Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Suicide Note - I Am Troubled By Jubber Self-Harm

युवक ने सुसाइड नोट में लिखा- जुबेर से परेशान होकर कर रहा हूं खुदकुशी

जुबेर ऐशबाग और अशोका गार्डन थाना क्षेत्र का कुख्यात बदमाश है, जिसे फिलहाल अशोका गार्डन पुलिस नहीं तलाश पाई है।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 30, 2017, 05:40 AM IST

  • युवक ने सुसाइड नोट में लिखा- जुबेर से परेशान होकर कर रहा हूं खुदकुशी

    भोपाल .‘मुझे माफ करना। जुबेर मौलाना और भांजा बाबू भाई परेशान कर रहा है। मेरी मौत से किसी का कोई लेना-देना नहीं है। परेशान होकर मैं आत्महत्या करने जा रहा हूं।’ अशोका गार्डन इलाके में फांसी लगाने के पहले लिखे सुसाइड नोट में एक युवक ने कुछ ऐसा ही जिक्र किया है। जुबेर ऐशबाग और अशोका गार्डन थाना क्षेत्र का कुख्यात बदमाश है, जिसे फिलहाल अशोका गार्डन पुलिस नहीं तलाश पाई है।
    बी-22 मयूर विहार, अशोका गार्डन निवासी 29 वर्षीय मनोज सिंह पिता सुरेश चंद सिंह प्रभात चौराहा स्थित होटल सिल्वर इन में जॉब करते थे।

    - रात की ड्यूटी के बाद बुधवार सुबह सात बजे वे घर पहुंचे। मां से चाय लाने का कहकर पहली मंजिल स्थित अपने कमरे में चले गए। सुबह करीब दस बजे मां चाय लेकर कमरे में आईं।

    - दस्तक देने के बाद भी दरवाजा नहीं खुला तो उन्होंने खिड़की से झांका। देखा कि मनोज फंदे पर लटके थे।

    - परिवार ने दरवाजा तोड़कर शव फंदे से उतारा। पास ही एक सुसाइड नोट मिला। मनोज के चाचा संजय सिंह पुलिस सिपाही हैं।

    - संजय ने बताया कि मनोज ने कभी भी किसी तरह की परेशानी का जिक्र नहीं किया था।

    - एएसआई मनोज यादव के अनुसार जुबेर मौलाना पर ऐशबाग और अशोका गार्डन थाने में 47 मामले दर्ज हैं।

    - अशोका गार्डन पुलिस कॉपी के पेज पर लिखे सुसाइड नोट की लिखाई और वाक्य पूरे नहीं होने के कारण पुलिस इसे जल्दबाजी में लिखे जाने का अंदाजा लगा रही है।
    - इधर, हनुमानगंज की वेस्ट रेलवे कॉलोनी में रहने वाले एक युवक रईश खां ने फांसी लगा ली। सुसाइड नोट नहीं मिलने से आत्महत्या के कारणों का खुलासा नहीं हो पाया है।

    माफ करना मम्मी-पापा
    मैं बहुत परेशान हो चुका हूं। इसलिए खुदकुशी कर रहा हूं। मेरी मौत का किसी से कोई लेना देना नहीं है। लेकिन बाग फरहत अफ्जा निवासी जुबेर मौलाना और भांजा बाबू भाई परेशान कर रहा है। अब मुझे कोई परेशान नहीं कर पाएगा। माफ करना गौरी, मम्मी, पापा और ममता। (-जैसा मनोज ने सुसाइड नोट में लिखा )

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×