--Advertisement--

120 किसानों को दी सोयाबीन बीज की किट, 500 पौधे बांटे

Palsud News - ग्राम मंडवाड़ी में शासन की किसान कल्याण विकास कार्यक्रम योजना के तहत कृषि विभाग ने शिविर का आयोजन किया। शिविर में...

Dainik Bhaskar

Jun 30, 2018, 03:40 AM IST
120 किसानों को दी सोयाबीन बीज की किट, 500 पौधे बांटे
ग्राम मंडवाड़ी में शासन की किसान कल्याण विकास कार्यक्रम योजना के तहत कृषि विभाग ने शिविर का आयोजन किया। शिविर में किसानों को सोयाबीन बीज का वितरण किया गया। योजना के अंतर्गत ब्लॉक के 4 गांवों का चयन किया गया है।

कृषि विस्तार अधिकारी राजपुर अमरसिंह बड़ोले ने बताया मंडवाड़ी गांव में लगाए शिविर में 120 किसानों को 8 केजी के पैकिंग में मिनी किट जेएस 9560 नामक किस्म का सोयाबीन बीज नि:शुल्क बांटे व किसानों को बोवनी से लेकर फसल के संरक्षण तक की बारीकियां भी बताई। योजना के तहत सभी ब्लॉक के 4-4 गांवों का चयन किया है। इन गांवों के 120 किसानों को सोयाबीन बीज नि:शुल्क दे रहे हैं। शिविर के दौरान किसानों ने कृषि अधिकारियों से बोवनी व सोयाबीन फसल में दवाओं का छिड़काव करने व रखने वाली सावधानियों के बारे में सवाल पूछे। इनका कृषि अधिकारी ने जवाब दिया। शिविर में ग्रामीण उद्यानिकी विभाग के विस्तार अधिकारी रणजीत जमरा ने किसानों को अमरूद और जामुन के 500 पौधे बांटे। कृषि विभाग के ओपी सोहनी, रविंद्र गुप्ता, सरपंच रामेश्वर रावत, मुकेश सोलंकी, किसान धूलसिंह, परसराम, तुकाराम, भूरा, ध्यानसिंह, अगरसिंह, जबरसिंह, जगन सेनानी आदि उपस्थित थे।

शिविर के दौरान किसानों को सोयाबीन की किट बांटते कृषि ‌विभाग के अधिकारी।

शिविर से 35 अटेंडर खड़े-खड़े गए इंदौर

भास्कर संवाददाता | सेंधवा

सिविल अस्पताल में शुक्रवार को लगे नेत्र परीक्षण शिविर में अव्यवस्था दिखी। मोतीयाबिंद के चिन्हित मरीजों को इंदौर जाने के लिए 3 घंटे तक अस्पताल परिसर में बस का इंतजार करना पड़ा। बस आई तो जगह कम होने से 18 मरीजों को वापस लौटना पड़ा। इन्हें रविवार को ऑपरेशन के लिए भेजा जाएगा।

समता फाउंडेशन मुंबई व चोइथराम नेत्रालय इंदौर के सहयोग से नेत्र परीक्षण शिविर लगाया गया। जिसमें शहर के व ग्रामीण क्षेत्र से 220 मरीज आंखों की जांच कराने पहुंचे। सुबह 9 बजे से डॉ. विजेंद्र कालेन व नेत्र सहायक बीएस भाटिया ने मरीजों की जांच की। 59 मरीजों को मोतियाबिंद की परेशानी थी। जिन्हें ऑपरेशन के लिए इंदौर चोइथराम नेत्रालय ले जाना था। दूर-दराज से आए मरीजों ने अस्पताल परिसर में पेड़ के नीचे जमीन पर बैठकर बस का इंतजार किया। मरीजों ने बताया सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक इंदौर जाने के लिए बस का इंतजार करना पड़ा। चिन्हित मरीज अधिक थे व बस कम सीटर थी। इससे 41 मरीजों को जगह मिली। मरीजों के साथ गए 35 अटेंडरों को बस में बैठने की जगह नहीं मिली। उन्हें खड़े-खड़े ही 150 किमी तक जाना पड़ा। शेष 18 मरीजों को रविवार को सुबह 11 बजे बस से इंदौर भेजा जाएगा। पहले भी मरीज अधिक होने व कम सीटर बस भेजे जाने के मामले सामने आए हैं। इससे मरीजों को परेशानी होती है। इंदौर जाने से छूटे मरीजों ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र से आए मरीजों को छोड़कर शहरी क्षेत्र के मरीजों को भेजा गया। इससे उन्हें रविवार को फिर आना पड़ेगा।

X
120 किसानों को दी सोयाबीन बीज की किट, 500 पौधे बांटे
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..