--Advertisement--

निगम ने अपने स्तर पर ही हटा दिए 79 वार्ड, बचे छह में से कमेटी ने चुने पांच

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान मंगलवार को स्वच्छता सर्वेक्षण 2017 के अवार्ड देने आए।

Dainik Bhaskar

Nov 15, 2017, 05:41 AM IST
The corporation removed only at its own level
भोपाल. मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान मंगलवार को स्वच्छता सर्वेक्षण 2017 के अवार्ड देने आए। शाम 6 बजे से वार्ड पार्षद, रहवासी और कारोबारी संगठन के प्रतिनिधि और कई संस्थाओं के नुमाइंदे इंतजार कर रहे थे। सीएम सवा नौ बजे आए। महापौर ने सफाई में नंबर वन आने का प्रण लिया और स्वच्छ अभियान 2018 लांच हुआ। फौरन पुरस्कार घोषित किए गए। दो बार टलने के बाद अब समारोह हुआ और वहीं नगर निगम की चयन प्रक्रिया को लेकर समारोह में ही विरोध हो गया।
- ज्यादातर कांग्रेसी पार्षदों ने आरोप लगाया कि यह मनमाने ढंग से तय किए गए पुरस्कार हैं। प्रक्रिया पारदर्शी नहीं थी। जिन वार्डों में काम हुए, उन्हें देखा तक नहीं गया। महापौर ने अपने नफा-नुकसान को देखते हुए फैसले कराए।
- अवार्ड ले-लेकर प्रतिनिधि बाहर जाने लगे तो सीएम भी एक मिनट से भी कम इतना भर बोले-इंदौर अच्छी तैयारी कर रहा है। नंबर वन के लिए आपको बहुत मेहनत करनी होगी।
दो दिन में 18 लोकेशन पर गए, 20 घंटे में 1800 लोगों से बात भी कर ली
- सबसे साफ और स्वच्छ वार्ड, मोहल्ले और बाजार का चयन तीन सदस्यीय कमेटी ने किया था। इनमें राजेंद्र कोठारी, एचएम मिश्रा और डीपी तिवारी शामिल थे।
- इन्हें पहले से तय छह वार्ड, छह मोहल्ले और छह बाजार देखने के लिए दिए गए। इन्होंने दो दिन तक सुबह नौ से शाम सात बजे तक ये 18 लोकेशन देखीं।
- बताया गया है कि हरेक लाेकेशन पर इन्होंने 100-100 लोगों यानी कुल 1800 लोगों से बात भी की।
पुरस्कार लेते ही रवाना
- पुरस्कार लेकर सारे प्रतिनिधि पांडाल से रवाना होेते रहे। सीएम को सुनने भी कोई नहीं रुका।
वार्ड, जिन्हें चुन लिया गया
- वार्ड 20 संजीव गुप्ता (बीजेपी): 21 लाख रुपए
- वार्ड 64 सुरेंद्र वाडिका (बीजेपी): 11 लाख
- वार्ड 40 मसर्रतजहां (बीजेपी)ं, वार्ड 67 गिरीश शर्मा (कांग्रेस), वार्ड 56 केवल मिश्रा (बीजेपी) को 5-5 लाख रुपए का पुरस्कार
रहवासी संघ
- शाहपुरा ए-बी सेक्टर: 1 लाख
- सम्राट कॉलोनी, अशोका गार्डन: 51 हजार
- इंद्रप्रस्थ सनसिटी सिंगारचोली: 21 हजार
व्यावसायिक संगठन
- न्यू मार्केट: 1 लाख
- गांधी मार्केट: 51 हजार
- दस नंबर मार्केट: 21 हजार
पारदर्शिता पर उठाए प्रश्न
Áवार्ड 65: बीजेपी पार्षद संजय वर्मा-हमने हरसंभव कोशिश कीं। झुग्गी बस्तियों को पूरी तरह ओडीएफ किया। चयन मनमाना है।
Á वार्ड 27: कांग्रेस पार्षद मोनू सक्सेना-आपसी जमावट से चयन हुआ है। समिति को पूछना था कि 6 वार्ड किस आधार पर दिए?
Á शाहपुरा सोसायटी के पूर्व सचिव नवीन चौबे-अवार्ड चयन हास्यास्पद है। पिछले महीने मेयर के आने के बाद हमारे यहां सफाई हुई।
^छह वार्ड सहित इतने ही मोहल्ले और वार्ड की सूची दी गई थी। हमने अलग-अलग स्थानों पर जाकर आकलन किया, लोगों से बात की। इसके आधार पर विजेता चुने गए।
राजेन्द्र कोठारी, सदस्य, चयन समिति
The corporation removed only at its own level
X
The corporation removed only at its own level
The corporation removed only at its own level
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..