--Advertisement--

2 साल पहले ली ट्रेनिंग, वुमन्स डे पर CM को ऑटो में घुमाकर चर्चा में आई ये महिला

शहर में सिर्फ पांच महिलाओं के पास गाड़ी चलाने के लिए कमर्शियल लाइसेंस हैं। इनमें तलत जहां भी शामिल हैं।

Danik Bhaskar | Mar 10, 2018, 02:51 AM IST
तलत जहां ऑटो चलाती हुई। तलत जहां ऑटो चलाती हुई।

भोपाल. शहर में सिर्फ पांच महिलाओं के पास गाड़ी चलाने के लिए कमर्शियल लाइसेंस हैं। इनमें तलत जहां भी शामिल हैं। गुरुवार को महिला दिवस के मौके पर सीएम शिवराज सिंह चौहान को ऑटो में घुमाने के बाद तलत चर्चा में हैं। उन्होंने एक्सीपीरियंस शेयर किए।

सीएम का सुन नर्वस हो गईं..

- जैसे ही पता चला की सीएम शिवराज सिंह चौहान ऑटो को हरी झंडी दिखाएंगे, तो नर्वस हो गई थी। महिला दिवस पर सीएम ने झंडी दिखाने की जगह चाबी सौंपी और लोगों के कहने पर वे, उनकी पत्नी साधना सिंह और महिला एवं बाल विकास मंत्री अर्चना चिटनीस ऑटो में बैठी, तो धड़कन तेज हो गई।

- पहले तो गाड़ी स्टार्ट नहीं हुई जैसे-तैसे ऑटो चलाया तो आत्मविश्वास लौटा। उन्हें महिला सशक्तिकरण कार्यालय से जवाहर भवन के गेट तक ले गई। उसके बाद जब सीएम ने कहा कि वल्लभ भवन तक जाएंगे।

- इस पर सुरक्षा कर्मी ने ऑटो चलाकर देखा, इतने में ऑटो का क्लच वायर टूट गया। उसके बाद सीएम अपनी कार से रवाना हुए। उन्हें वल्लभ भवन तक छोड़ने की इच्छा अधूरी रह गई।

ससुराल वालों ने सताया तो अपना रास्ता खुद बनाया...

- मैं 12वीं तक पढ़ी हूं। पिता अहमद नूर मजदूर हैं। वर्ष 2013 में माता-पिता ने शादी कर दी। पति ट्रक क्लीनर थे। 15 दिन ही तक तो ससुराल वालों ने ठीक रखा। उसके बाद उन्होंने प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। तमाम कोशिशों के बाद भी जब बात नहीं बनी तो वर्ष 2014 में थाने में केस दर्ज कराया।

- यहीं से जिंदगी बदल गई। मेरे सामने आर्थिक संकट खड़ा हो गया। ब्यूटी पार्लर और दूसरे कोर्स की ट्रेनिंग की। इसी दौरान गौरवी संस्था में कमलेश जोशी आए। वे ऑटो डीलर थे। उन्होंने कहा कि ससुराल से पीड़ित महिलाएं केवल अचार, बड़ी, पापड़ और सिलाई कढ़ाई क्यों सीखती हैं, कोई ओर काम क्यों नहीं।

- उन्होंने कहा कि पूरे देश में महिलाएं ऑटो चला रही है यहां क्यों नहीं। यह सुनकर लगा कि कुछ हटकर किया जा सकता है। उसके साथ 12 लड़कियों ने 2016 में ऑटो चलाने की ट्रेनिंग ली। (जैसा कि तलत जहां ने दैनिक भास्कर को बताया।)

मां ने भी सीखा

अभी से ही मिलने लगे ताने...जिस दिन ऑटो पलटेगा, तब समझ में आएगा
+ तलत ने बताया कि पेट्रोल भरवाने के लिए गुरुवार को पंप पहुंची, तो महिला वर्कर ने ऑटो रिक्शा चलाने की ट्रेनिंग के बारे में पूछा, तो पीछे खड़े दूसरे ऑटो ड्राइवर ने ताना मारा हम लोगों को धंधा अब महिलाएं छीनेंगी। जिस दिन ऑटो पलटेगा तब समझ में आएगा।

केवल महिलाओं के लिए रहेगा ऑटो
- तलत ने बताया कि वे प्रयास कर रही हैं कि ऑटो किसी कैब एजेंसी से जुड़ जाए। वे ऑटो केवल महिलाओं के लिए चलाना चाहती हैं। ताकि महिलाएं सहज और सुरक्षित महसूस कर सकें। तलत कहती हैं कि मुझे ट्रेनिंग लेते देखकर मां फिरोजा बी ने भी ऑटो चलाना सीखा।