भोपाल

--Advertisement--

दो दिन टला सम्मेलन, फिर भी नहीं पहुंच सकीं प्रभारी मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया

सम्मेलन में पांच हजार युवाओं को बुलाया गया था।

Danik Bhaskar

Nov 25, 2017, 07:04 AM IST

राजगढ़ (भोपाल) . दो दिन टालने के बावजूद प्रभारी मंत्री यशोधराराजे सिंधिया शुक्रवार को शहर में आयोजित स्वरोजगार व कौशल विकास सम्मेलन में आखिर नहीं पहुंचीं। सम्मेलन में पांच हजार युवाओं को बुलाया गया था। लेकिन भीड़ कम होने की आशंका से आखिरी समय में प्रशासन ने जिलेभर के स्वसहायता समूहों की कार्यकर्ताओं व नर्सिंग कॉलेज की छात्राओं को बुलाया। इस जिला स्तरीय आयोजन में आने 22 नवंबर को प्रभारी मंत्री यशोधराराजे सिंधिया ने सहमति दी थी। लेकिन बाद में व्यस्तता के चलते उन्होंने तारीख 24 नवंबर तक बढ़ा दी थी। लेकिन वह सम्मेलन में नहीं पहुंचीं।

- स्टेडियम में सम्मेलन की शुरुआत सुबह 11 बजे सांसद रोडमल नागर ने की। उन्होंने स्वसहायता समूहों के बनाए साबुन, फिनाइल, टीशर्ट व फैंसी ड्रेसेस की तारीफ की। कहा इन प्रोड्क्टस की क्वालिटी बढ़िया है लोकल मार्केट में जल्द डिमांड बन जाएगी।

- उन्होंने स्वसहायता समूहों की महिलाओं को प्रोडक्शन के साथ मार्केटिंग पर ध्यान देने के लिए भी कहा। इस मौके पर कलेक्टर, सारंगपुर विधायक, जिपं अध्यक्ष समेत जिले के अफसर आदि मौजूद रहे।

चार विधायक और जनपद पंचायत अध्यक्ष भी नहीं आए
- प्रभारी मंत्री के न आने के कारण जिले के 4 विधायक सहित जनपद पंचायत अध्यक्ष व नपाध्यक्ष भी कार्यक्रम में नहीं आए। मेले में 1801 युवाओं ने पंजीयन कराया। साथ ही निजी क्षेत्र की 12 कंपनियों ने 1026 बेरोजगार युवा-युवतियों को प्रशिक्षण व नियुक्ति के लिए चयनित किया। 110 युवाओं के स्वरोजगार योजना के तहत प्रकरण तैयार किए गए।

महिलाओं के बदले पुरुषों के चयन में कंपनियों ने दिखाई रुचि
- मेले में अधिकतर कंपनियों ने फील्डवर्कर के लिए महिला कैंडिडेट्स की जगह पुरुष उम्मीदवारों में ज्यादा इंट्रेस्ट दिखाया। इससे कई युवतियां हताश हुईं। वहीं, रजिस्ट्रेशन काउंटरों पर भीड़ के कारण युवाओं को पंजीयन के लिए परेशान होना पड़ा। मेले में गाइड करने व्यवस्था नहीं थी। युवा परेशान होकर यहां-वहां के स्टालों पर भटकते रहे।

Click to listen..