• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Neemuch
  • Neemuch News mp news the school is busy with double the capacity of the vehicle the department is not acting on the violation of the rules

स्कूल वाहन क्षमता से दोगुना बच्चों काे बैठाकर दाैड़ रहे, नियमों के उल्लंघन पर विभाग नहीं कर रहा है कार्रवाई

Neemuch News - शहर की सड़कों पर नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए ऑटो, टेम्पाें, मैजिक, वैन स्कूल के बच्चों काे बैठाकर दाैड़ रहे हैं।...

Bhaskar News Network

Feb 14, 2019, 04:05 AM IST
Neemuch News - mp news the school is busy with double the capacity of the vehicle the department is not acting on the violation of the rules
शहर की सड़कों पर नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए ऑटो, टेम्पाें, मैजिक, वैन स्कूल के बच्चों काे बैठाकर दाैड़ रहे हैं। परिवहन व यातायात विभाग की कार्चारवाई चालान तक सीमित है। बच्चों सुरक्षा पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। क्षमता से अधिक बच्चों को बैठाकर जल्दी स्कूल पहुंचने के चक्कर में तेज गति से ड्राइवर वाहन दौड़ाते हैं। इससे कभी भी गंभीर हादसा हाे सकता है।

शहर में करीब 550 ऑटो व टेम्पों चलते है। इनमें 60 वाहन स्कूलों से जुड़े हुए हैं जो रोज बच्चों को लाना ले जाना करते हैं। अधिकत पांच बच्चों के बैठने की क्षमता वाले ऑटो में 12 तथा मैजिक में 10 की जगह 20 बच्चें बैठा रहे हैं। इसके बावजूद इन पर राेक लगाने पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है। स्कूलों का प्रबंधन लापरवाह है और प्रशासन अंजान बना रहता है। खासतौर पर निजी स्कूलों के बच्चों की आवाजाही की इन ऑटों में होती है। बुधवार को ओवरलोड वाहनों का नजारा शहर के सभी स्कूलों के रास्तों में देखा गया। ऑटो या फिर वैन सभी में क्षमता से ज्यादा बच्चे बैठे हुए थे। ऑटो की पिछली सीट पर एक-दूसरे के ऊपर बैठे बच्चे दिखाई दिए। चालक के पास भी चार बच्चे बैठे थे। ओवरलोड के कारण कई जगहों पर ऑटो रिक्शे के दुर्घटनाग्रस्त होने का अंदेशा बना रहता है।

ऑटो में पीछे की तरफ पटिया लगाकर बच्चों को बैठाते हैं, स्कूल बैग लटके रहते हैं बाहर

ऑटो रिक्शा के शुल्क पर भी कोई नियंत्रण नहीं है। चालक वर्दी में भी नहीं होते है। शहर में अधिकांश स्कूलों के बच्चों के लाने ले जाने के लिए 400 से लगाकर 800 रुपए प्रति बच्चे से मासिक किराया वसूलते हैं। इन वाहनों में बच्चों की सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं है। फिर भी यातायात व परिवहन विभाग द्वारा इन्हें नियमों का उल्लंघन करने की खुली छूट दे रखी हैं।

आॅटो में पीछे की तरफ अलग से पटिया लगाकर बच्चों को बिठा दिया जाता है और वह पूरा खुला रहता है। ऐसे में स्पीडब्रेकर पार करते समय गिरने का डर बना रहता है।

ट्रैफिक पुलिस नहीं करती कार्रवाई

यातायात पुलिस द्वारा पिछले सप्ताह सड़क सुरक्ष सप्ताह मनाया। स्कूलों में जाकर बच्चों को यातायात नियमों का पाठ पढ़ाया। लेकिन स्कूल वाहनों में क्षमता से अधिक बच्चे बैठाने वाले वाहन चालकों पर कार्रवाई नहीं की। जबकि शहर के अधिकांश स्कूलों में सुबह व दोपहर के समय बच्चों को बैठाकर ऑटो व मैजिक चालक नियमों की अनदेखी करते हुए वाहनों को दौड़ाते हुए िदखाई देते हैं।

कार्रवाई लगातार चलती रहती है


X
Neemuch News - mp news the school is busy with double the capacity of the vehicle the department is not acting on the violation of the rules
COMMENT