• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Nepanagar News
  • फिनिशिंग में देरी, नए सत्र में हैंडओवर नहीं हुए डवाली व सुक्ता के हाईस्कूल
--Advertisement--

फिनिशिंग में देरी, नए सत्र में हैंडओवर नहीं हुए डवाली व सुक्ता के हाईस्कूल

भास्कर संवाददाता | धूलकोट/पीपलपानी शिक्षा विभाग शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिए प्रयास कर रहा है। ग्रामीण...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 04:15 AM IST
भास्कर संवाददाता | धूलकोट/पीपलपानी

शिक्षा विभाग शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिए प्रयास कर रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में सालों पहले बनाए गए स्कूल जर्जर हो चुके हैं। दीवारों व छत से प्लास्टर गिरता है। खिड़कियां दरवाजे टूट चुके है। कई ऐसे गांव है जहां अब तक स्कूल नहीं है। इन गांवों में या तो पुराने पंचायत भवन में कक्षाएं लगती है या एक ही भवन में कई विद्यार्थियाें को बैठाकर पढ़ाया जाता है।

स्कूलों के कुछ ऐसे ही हालात नेपानगर क्षेत्र के ग्राम सुक्ता व डवाली में भी है। शिक्षा विभाग ने इन हालातों को बदलने के लिए 2 करोड़ की लागत से नए स्कूल बनाने के लिए 2016-17 में पीआईयू विभाग को काम दिया। इन भवानों का निर्माण नए सत्र पूरा कर यहां कक्षाएं संचालित होनी था। 1 अप्रेल को रविवार होने के कारण 2 अप्रेल से नया सत्र शुरु होगा। लेकिन पीआईयू विभाग के जिम्मेदार अफसर इन भवनों का कार्य अब तक पूरा नहीं करा सके हैं। दिखाने के लिए दानों भवनों के बाहर से रंग रोगन कर दिया गया है। लेकिन कमरों और परिसर में टाइल्सें और फिनिशिंग का काम अधूरा है। 1 माह बाद इसे हैंडओवर करने की बात कही जा रही है। तब तक विद्यार्थियों को पुराने भवनों में बैठना पड़ेगा। जहां पानी और बैठने की पर्याप्त व्यवस्था नहीं है। 1 माह बाद स्कूलों की गर्मियों की छुट्टी लग जाएगी।

पीपलपानी में एक करोड़ की लागत से बनाए जा रहे स्कूल भवन का निर्माण 50 प्रतिशत भी पूरा नहीं हुआ है।

पीपलपानी में भवन का 50 प्रतिशत काम भी नहीं हुआ

तीनों भवनों को नए सत्र में शुरु किया जाने का लक्ष्य रखा गया था। लेकिन पीपलपान में भवन का निर्माण 50 प्रतिशत भी नहीं हो सका है। ग्रामीणों ने पिछले दिनों ठेकेदार और कर्मचारियों पर घटिया निर्माण का आरोप लगाया। विरोध के बाद काम रुकवा दिया। तब से यहां काम को दोबारा शुरु करने में देरी हुई। अफसरों की समझाईश के बाद काम शुरु हुआ लेकिन पूरा नहीं हो पा रहा है। लोगों ने कहा लंबे समय से स्कूल भवन की मांग कर रहे हैं। बच्चों को जर्जर स्कूल में बैठना पड़ता है। अब नए भवन का निर्माण हो रहा है तो इसमें जिम्मेदार लापरवाही कर रहे हैं। ऐसे में सह भवन ज्यादा समय नहीं टिकेंगे। बच्चों को बाद में परेशानी झेलनी पड़ेगी।

एक माह में कार्य पूरा कर हैंडओवर करेंगे


परियोजना यंत्री पर तीन भवन बनाने की जिम्मेदारी

शिक्षा विभाग जिले में पीआईयू विभाग से तीन स्थान डवाली, सुक्ता और पीपलपानी में नए हाईस्कूल का निर्माण करवा रहा है। तीन जगह साइडें चलने के कारण परियोजना यंत्री बीपी साल्वे ध्यान नहीं दे पा रहे हैं। इसलिए समय पर कार्य नहीं हो पा रहा है। लगभग एक साल पहले निर्माण शुरु किया गया था। साल्वे का तीन साइडों के चक्कर लगाने पड़ते हैं। डवाली और सुक्ता तो पास पड़ता है। लेकिन पीपलपानी जाने पर कर्मचारी काम बंद कर देते हैं। लापरवाही बरतते हैं।