• Hindi News
  • Mp
  • Neemuch
  • Neemuch News mp news the ticket vending machine was closed at the station for two years due to a ticket window the queue of passengers starts

स्टेशन पर दो साल से बंद पड़ी टिकट वंेडिंग मशीन, एक टिकट विंडो होने से लगती है यात्रियों की कतार

Neemuch News - त्योहार के सीजन में ट्रेनों में यात्री भार बढ़ने लगा है। स्टेशन पर टिकट के लिए लंबी कतार लग रही है। यात्री सुविधा के...

Oct 12, 2019, 08:41 AM IST
त्योहार के सीजन में ट्रेनों में यात्री भार बढ़ने लगा है। स्टेशन पर टिकट के लिए लंबी कतार लग रही है। यात्री सुविधा के लिए तीन साल पहले स्टेशन परिसर में विंडो के पास दो आटोमैटिक टिकट वंेडिंग मशीन लगाई थी। जिसका स्टेशन प्रबंधन मेंटेनेंस नहीं कर सके और एक साल में ही यह सुविधा शोपिस बन गई। दो साल से मशीन बंद पड़ी हुई है। त्योहार के समय सुबह, दाेपहर व शाम काे जब दाे ट्रेनों का क्रॉसिंग हाेता है तब यात्रियों की भीड़ बढ़ जाती है। इसके बावजूद एक ही विंडो चालू रहने से यात्रियों काे समय पर टिकट नहीं मिलता। मजबूरी में कई यात्रियों को बिना टिकट सफर करना पड़ता है या फिर यात्रा निरस्त करना पड़ती है।

डीआरएम सहित वाणिज्यिक विभाग के अधिकारी समय-समय पर स्टेशन का निरीक्षण करने पहुंचते हैं। जो यात्री सुविधा बढ़ाने का दावा करके चले जाते हैं। उन्हें भी निरीक्षण के दौरान बंद पड़ी टिकट वेंडिंग मशीन दिखाई नहीं देती। यह कम्प्यूटराइज्ड मशीन होने से इसमें तकनीकी खराबी आने पर मुंबई के इंजीनियर ही आकर सुधार करते हैं। जब मशीन लगाई थी उसके बाद एक साल तक तो इंजीनियर समय-समय पर यहां आते रहे। इसके बाद किसी ने भी बंद मशीन को चालू करने पर ध्यान नहीं दिया। इस कारण यह सुविधा दो साल से स्टेशन परिसर में शोपिस बनकर गई है।

त्योहार के समय स्टेशन पर ट्रेनों के क्रॉसिंग में कई यात्री टिकट नहीं मिलने पर करते हैं बिना टिकट यात्रा

स्टेशन पर बंद पड़ी टिकट वेंडिंग मशीन।

यह हो रही है परेशानी

यात्री मोहित माहेश्वरी ने बताया त्योहार व शादी-ब्याह के सीजन में यात्री भार अधिक रहता है। काउंटर कम होने से यात्रियों को टिकट के लिए लंबी कतार में खड़े होकर इंतजार करना पड़ता है। यात्री सुविधा के लिए लगाई दोनों मशीनें भी बंद है। कई बार यात्रियों को ट्रेन आने के बाद भी टिकट नहीं मिलता। मजबूरी में लोगों को बिना टिकट ही सफर करना पड़ता है।

यूटीएस एप से भी ले सकते हैं टिकट

रेलवे द्वारा यात्रियों की सुविधा के लिए ऑनलाइन टिकट की व्यवस्था के लिए एक साल पहले यूटीएस एप लांच किया था। यात्री इसे गुगल प्ले स्टोर्स से डाउनलोड कर मोबाइल नंबर से रजिस्टर्ड कर सकते हैं। इसके बाद अगर स्टेशन की विंडो पर भीड़ लगी है तो ट्रेन में बैठकर भी आसानी से गंतव्य स्थल का टिकट प्राप्त कर सकते हैं। यूटीएस को ऑनलाइन या टिकट विंडो से 100 रुपए या इससे अधिक राशि से रिचार्ज करवाना जरूरी हाेता है। इस पर रेलवे पांच रुपए अतिरिक्त देती है।

एक ही टिकट विंडो होने से यात्रियों होते हंै परेशान।

स्मार्ट कार्ड का भी नहीं मिला लाभ

एटीवीएम से टिकट लेने के लिए यात्री को स्मार्ट कार्ड बनाकर दिए जाने थे। कार्ड रिचार्ज की सीमा न्यूनतम 50 रुपए से अधिकतम 4 हजार रुपए तक निर्धारित की गई थी। इससे यात्री अपने और परिवार के सदस्यों का मशीन से टिकट ले सकते थे। लेकिन मशीन का संचालन ही सही नहीं होने से जिन यात्रियों ने यह कार्ड बनवाए वह भी अनुपयोगी साबित हो रहे हैं।

प्रतिदिन 22 ट्रेनों का ठहराव

नीमच स्टेशन पर प्रतिदिन 22 से अधिक यात्री ट्रेनों का ठहराव हाेता है। इसमें सामान्य दिनाें में 2 हजार तथा त्योहारी सीजन में 3 हजार से अधिक यात्री सफर करते हैं। स्टेशन पर दो मिनट का ठहराव होने से टिकट लेने के लिए यात्रियों में अफरा-तफरी मच जाती है। स्टेशन पर यात्री भार से ही प्रतिदिन ढाई करोड़ का राजस्व रेलवे को मिलता है। इसके बावजूद यात्री सुविधा विस्तार पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

त्योहारी सीजन मंे ट्रेन में यात्रियों की भीड़ उमड़ रही है।

त्योहार के समय अतिरिक्त विंडो शुरू की जाएगी


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना