भोपाल

--Advertisement--

कांग्रेस में मतभेद: नेता प्रतिपक्ष ने कहा पैसे लेकर टिकट देने की प्रथा गलत

दीपक बावरिया ने कहा था कि पार्टी को आर्थिक तंगी से निकालने के लिए पार्टी एक नया फॉर्मूला आजमाने जा रही है।

Danik Bhaskar

Mar 10, 2018, 03:34 PM IST

भोपाल/इंदौर। मप्र में इस साल होने वाले विस चुनाव में टिकट के लिए प्रत्याशी से 50 हजार रुपए पार्टी कोष में जमा करवाने के कांग्रेस के फॉर्मूले का विरोध शुरू हो गया है। इस फरमान से कांग्रेस के कई नेताओं में मतभेद पैदा हो गया है। नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने पैसे लेकर टिकट देने के फॉर्मूले को गलत बताया है। बता दें कि गत महीने मप्र के दौरे पर आए प्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया ने बैठक के दौरान रुपए लेकर टिकट मिलने की जानकारी दी थी।

क्या कहा था दीपक बावरिया ने...
दीपक बावरिया ने कहा था कि पार्टी को आर्थिक तंगी से निकालने के लिए पार्टी एक नया फॉर्मूला आजमाने जा रही है। विस चुनाव में टिकट के लिए आवेदन करने वालों को पार्टी कोष में 50 हजार रुपए का डीडी जमा करवाना होगा। फॉर्मूले के तहत महिलाओं, अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों को 25 हजा रुपए जमा करवाने होंगे। उनका कहना था कि इस फैसले से टिकट मांगने वालों में भी गंभीरता बनी रहेगी और पार्टी को कोष के लिए जूझना नहीं पड़ेगा। टिकट मांगने वालों को 15 मार्च तक डीडी जमा करवाना होगा।


क्या कहा नेता प्रतिपक्ष ने...
- नेता प्रतिपक्ष और विधायक दल के नेता अजय सिंह ने कहा कि पैसा लेकर टिकट नहीं दिया जाना चाहिए। पार्टी को अपने जीतने वाले प्रत्याशी का चयन कर उन्हें टिकट दिया जाना चाहिए। टिकट के देने के लिए पैसा अाधार नहीं होना चाहिए। यदि कोई 50 हजार रुपए टिकट के लिए देता और उसे टिकट नहीं मिलता तो वह निराश होगा। यह प्रथा पूरी तरह से गलत है।

Click to listen..