--Advertisement--

जबलपुर में बैठकर पाकिस्तान प्रीमियर लीग की सट्टेबाजी, तीन सटोरिए गिरफ्तार

मध्य प्रदेश के जबलपुर शहर में पुलिस ने छापा मारकर तीन सटोरियों को गिरफ्तार किया है।

Danik Bhaskar | Mar 09, 2018, 05:51 PM IST
गुरुवार को देर रात पुलिस ने मा गुरुवार को देर रात पुलिस ने मा

भोपाल। क्रिकेट के सट्टे के लिए बदनाम मध्य प्रदेश के जबलपुर शहर में अब चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। यहां के सटोरिए पाकिस्तान क्रिकेट लीग पर सट्टे के दांव लगाते हुए रंगे हाथ पकड़े गए हैं। क्राइम ब्रांच ने तीन सटोरियों को गिरफ्तार करते हुए 50 लाख की सट्टा पर्चियां बरामद की हैं।

-पुलिस के अनुसार, क्राइम ब्रांच की टीम ने गोरखपुर गुरुद्वारे के पीछे एक मकान में छापा मारा, जहां पर क्रिकेट पर सट्टा लगा रहे दीपक चौकसे, गोविंद और अर्पित तिवारी को सट्टा खेलते हुए हिरासत में लिया गया।

तीनों सटोरियों से 50 लाख सट्टे की पर्चियां बरामद
-आरोपियों के पास से बरामद रजिस्टर में लगभग 50 लाख रुपए के सट्टे का हिसाब-किताब मिला है। इसके अलावा आरोपियों से 15 हजार नगद, 12 मोबाइल, एक लैपटॉप, एक एलसीडी और एक कनेक्टर जब्त किया गया गया है।
-एएसपी संदीप मिश्रा ने बताया कि गुरुवार रात सूचना मिली कि भारत और बांग्लादेश के बीच चल रहे टी-ट्वेन्टी मैच में गुरुद्वारे के पीछे स्थित मदान कॉम्पलैक्स में सट्टा लगाया जा रहा है। क्राइम ब्रांच की टीम ने कॉम्पलैक्स की दूसरी मंजिल पर छापा मारा तो सदर निवासी दीपक चौकसे, अर्पित तिवारी और गोराबाजार निवासी गोविंद अधिकारी सट्टे की बुकिंग कर रहे थे।
पुलिस को मिले 15 हजार नकद, 12 मोबाइल
-पुलिस को मौके से 15 हजार नगद, 12 मोबाइल, एक एलसीडी, एक लैपटॉप और एक कनेक्टर मिला। आरोपियों से बरामद किए गए रजिस्टर से लगभग 50 लाख रुपए के सट्टे का हिसाब-किताब मिला है।

नागपुर से जुड़े तार
-पूछताछ में पता चला है कि क्रिकेट का सट्टा खिलाने वाले आरोपियों के तार नागपुर से जुड़े हुए हैं। आरोपी जबलपुर में सट्टे की बुकिंग करने के बाद उसे नागपुर में पलटाया करते थे। पुलिस नागपुर के बुकियों तक पहुंचने का प्रयास कर रही है। पुलिस को उम्मीद है कि पूछताछ के दौरान सट्टे के रैकेट से जुड़े कई बड़े खुलासे हो सकते हैं।

किराए पर लिया था फ्लैट
-पुलिस ने बताया कि सदर निवासी दीपक चौकसे ने मदान कॉम्पलैक्स की दूसरी मंजिल पर किराए पर फ्लैट लिया था। फ्लैट से वह क्रिकेट का सट्टा खिला रहा था। कार्रवाई में क्राइम ब्रांच के एएसआई रामसनेही शर्मा, प्रधान आरक्षक विजय शुक्ला, धनंजय सिंह, आरक्षक अजीत पटेल, आनंद तिवारी, राजेश केवट, नितिन मिश्रा और अनिल शर्मा शामिल थे।