Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Students Elections: Main Issue - College Does Not Give Notice On Time

छात्रसंघ चुनाव: मुख्य मुद्दा- कॉलेज समय पर नहीं देते फीस जमा करने की सूचना

परीक्षा के दौरान मोटी रकम वसूल रहे हैं। फाइन का भुगतान नहीं करने पर फॉर्म ही फाॅरवर्ड नहीं किए जाते।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 26, 2017, 06:31 AM IST

  • छात्रसंघ चुनाव: मुख्य मुद्दा- कॉलेज समय पर नहीं देते फीस जमा करने की सूचना

    भोपाल.प्राइवेट कॉलेज फाइन के नाम पर परीक्षा के दौरान मोटी रकम वसूल रहे हैं। फाइन का भुगतान नहीं करने पर फॉर्म ही फाॅरवर्ड नहीं किए जाते। कॅालेज द्वारा छात्रों को समय पर फीस जमा करने की जानकारी नहीं दी जाती है। परीक्षा से ठीक पहले फीस जमा करने के लिए कहा जाता है। तय समय सीमा में फीस जमा नहीं करने पर 100 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से फाइन वसूला जाता है। छात्र अगर इसका विरोध करते हैं तो उन्हें ईयर बैक की धमकी दी जाती है। यह वो मामला है जो प्राइवेट कॉलेजों में छात्रसंघ चुनाव का मुख्य मुद्दा है। हर कॉलेज में छात्रों का कहना है कि जो भी उनकी समस्याओं के निराकरण का भरोसा दिलाएगा, उसे ही प्रेसिडेंट के लिए वोट देंगे। ज्यादातर में न पार्किंग, न सीसीटीवी कैमरे

    - चुनाव से पहले आपसी चर्चा में छात्र कॉलेज प्रबंधन के प्रति खुलकर नाराजगी जता रहे हैं। ज्यादातर छात्रों का कहना है कि प्रबंधन समय पर फीस जमा करने की जानकारी नहीं देता, बाद में पेनाल्टी वसूली जाती है।

    - बड़े प्राइवेट कॉलेजों की हालत यह है कि ज्यादातर में पार्किंग की सुविधा ही नहीं है। जबकि कुछ में कॉलेज कोड 28 के तहत शिक्षकों की नियुक्ति ही नहीं है। कैंपस की सुरक्षा के लिए गार्ड तो हैं लेकिन छात्र-छात्राओं की सुरक्षा के लिए पर्याप्त सुविधा नहीं है। ज्यादातर कॉलेजों में सीसीटीवी कैमरे तक नहीं है।

    कॉलेज काफी दूर हैं, बस की सुविधा तक नहीं

    - छात्रों का कहना है कि कई कॉलेज शहर से काफी दूर हैं। इसके कारण आने-जाने परेशानी होती है। बीयू से संबद्ध एक भी प्राइवेट कॉलेज ऐसा नहीं है जो बस की सुविधा मुहैया करा रहा हो। कॉलेज में पढ़ाई का माहौल नहीं होने के कारण उपस्थिति अक्सर कम रहती है।

    - एक छात्र यदि अपनी बात उठाता है तो उसे दबा दिया जाता है। छात्रों ने कॉलेजों में कैंटीन नहीं होने का मुद्दा भी उठाया है। उनका कहना है कि कुछ एक कॉलेजों में ही कैंटीन है, लेकिन वहां भी खान-पान की व्यवस्था सही नहीं है।

    - चुनाव के बाद अध्यक्ष के माध्यम से समस्याएं उठाने की कोशिश करेंगे। बरकतउल्ला विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार डॉ. यूएन शुक्ला ने चुनाव के बाद ऐसे सभी कॉलेजों के निरीक्षण की बात कही है।

    ज्यादातर सीआर निर्विरोध...

    - तय शेड्यूल के तहत शनिवार को कॉलेजों में कक्षा प्रतिनिधियों (सीआर) का नामांकन किया गया। ज्यादातर कॉलेजों में सीआर निर्विरोध चुने गए हैं, जबकि कुछ में मनोनयन हुआ है। ऐसे कॉलेजों में ऐसे सीआर की संख्या कम है, जिनकी वोटिंग होनी है।

    प्रमुख कॉलेजों में सीआर की स्थिति
    कॅालेज सीआर निर्विरोध मनोनयन वोटिंग
    कॅरियर 66 32 31 03
    राजीव गांधी 47 25 18 00
    बोनीफाई 39 16 18 00
    शा-शिब कॉलेज 25 15 05 01
    राजीव गांधी बीएड 13 02 01 00
    आइपर 11 03 0 08
    वीएनएस बीएड 07 07 0 00
    वीएनएस रेगुलर 04 04 0 00
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×