शादी सीजन में दौड़ रहीं बिना परमिट की बसें, आरटीओ की अनदेखी से राजस्व का नुकसान

Bhaskar News Network

May 18, 2019, 07:26 AM IST

Neemuch News - त्योहार या फिर शादियों के सीजन के दौरान अवैध बसों का संचालन तेजी से शुरू हो जाता है। इस दौरान आरटीओ व पुलिस भी जांच...

Garonth News - mp news permits buses without running in the wedding season loss of revenue by ignoring rto
त्योहार या फिर शादियों के सीजन के दौरान अवैध बसों का संचालन तेजी से शुरू हो जाता है। इस दौरान आरटीओ व पुलिस भी जांच में नरमी बरत रहे हैं। उसका फायदा जमकर बस संचालक उठाते हैं जो यात्रियों की जान को जोखिम में डालते हैं। हालांकि इस बार लोकसभा चुनाव के चलते पिछले दिनों आरटीओ ने जांच की थी तो कई बसें बिना परमिट, टैक्स व दस्तावेज की मिली थीं। इस पर बसों को जब्त भी किया था।

त्योहार और शादियों के सीजन में एकाएक बसों की संख्या में इजाफा हो जाता है। इससे रेगुलर बसों तथा अवैध बस संचालकों में समय को लेकर विवाद बढ़ जाते हैं। यही नहीं कई बस संचालक छोटे वाहनों के परमिट पर बड़े वाहन संचालित कर रहे हैं। पिछले दिनों ही समय को लेकर खाचरौद बस स्टैंड तथा आष्टा बस स्टैंड पर मारपीट तक हो गई थी। अवैध बस संचालक बिना परमिट के वाहन चलाते हैं। इससे परमिट लेकर नियम से चल रहे बस संचालकों को नुकसान उठाना पड़ता है। लोकल सवारी पर चलने वाले जीप व अन्य वाहन भी बिना परमिट ही चल रहे हैं जिससे शासन को राजस्व का नुकसान उठाना पड़ता है।

बस स्टैंड से इन वाहनों का आवागमन-गरोठ बस स्टैंड से रोज 70 से अधिक बसों का संचालन होता हैं। जो मंदसौर, नीमच, आगर मालवा, भवानीमंडी, रामगंजमंडी, जयपुर, जोधपुर, झालावाड़, अहमदाबाद के लिए चलती है।

वैध परमिट वालों को नुकसान

बस संचालक एसोसिएशन अध्यक्ष शिखर रातड़िया ने बताया कि अवैध बसों व फर्जी परमिट पर चलने वाली बसों से वैध रूप से परमिट व टैक्स चुकाने वाले बस संचालकों को नुकसान उठाना पड़ रहा है। अवैध बस संचालक बस स्टैंड के बाहर खड़े होकर यात्रियों को ले जाते हैं।

नियमों का पालन नहीं

परिवहन विभाग ने नियम तो अनेक बना दिए हैं लेकिन उनका पालन नहीं कराया जाता है। शासन ने यात्री बसों में इमरजेंसी गेट, काले शीशे सहित अन्य नियम बनाए हैं। इन नियमों का उल्लंघन करने वालों पर मोटर-व्हीकल एक्ट की धारा 86 के तहत कार्रवाई करने का प्रावधान है।

दस्तावेज गलत मिलने पर नियमानुसार करते हैं कार्रवाई


रूट की अनुमति जरूरी

सवारी वाहन को किसी रूट पर चलाना होता है तो पहले आरटीओ से उस रूट की अनुमति ली जाती है। आरटीओ उक्त रूट पर समय-सीमा का उल्लेख करते हुए परमिट जारी करता है। उसके बाद ही वाहन का संचालन किया जा सकता है।

X
Garonth News - mp news permits buses without running in the wedding season loss of revenue by ignoring rto
COMMENT