--Advertisement--

ऐसी महिलाओं को प्रतिनिधि बनाया जिनका पार्टी से कोई लेना देना नहीं

प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में शुक्रवार को दीपक बावरिया ने प्रदेश महिला कांग्रेस समेत अन्य प्रकोष्ठों की बैठक ली।

Danik Bhaskar | Nov 25, 2017, 06:30 AM IST

भोपाल. प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में शुक्रवार को दीपक बावरिया ने प्रदेश महिला कांग्रेस समेत अन्य प्रकोष्ठों की बैठक ली। इस दौरान विंध्य, ग्वालियर-चंबल और मालवा क्षेत्र से आई महिला पदाधिकारियों ने पीसीसी डेलीगेट्स न बनाए जाने की बात खुलकर रखी। उनका कहना था कि पीसीसी डेलीगेट्स की सूची में ऐसी महिलाओं को प्रदेश प्रतिनिधि बना दिया गया जिनका पार्टी संगठन से कोई लेना देना नहीं था। वरिष्ठता का ध्यान नहीं रखा गया।

- इस पर प्रदेश प्रभारी बावरिया ने महिला कांग्रेस द्वारा उठाई गई आपत्तियों को सुना, औरआश्वासन दिया कि भविष्य में महिलाओं की संगठन में पार्टी के संविधान के अनुसार भागीदारी सुनिश्चित की जाएगी। उल्लेखनीय है कि महिलाओं को 33 प्रतिशत स्थान दिए जाने का प्रावधान है।

- पीसीसी में सेवादल, महिला कांग्रेस, मध्यप्रदेश किसान विभाग, अल्पसंख्यक विभाग और विचार विभाग की बैठक आयोजित की गई। इन बैठकों का क्रम देर रात तक जारी रहा। बावरिया ने अल्पसंख्यक विभाग की बैठक में पदाधिकारियों से कहा कि उन्हें एकजुट होकर फासिस्टवादी ताकतों से निपटने के लिए कड़ा संघर्ष करने की बात कही, वहीं इन वर्गों को पार्टी और संगठन में पर्याप्त स्थान दिए जाने का आश्वासन दिया।

- प्रदेश में बिगड़ती कानून व्यवस्था को लेकर महिला कांग्रेस ने पीसीसी कार्यालय के सामने प्रदर्शन किया। महिला कांग्रेस की प्रदेशाध्यक्ष मांडवी चौहान के नेतृत्व में हुए प्रदर्शन में जिला महिला कांग्रेस अध्यक्ष संतोष कसाना समेत बड़ी संख्या में महिला कार्यकर्ता मौजूद थीं।