--Advertisement--

पुरातत्व विभाग की मंजूरी न मिलने से अटका राजबाड़ा का जीर्णोद्धार

पुरातत्व विभाग की मंजूरी न मिल पाने के कारण तीन महीने से टेंडर होने के बाद अटका हुआ है।

Dainik Bhaskar

Nov 18, 2017, 06:06 AM IST
Restoration of Atta Rajbada not received

इंदौर. शहर के गौरवशाली इतिहास के प्रतीक राजबाड़ा के जीर्णोद्धार का काम पुरातत्व विभाग की मंजूरी न मिल पाने के कारण तीन महीने से टेंडर होने के बाद अटका हुआ है। संभागायुक्त ने पुरातत्व आयुक्त को पत्र भी लिखा है। नगर निगम द्वारा राजबाड़ा के जीर्णोद्धार के काम को स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में शामिल किया गया है। इसके तहत पिछले साल राजबाड़ा के ध्वस्त हुए हिस्से के साथ पूरे भवन की मरम्मत का काम होना है। इस पर निगम 14 करोड़ रुपए खर्च करेगा।

- 4 जुलाई 2016 को राजबाड़ा के मुख्य प्रवेश द्वारा से अंदर दाएं ओर भवन का एक बड़ा हिस्सा गिर गया था।

- नीचे बने दो कमरे और इनके ठीक ऊपर बने इतने ही कमरे शामिल थे।

- घटना के बाद पुरातत्व विभाग के एक्सपर्ट्स ने जांच में बताया था कि इस हिस्से की लकड़ियां सड़ जाने और बारिश का पानी रिसने से भार बढ़ जाने से यह हिस्सा ढहा।

- इसके बाद निगम ने सुधार की जिम्मेदारी ली थी। 43 लाख का टेंडर भी जारी किया गया था।

आर्ट गैलरी बनेगी, म्यूजियम को बढ़ाया जाएगा

- स्मार्ट सिटी के प्रोजेक्ट ऑफिसर विजय मराठे ने बताया कि प्रोजेक्ट के तहत राजबाड़ा के बंद कमरों की भी मरम्मत की जाएगी और इसमें एक आर्ट गैलरी भी बनाई जाएगी।

- वहीं पहली मंजिल पर मौजूद मिनी म्यूजियम को और विस्तारित किया जाएगा। पूरे भवन का रंगरोगन और कमजोर हिस्से की मरम्मत का काम भी किया जाएगा।

- इस काम को होने में डेढ़ से दो साल का समय लगने की संभावना है।

X
Restoration of Atta Rajbada not received
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..