--Advertisement--

घर वाले करवाना चाहते थे शादी लड़की पढ़ना, पुलिस को फोन कर कहा - जल्दी आओ मेरा पेपर छूट जाएगा

परिवार के लोगों ने परीक्षा देने नहीं जाने दे रहे थे तो 10वीं क्लास की स्टूडेंट ने ‘निर्भया’ से मदद मांगी।

Danik Bhaskar | Mar 10, 2018, 06:50 AM IST

झाबुआ (इंदौर). परिवार के लोगों ने परीक्षा देने नहीं जाने दे रहे थे तो 10वीं क्लास की स्टूडेंट ने ‘निर्भया’ से मदद मांगी। कुछ ही देर में पुलिस छात्रा के घर पहुंच गई और घरवालों को समझाइश देकर उसे परीक्षा दिलवाने साथ ले गई। जब तक उसने प्रश्न पत्र हल किया तब तक निर्भया टीम केंद्र के बाहर बैठी रही। बाद में छात्रा के सामने परिवार के लोगों को समझाइश देकर उसकी पढ़ाई जारी रखने को कहा था। क्या है मामला...

- मामला कुंदनपुर का है। यहां की रहने वाली 15 वर्षीय बालिका दीक्षा पिता प्रमोद ठाकुर 10वीं कक्षा में पढ़ती है। शुक्रवार को उसका गणित का पेपर था। उधर, घरवाले उसकी शादी की बात कर रहे थे और वे नहीं चाहते थे कि दीक्षा आगे पढ़ाई करे। जब इसकी भनक दीक्षा को लगी तो उसने तत्काल अपने मोबाइल से निर्भया प्रभारी अनीता तोमर के मोबाइल पर मैसेज कर दिया।

- जिसमें उसने अपना पता बताते हुए लिखा कि घरवाले मुझे पेपर नहीं देने दे रहे। मेरी शादी की बात कर रहे हैं। मैं फोन पर बात नहीं कर सकती, जल्दी आओ, मेरे पेपर का समय बीत रहा है। परीक्षा प्रारंभ होने के एन मौके पर मैसेज मिलने से निर्भया टीम को कुंदनपुर पहुंचने में वक्त लग जाता लिहाजा निर्भया प्रभारी अनीता तोमर ने एसपी महेशचंद जैन को पूरी स्थिति से अवगत कराया।

- ऐसे में एसपी ने कुंदनपुर चौकी प्रभारी रामेश्वर गामड़ को बालिका का नाम-पता बताते हुए उसे अपने साथ परीक्षा दिलवाने ले जाने को कहा। चौकी प्रभारी सीधे छात्रा दीक्षा के घर पहुंचे। उसके घरवालों से बात की और एसपी के आदेश का हवाला देते हुए बालिका को अपने साथ परीक्षा केंद्र ले गए।

- तब तक निर्भया टीम भी कुंदनपुर पहुंच गई। परीक्षा खत्म होने तक टीम केंद्र के बाहर बैठी रही। इसके बाद पहले दीक्षा से पूरी बात की। पिताजी नहीं थे तो फिर उसके काका जयसिंह व केशवसिंह को बुलाया। उन्हें समझाया कि जब बालिका पढ़ना चाहती है तो उसे क्यों रोक रहे हो।

- वैसे भी अभी इसकी उम्र कम है और तुमने जबर्दस्ती शादी कराने की कोशिश की तो तुम्हारे खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने भरोसा दिलाया कि दीक्षा की पढ़ाई पूरी होने तक उसकी शादी नहीं की जाएगी।

बालिका सशक्तिकरण महाभियान का असर
- एसपी महेशचंद जैन ने बताया जिले में लगातार बालिका सशक्तिकरण महाभियान चलाया जा रहा है। इसके तहत शैक्षणिक संस्थाओं में जाकर छात्राओं को कम से कम 18 साल तक पढ़ाई करने की शपथ दिलाई जा रही है। साथ ही उन्हें निर्भया विंग का मोबाइल नंबर 7049160237 दिया जा रहा है।

- यदि घरवाले बालिका की जबर्दस्ती शादी करवाने की कोशिश करते हैं या फिर कोई शरारती तत्व उन्हें परेशान करता है तो वे इस नंबर पर सूचना दे सकती है। उन्हें तत्काल पुलिस की मदद मिलेगी। बालिकाएं जागरूक हुई है और अब वे आगे रहकर फोन करने लगी है।