neemuch
  • Neemuch News mp news onion competition of prices in new and old reached beyond 399039 arrival of old is also less

प्याज: नए व पुराने में भावों की होड़ पहुंची ‘90’ के पार, पुराने की आवक भी कम

Neemuch News - कृषि उपज मंडी में नए माल की आवक के साथ प्याज के भाव रोजाना ऊंचाई छू रहे। मंगलवार को प्रति किलो प्याज अधिकतम 90 रुपए...

Dec 04, 2019, 09:51 AM IST
कृषि उपज मंडी में नए माल की आवक के साथ प्याज के भाव रोजाना ऊंचाई छू रहे। मंगलवार को प्रति किलो प्याज अधिकतम 90 रुपए किलो में बिका, न्यूनतम भाव 35 रुपए किलो के रहे। सोमवार की तुलना में भाव में 15 रुपए तक का इजाफा हुआ। दिनभर में 1341 कट्‌टे नीलामी में पहुंचे। अब नए व पुराने प्याज के भावों में होड़ देखने को मिल रही। जिसके 2 बड़े कारण सामने आए हैं, पहला ये कि नई पैदावार बारिश के कारण कम हुई है। दूसरा पुराना स्टॉक खराब होने को हैं। ऐसे में मंडी में आवक भी कम होने लगी है।

जिले में खरीफ सीजन में प्याज का 375 हेक्टेयर था। औसत से अधिक 70 इंच बारिश होने से 75 फीसदी फसल खराब हो गई। 25 फीसदी ही तैयार हुई। नए प्याज का स्टॉक मंडी पहुंचने लगा। इसके समान ही पुराना प्याज भी आ रहा। मंगलवार को मंडी में जावद, सरवािनया, जीरन, अठाना, भाटखेड़ा, मनासा, रामपुरा किसान प्याज के 50-50 किलो के 1341 कट्‌टे लेकर आए थे, दोपहर बाद नीलामी हुई। मंडी में प्याज के प्रति क्विंटल भाव न्यूनतम 3500 से लेकर अधिकतम स्तर 9011 तक रहे। इसी तरह मॉडल मूल्य 6600 रुपए रहा, जो सोमवार की तुलना में 600 रुपए तेजी पर रहा।

सीजन में 10 से 12 हजार बोरी प्याज आता है, फसल बिगड़ने से इस बार 25 फीसदी ही आवक हो रही

मंडी में प्याज व्यापारी महेश सैनी का कहना है नए सीजन में इस वक्त हर साल प्याज की आवक 12 हजार बोरी तक रहती है इस बार लगातार बारिश से फसल खराब हुई। इसका असर मंडी में आवक पर पड़ रहा है। वर्तमान में 25 फीसदी ही प्याज की आवक हो रही है। अगले दिनों में नया प्याज ज्यादा आने लगेगा। इधर जिले में खुले हवादार वेयर हाऊस नहीं होने से माल बाहर भेजा जाता। ताजा सीजन में माल कम रहना भाव बढ़ने की वजह है।

कृषि उपज मंडी में मंगलवार नीलामी के लिए नए व पुराने प्याज के ढेर लगाकर बैठे किसान।

नई फसल मार्च तक आएगी

उप संचालक उद्यानिकी नारायण कुशवाह के मुताबिक बारिश के वक्त का बोया माल अब आने लगा है, हालांकि उत्पादन कम है। नई फसल मार्च तक आने लगेगी।

अन्य जिलों में जमाखोरों के यहां दबिश, यहां ऐसा कुछ नहीं

प्याज के भाव पर नियंत्रण के मकसद से प्रदेश के जिलों में प्रशासन ने बड़े व्यापारियों व जमाखोरों का स्टॉक निकालने को लेकर दबिश शुरू की है। ऐसा नीमच में फिलहाल कुछ नहीं दिखा। एसडीएम एसएल शाक्य कहते हैं जमाखोरी को लेकर फिलहाल शिकायत नहीं आई है, सूचना आने पर टीम भेजकर जांच कराएंगे। मंडी सचिव सतीश पटेल के मुताबिक किसानों को प्याज के अच्छे दाम मिल रहे हैं, किसी तरह की शिकायत हमें प्राप्त नहीं हुई।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना