Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Why Not In The Engineering And Medical Colleges

हाईकोर्ट ने सरकार से पूछा-इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में क्यों नहीं हो रहे छात्रसंघ चुनाव

मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने प्राइवेट कॉलेजों में होने वाले छात्रसंघ चुनाव पर रोक लगाने से इंकार कर दिया।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 23, 2017, 06:52 AM IST

हाईकोर्ट ने सरकार से पूछा-इंजीनियरिंग और मेडिकल कॉलेजों में क्यों नहीं हो रहे छात्रसंघ चुनाव

जबलपुर/भोपाल.मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने प्राइवेट कॉलेजों में होने वाले छात्रसंघ चुनाव पर रोक लगाने से इंकार कर दिया। साथ ही राज्य सरकार से पूछा है कि प्रदेश के मेडिकल, इंजीनियरिंग और तकनीकी कॉलेजों में छात्रसंघ चुनाव क्यों नहीं कराए जा रहे हैं। चीफ जस्टिस हेमंत गुप्ता और जस्टिस राजीव कुमार दुबे की खंडपीठ ने सरकार को एक सप्ताह में जवाब पेश करने के निर्देश दिए। मामले पर अगली सुनवाई 27 नवंबर को होगी।

- वरुण दुबे व अन्य ने जनहित याचिका दायर कर कहा है कि सरकार निजी कॉलेजों में चुनाव करा रही है, लेकिन व्यावसायिक, तकनीकी कॉलेजों और निजी विश्वविद्यालयों में चुनाव नहीं हो रहे हैं।

- याचिका में यह भी कहा गया कि सरकार ऐन परीक्षा के समय चुनाव करा रही है, इससे छात्रों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। कई निजी कॉलेजों में परीक्षाएं चल रही हैं।

- इस मामले में याचिकाकर्ताओं की ओर से अधिवक्ता वेद प्रकाश तिवारी ने दलील दी कि लिंगदोह समिति की सिफारिश में कहा गया था कि सत्र शुरू होने के छह से आठ सप्ताह के भीतर छात्र संघ चुनाव होना चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं हुआ।

- तिवारी ने कहा कि प्रदेश के अधिकतर कॉलेजों में अभी सेमेस्टर परीक्षाएं चल रही हैं, ऐसे में चुनाव कराए जाना अनुचित है। कोर्ट ने कहा कि परीक्षाएं भी होने दें और चुनाव भी कराएं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: highkort ne srkar se puchhaa-injiniyringa aur medical collegeon mein kyon nahi ho rahe chhaatrsngh chunaav
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×