Hindi News »Madhya Pradesh »Nepanagar» ताप्ती नदी सूखी, अब नगर में एक दिन बाद सप्लाय होगा पानी, बढ़ेगी परेशानी

ताप्ती नदी सूखी, अब नगर में एक दिन बाद सप्लाय होगा पानी, बढ़ेगी परेशानी

नेपानगर-अंबाड़ा मार्ग पर स्थित ताप्ती नदी पर बने एनीकेट पुल पर गेट नहीं लगाए जाने के कारण सैकड़ों लीटर पानी व्यर्थ...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 06:15 AM IST

नेपानगर-अंबाड़ा मार्ग पर स्थित ताप्ती नदी पर बने एनीकेट पुल पर गेट नहीं लगाए जाने के कारण सैकड़ों लीटर पानी व्यर्थ बह गया। पानी सूखने के कारण नगर में जलसंकट शुरू होने लगा है। अब एक दिन के अंतराल में पानी का सप्लाय होगा। नेपा लिमिटेड ने नोटिस जारी कर दिया है। इसमें बताया है कि हर दिन सुबह-शाम कंपनी द्वारा पेयजल वितरण किया जाता है लेकिन अब एक दिन के अंतराल में पेयजल वितरण हाेगा। इस कारण नगरवासियों के सामने अब पानी की परेशानी खड़ी हो गई है। गौरतलब है कि नगर में नेपा लिमिटेड और नपा द्वारा संयुक्त रूप से पेयजल व्यवस्था देखी जाती है लेकिन मूल रूप से कंपनी ही मुख्य व्यवस्था देखती है। नपा द्वारा नगर के कुछ भागों में ट्यूबवेल के माध्यम से पानी दिया जाता है लेकिन गर्मी के दिनों में यहां भी पेयजल समस्या उत्पन्न हो जाती है। अब ताप्ती नदी का पानी सूखने से नगर सहित ग्रामीण क्षेत्र के लोग भी परेशान होंगे।

एक दिन के बाद सप्लाय के कारण लगभग 25 हजार लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। नेपा लिमिटेड द्वारा हर दिन 2 हजार क्वार्टर में पानी सप्लाय किया जाता है। अन्य लोगों के लिए नेपानगर पालिका द्वारा पानी सप्लाय किया जाता है। इसके लिए वार्डों में ट्यूबवेल चल रहे हैं। जानकारी के अनुसार ताप्ती पर नगर सहित क्षेत्र के करीब 30 गांव के किसान निर्भर हैं लेकिन नदी का पानी सूखने से अब पानी जुटाने में लग गए हैं। भू-जल स्तर गिर गया है। किसान रबी की फसल के बाद खरीफ की फसल के लिए परेशान हो रहे हैं। समस्या को देखते हुए अंबाड़ा के किसानों ने ताप्ती नदी पर ही स्टॉप डेम की मांग की है। जिससे पानी रोककर किसान सालभर खेती के लिए परेशान नहीं हो। उक्त क्षेत्र पूरी तरह किसानी है।

नेपानगर-अंबाड़ा मार्ग पर स्थित ताप्ती नदी पर बने एनीकेट पुल पर गेट नहीं लगाए जाने के कारण सैकड़ो लीटर पानी व्यर्थ बह गया।

ग्रामीणों ने कहा- जनप्रतिनिधियों को भी बता चुके समस्या

ग्राम अंबाड़ा के पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष अरुण पाटील, सुरेश अप्पा, संतोष अप्पा, कृष्णा आसखड़के सहित अन्य किसानों ने सांसद नंदकुमारसिंह चौहान को पूर्व में ताप्ती नदी पर स्टॉप डेम निर्माण की बात की थी। इसके अलावा विधायक मंजू दादू को भी समस्या से अवगत कराकर कराया था लेकिन अब तक इस मामले में कोई सकारात्मक रुख नहीं हो पाया है। ग्राम के सुभाष पवार ने बताया ताप्ती नदी से ही शहर, आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की आपूर्ति की जाती है। पानी रोकने से गर्मी के मौसम में शहरी क्षेत्र में पानी का सप्लाय, जल संग्रहण, कृषि सिंचाई और मवेशियों के लिए पानी की लंबे समय तक उपलब्धता बनी रहती है। गेट नहीं होने के कारण यहां पानी बह गया।

पानी रोकने की नहीं की व्यवस्था

ताप्ती नदी स्थित एनिकट के पास बारिश के बाद पानी रोकने के लिए सितंबर-अक्टूबर माह में ही गेट लगा दिए जाते हैं। यह काम नेपा लिमिटेड द्वारा किया जाता है। जिसके बाद नगर एवं आसपास के क्षेत्र में पानी की आपूर्ति बनी रहती है लेकिन कंपनी के रिनोवेशन के कारण उत्पादन बंद होने से कंपनी ने पानी रोकने जैसी कोई व्यवस्था नहीं की। गेट नहीं लगाए जाने से सैकड़ों लीटर पानी दिसंबर माह में भी खत्म हो गया। पुलिया से दूर-दूर तक सूखी जमीन ही नजर आ रही है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Nepanagar

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×