--Advertisement--

जज ने कहा- तारीख आगे नहीं बढ़ेगी, तकनीक का उपयोग करें, हत्या के मामले में सुनवाई

यहां पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर बीबी पुरोहित के बयान दर्ज होने थे। डॉ. पुरोहित समय पर पहुंच गए।

Dainik Bhaskar

Nov 26, 2017, 07:33 AM IST
उज्जैन के जिला जज न्यायमूर्ति बीके श्रीवास्तव ने कायम की नई मिसाल. उज्जैन के जिला जज न्यायमूर्ति बीके श्रीवास्तव ने कायम की नई मिसाल.

उज्जैन . उज्जैन के जिला जज बीके श्रीवास्तव ने शनिवार को एक नई मिसाल कायम की।उनकी पहल के चलते कोर्ट में पहली बार ऑनकॉल जिरह हुई। कोर्ट रूम में जब जूनियर वकील ने अपने सीनियर की गैरमौजूदगी के चलते जज साहब से तारीख बढाने का आग्रह किया तो उन्होंने तारीख बढाने की जगह जूनियर से कहा अपने सीनियर को फोन लगाकर उनसे कहे कि तारीख आगे नहीं बढ़ेगी वे ऑनलाइन जिरह करें। छह मिनट हुई जिरह में 9 सवाल-जवाब हुए।

- जिला एवं सत्र न्यायालय में शुक्रवार को हत्या के एक मामले की सुनवाई हुई। केस में मृतक के पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर बीबी पुरोहित के बयान दर्ज होने थे। डॉ. पुरोहित समय पर पहुंच गए। बचाव पक्ष के वकील वीरेंद्र शर्मा को उनसे सवाल करने थे लेकिन वे किसी काम से महिदपुर कोर्ट चले गए, यहां उपस्थित नहीं हो सके।

- इस पर उनके जूनियर वकील विनोद शर्मा ने केस की तारीख आगे बढ़ाने की अर्जी दी। जिला एवं सत्र न्यायाधीश बीके श्रीवास्तव ने बगैर बयान के तारीख आगे बढ़ाने से इनकार कर दिया।मोबाइल से वकील को कॉल कर स्पीकर ऑन किया गया। वकील ने सवाल पूछे और पोस्टमॉर्टम करने वाले डॉक्टर ने जवाब दिए। छह मिनट हुई जिरह में 9 सवाल-जवाब हुए। इसके बाद मोबाइल पर ही जिरह की व्यवस्था की गई।

कोर्ट रूम लाइव : जज बोले- सीनियर वकील को अभी फोन लगाएं


जूनियर वकील : माननीय न्यायालय से निवेदन है कि हमारे सीनियर वकील महिदपुर में है, नहीं आ सके। डॉ.पुरोहित से मेडिकल से जुड़े तकनीकी सवाल पूछने हैं, इसलिए अगली तारीख दी जाए।
जज : तारीख आगे नहीं बढ़ेगी, संचार क्रांति का दौर है, तकनीक का उपयोग करें, आपके सीनियर वकील को अभी फोन लगाएं, वे मोबाइल पर सवाल पूछे।
इसके बाद जूनियर वकील ने सीनियर वकील को फोन लगाया, मोबाइल का स्पीकर ऑन किया और डॉ.पुरोहित की ओर बढ़ा दिया।
सीनियर वकील - माननीय न्यायालय, मैं जानता चाहता हूं कि डॉ.पुरोहित ये बताए मृतक की मौत कैसे हुई थी?
डॉ.पुरोहित : उसकी मौत इंट्रा कार्नियल हेमरेज यानी आंतरिक रक्तस्त्राव की वजह से हुई।
इसके बाद छह मिनट तक बहस चली और कोर्ट की कार्रवाई पूरी हो गई।

X
उज्जैन के जिला जज न्यायमूर्ति बीके श्रीवास्तव ने कायम की नई मिसाल.उज्जैन के जिला जज न्यायमूर्ति बीके श्रीवास्तव ने कायम की नई मिसाल.
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..