Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» New Policy Approved Nutrition To One Crore Children Of MP

नई नीति मंजूर : स्वसहायता समूह देंगे मप्र के एक करोड़ बच्चों को पोषण आहार

प्रदेश में एक करोड़ बच्चों को पोषण आहार वितरण का काम सेल्फ हेल्प ग्रुप को दिया जाएगा।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 15, 2017, 05:16 AM IST

नई नीति मंजूर : स्वसहायता समूह देंगे मप्र के एक करोड़ बच्चों को पोषण आहार
भोपाल .पोषण आहार की नई नीति को कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है। इसके तहत प्रदेश में एक करोड़ बच्चों को पोषण आहार वितरण का काम सेल्फ हेल्प ग्रुप को दिया जाएगा। इसे लागू किए जाने की प्रक्रिया तैयार की जानी है, जिसकी समय सीमा अभी तय नहीं है। प्रदेश में करीब तीन लाख सेल्फ हेल्प ग्रुप हैं जो इस काम को करेंगे। नई व्यवस्था लागू होने तक पोषण आहार की मौजूदा व्यवस्था ही लागू रहेगी। कैबिनेट में यह भी सुझाव आया कि सेल्फ हेल्प ग्रुप को सीएम स्वरोजगार योजना से भी जोड़ा जा सकता है। ग्रामीण और शहरी क्षेत्र की सभी आंगनबाड़ियों में 6 माह से 3 वर्ष तक के बच्चों, गर्भवती माताओं, बालिकाओं को टेक होम राशन देने का काम सेल्फ हेल्प ग्रुप करेंगे।
केंद्र ने नीति बदली तो राज्य की नीति में भी होगा बदलाव
संभाग स्तर पर होगा पोषण आहार उत्पादन और सप्लाई
- जारी टेंडर में यह प्रावधान किया जाएगा कि टेंडर प्रक्रिया अवधि में यदि भारत सरकार द्वारा किसी नई नीति का निर्धारण किया जाता है तो कैबिनेट ने जिस नीति काे मंजूर किया है, उसमें बदलाव किया जाएगा।
- पहले टेंडर में योग्य सेल्फ हेल्प ग्रुप, सेल्फ हेल्प ग्रुप का फेडरेशन उपलब्ध न हो तो अन्य विकल्पों पर विचार किया जाएगा।
- सेल्फ हेल्प ग्रुप की भागीदारी होने तक पोषण आहार की आपूर्ति मौजूदा व्यवस्था के अनुसार ही की जाएगी। आंगनबाड़ी केंद्रों में हितग्राहियों को उच्च गुणवत्ता के पूरक पोषण आहार की व्यवस्था निरंतर बनी रहे, यह सुनिश्चित किया जाए।
- टेक होम राशन (टीएचआर) की नई व्यवस्था के लिए सेल्फ हेल्प ग्रुप/सेल्फ हेल्प ग्रुप के फेडरेशन के लिए पारदर्शी टेंडर प्रक्रिया शीघ्र पूरी की जाएगी। इस संदर्भ में सुप्रीम कोर्ट एवं केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा दिए गए निर्देशों एवं शर्तों का पालन किया जाएगा।
- टीएचआर उत्पादन एवं सप्लाई की व्यवस्था का विकेंद्रीकरण संभाग स्तर पर किया जाएगा, जो नर्मदापुरम, इंदौर, रीवा, सागर, ग्वालियर, जबलपुर और उज्जैन से होगा।
- सेल्फ हेल्प ग्रुप और ऐसे ग्रुप के फेडरेशन जो टीएचआर उत्पादन एवं सप्लाई में रुचि रखते हैं, टेंडर में भाग ले सकेंगे।
भोपाल संभाग में निजी कंपनियों की छुट्टी, एमपी एग्रो के प्लांट से ही सप्लाई
- नई नीति में यह भी साफ कर दिया गया है कि भोपाल संभाग में पोषण आहार की सप्लाई मध्यप्रदेश एग्रो इंडस्ट्रीज डवलपमेंट काॅर्पोरेशन (एमपी एग्रो) के रायसेन जिले के बाड़ी स्थित प्लांट से होगी।
- इस प्लांट से भोपाल, रायसेन, सीहोर, राजगढ़ एवं विदिशा जिले की परियोजनाओं में टेक होम राशन सप्लाई किया जाएगा। अभी इन जिलों में पोषण आहार सप्लाई का काम मंडीदीप स्थित निजी प्लांट से भी किया जाता है।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×