Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Women Police Reached The Boat Club

​बोट क्लब पहुंची महिला पुलिस ने युवतियों से कहा- फब्तियां और बदतमीजी मत सहो

कोई फब्तियां कसे, बदतमीजी करे तो सहो मत, उसका विरोध करो। वह गलत है इसलिए मनोवैज्ञानिक रूप से वह तुमसे कहीं ज्यादा कमजोर

Bhaskar News | Last Modified - Nov 27, 2017, 02:33 AM IST

  • ​बोट क्लब पहुंची महिला पुलिस ने युवतियों से कहा- फब्तियां और बदतमीजी मत सहो
    +2और स्लाइड देखें

    भोपाल.कोई फब्तियां कसे, बदतमीजी करे तो सहो मत, उसका विरोध करो। वह गलत है इसलिए मनोवैज्ञानिक रूप से वह तुमसे कहीं ज्यादा कमजोर है। इसलिए तुम्हारे विरोध का असर काफी कारगर होगा। रविवार शाम बोट क्लब पहुंची महिला पुलिसकर्मियों ने ये बात वहां घूमने आईं युवतियों और महिलाओं से कहीं।
    क्राइम ब्रांच एएसपी रश्मि मिश्रा, मैत्री मोबाइल और श्यामला हिल्स थाना प्रभारी के साथ महिलाओं को जागरूक करने के लिए बोट क्लब पहुंची थीं। रविवार शाम साढ़े चार बजे बोट क्लब पर काफी भीड़ थी। यहां युवतियों, महिलाओं से पुलिस ने बात की। डब्ल्यूसेफ्टी, मैत्री मोबाइल और वी केयर फॉर यू के बारे में बताया। इस दौरान टीम ने बगैर हेलमेट बाइक चला रहे सात चालकों के खिलाफ मोटर व्हीकल एक्ट की कार्रवाई की। साथ ही दो लोगों के खिलाफ सार्वजनिक स्थान पर धूम्रपान करने का चालान बनाया।

    - इससे पहले टीम ने बाइक रैली निकाली। थाना श्यामला हिल्स से शुरू हुई रैली पॉलिटेक्निक चौराहा, आकाशवाणी, बोट क्लब, भारत भवन, वर्धमान पार्क होकर गुजरी। इन स्थानों पर रुक-रुक कर टीम ने महिलाओं और युवतियों से बात की। साथ ही बेवजह घूम रहे युवकों से भी यहां होने की वजह पूछी।

    तीन टीआई, दो एसआई की डीई शुरू

    - पीएससी छात्रा से हुई सामूहिक ज्यादती की एफआईआर दर्ज करने में हुई देरी के लिए लापरवाह माने गए तीन टीआई और दो एसआई की विभागीय जांच (डीई) शुरू कर दी गई है। पुलिस मुख्यालय ने जांच का जिम्मा एसपी नरसिंहपुर मोनिका शुक्ला को सौंपा है। सात दिन के भीतर उनका जवाब मांगा गया है। इस मामले में लापरवाही की जांच कर एसआईटी चीफ (डीआईजी महिला सेल) सुधीर लाड़ ने जांच रिपोर्ट 17 नवंबर को एडीजी महिला सेल अरुणा मोहन राव को सौंप दी थी। डीजीपी ने 20 नवंबर को रिपोर्ट देखी और अगले ही दिन आरोप पत्र जारी कर दिया।

    - पीएचक्यू ने एमपी नगर सीएसपी रहे कुलवंत सिंह को नोटिस जारी किया था। वहीं, टीआई एमपी नगर संजय सिंह बैस, टीआई हबीबगंज रवींद्र यादव, टीआई जीआरपी मोहित सक्सेना, एसआई जीआरपी बीपी उइके और एसआई आरएन टेकाम से सात दिन में जवाब मांगा था।

    ...और इधर, 38 घंटे में सिपाही बर्खास्त, लेकिन आरोपी एएसपी व डीएसपी पर कार्रवाई नहीं
    - जहांगीराबाद थाना क्षेत्र में डांस टीचर से छेड़छाड़ करने वाले सिपाही को केस दर्ज होने के 38 घंटे के भीतर ही बर्खास्त कर दिया गया। भोपाल पुलिस ने उसकी पुरानी विभागीय जांच को पूरा कर ये कार्रवाई कर दी।

    - हैरानी की बात ये है कि दो महिलाओं को प्रताडि़त करने वाले डीएसपी पवन मिश्रा और एएसपी राजेंद्र वर्मा अब भी अपने पदों पर बरकरार हैं। कानून के जानकार मानते हैं कि केस दर्ज होने के 48 घंटे के भीतर ऐसे आरोपियों को पद से हटाकर विभागीय जांच के आदेश किए जाने चाहिए।

    - दोनों महिलाओं ने कार्रवाई को लेकर शनिवार शाम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से भी मुलाकात की थी। सीएम ने उन्हें दोनों अफसरों के खिलाफ जल्द ही कार्रवाई का भरोसा भी दिलाया। इसके बाद भी पुलिस मुख्यालय से कोई आदेश जारी नहीं हुए हैं।

  • ​बोट क्लब पहुंची महिला पुलिस ने युवतियों से कहा- फब्तियां और बदतमीजी मत सहो
    +2और स्लाइड देखें
  • ​बोट क्लब पहुंची महिला पुलिस ने युवतियों से कहा- फब्तियां और बदतमीजी मत सहो
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×