--Advertisement--

भोपाल

भोपाल

Dainik Bhaskar

Nov 15, 2017, 01:29 PM IST
स्टेज परफार्मेंस के दौरान अनन स्टेज परफार्मेंस के दौरान अनन

भोपाल। अरबपति पिता के बिजनेस में उन्हें कोई खास रुचि नहीं है। वह अपना रास्ता खुद बनाना चाहते हैं। उन्हें विरासत में मिला बिड़ला नाम अट्रैक्ट नहीं करता। वह अपनी मर्जी से जिंदगी को जीना चाहते हैं। इसलिए एक सिंगर बन गया तो दूसरा क्रिकेटर। हम बात कर रहे हैं देश के टॉप बिजनेस टाइकून कुमार मंगलम बिड़ला और उनके बच्चों अनन्याश्री बिड़ला और आर्यमन विक्रम बिड़ला की। अनन्या म्युजिशियन व पॉप सिंगर हैं। उनके दो एलबम रिलीज हो चुके हैं। जबकि बेटे आर्यमन क्रिकेटर हैं और दो दिन पहले ही एमपी की रणजी टीम में सेलेक्ट हुए हैं।


हालांकि इन सबसे उनके पिता कुमार मंगलम बिड़ला चिंतित नहीं है। वह अपने बच्चों का पूरा सपोर्ट करते हैं। dainikbhaskar.com से बातचीत में आर्यमन ने साफ किया है कि उनके पिता और मां दोनों उनके और बड़ी बहन अनन्याश्री के कॅरियर को प्रॉयरिटी देते हैं। वह हमेशा सपोर्ट करते हैं। आर्यमन में स्वीकार किया कि जब उन्होंने मध्य प्रदेश के छोटे से शहर रीवा से खेलने का फैसला किया तो कठिनाईयों के बारे में जानता था, लेकिन मुंबई में सेलेक्शन नहीं होने के बाद तय कर लिया था कि मप्र से खेलूंगा और टीम में सेलेक्शन लूंगा।

'बिड़ला' नाम में क्या रखा है...
- अनन्या और आर्यमन दोनों एक जैसी सोच वाले युवा हैं। बिड़ला नाम जुड़ा होने पर अनन्या कहती हैं, नाम में क्या रखा है। मैं अपनी पहचान खुद बनाना चाहती हूं। वह मुंबई के टोनी पेडर रोड पर आलीशान बिड़ला स्टेट में रहती हैं। वह स्वतंत्र माइक्रोफाइनेंस की फाउंडर हैं, जो ग्रामीण महिलाओं के लिए छोटे-छोटे लोन की व्यवस्था करता है। उन्होंने कॉलर बोन पर दिल का टैटू गुदवाया है। वह खुद को ममॉज गर्ल्स कहती हैं। और दुनिया के किसी पॉप सिंगर को मात देती हुई स्टेज परफार्मेंस देती हैं।


पब में गाती और गिटार बजाती थीं अनन्याश्री
- अनन्याश्री गिटार और संतूर को पूरे हक से बजा लेती हैं। और हैरान करने वाली बात यह है कि उन्होंने पब और क्लब में गिटार बजाकर गाती थीं। उनका पहला एलबम अप्रैल 2016 में "बिरलॉज ट्रैक : आई डोंट वांट टू लव' के नाम से आया। जबकि दूसरा एलबम इसी साल जुलाई 2017 में "मीन्ट टू बी' के नाम से लांच हुआ।


भाई ने चुना क्रिकेट का रास्ता...
- बहन अनन्याश्री दूसरी तरफ आर्यमन विक्रम बिड़ला अपने क्रिकेट के जुनून को लेकर तीन महीने से फैमिली से दूर हैं। वह कहते हैं कि क्रिकेट के लिए वह किसी भी स्तर तक मेहनत करने को तैयार हैं। अब जबकि वह मध्य प्रदेश की रणजी टीम के लिए सेलेक्ट हो गए हैं, एेसे में क्रिकेट पर उनका फोकस और ज्यादा बढ़ गया है। उन्होंने कहा, मेरे कुछ व्यक्तिगत टारगेट हैं, जिसे प्रॉयरिटी के साथ पूरा करना है। आर्यमन विक्रम बिड़ला को खुद की पहचान बनाने का सपना है। वह इस ड्रीम के लिए जीते हैं। अपने साथ लगे बिरला उपनाम के टैग को वह आसान नहीं मानते हैं। उन्होंने कहा, मुझे अपने बिजनेस टाइकून पिता कुमारमंगलम बिड़ला के बेटे के नाम से पहचाने जाने के बजाय अपनी खुद की पहचान बनाने के रास्ते पर जाना अच्छा लगता है।

अाईपीएल मेरे रडार पर

आर्यमन बिड़ला का सेलेक्शन भले एमपी की रणजी टीम में हो गया हो, लेकिन उनका लक्ष्य नेशनल क्रिकेट टीम में शामिल होना है। इसके पहले उनका लक्ष्य आईपीएल खेलना है। उन्होंने कहा, आईपीएल उनके रडार में है। आईपीएल नए खिलाडि़यों के लिए एक शानदार अंतर्राष्ट्रीय मंच है, जहां पर प्रतिभा दिखाने का भरपूर मौका होता है। किस खिलाड़ी की टेक्नीक को फालो करते हैं, इस सवाल के जवाब में आर्यमन ने कहा, मैं किसी खिलाड़ी को फॉलो नहीं करता, कई खिलाडि़यों का खेल देखकर सीखता हूं। अपनी खुद की तकनीक विकसित करना चाहता हूं।

X
स्टेज परफार्मेंस के दौरान अननस्टेज परफार्मेंस के दौरान अनन
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..