पलसूद

--Advertisement--

पैरों से विकलांग पर हौसले से भरी; आईएएस बनने का लक्ष्य

मुख्यमंत्री निशक्त प्रोत्साहन योजना के तहत मिली तीन पहिया बाइक चलाती हुई। भास्कर संवाददाता | पलसूद नगर की...

Dainik Bhaskar

Apr 09, 2018, 05:50 AM IST
पैरों से विकलांग पर हौसले से भरी; आईएएस बनने का लक्ष्य
मुख्यमंत्री निशक्त प्रोत्साहन योजना के तहत मिली तीन पहिया बाइक चलाती हुई।

भास्कर संवाददाता | पलसूद

नगर की कल्याणी पटेल अपने दोनों पैरों से विकलांग होने के बाद भी उच्च शिक्षा ग्रहण करके आईएएस बनना चाहती है। 18 वर्षीय कल्याणी पटेल के दोनों पैर जन्म से ही एड़ी के पास से मुड़े हुए हैं। फिर भी उसके जीने का अंदाज अलग ही है। वे अपनी कमजोरी को पढ़ाई व मेहनत से जीत लेना चाहती हैं। कल्याणी ने बताया वे रोजाना 14घंटे पढ़ाई करती हैं। ताकि उनका आईएएस बनने का सपना पूरा हो सके।

कल्याणी को बचपन से क्रिकेट खेलने व डांस करने का शौक है। अपनी प्राथमिक शिक्षा के दौरान स्कूल में होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रमों में भाग लेकर हमेशा प्रथम स्थान प्राप्त किया। 2016 में कक्षा आठवीं में उत्कृष्ट स्कूल की परीक्षा में प्रथम श्रेणी में पास होकर वर्तमान में उत्कृष्ट स्कूल बड़वानी में रहकर दसवीं की परीक्षा दी है। कल्याणी को मुख्यमंत्री निशक्त प्रोत्साहन योजना के तहत सामाजिक न्याय व निशक्त कल्याण विभाग द्वारा एक तिपहिया बाइक भी मिली है। कल्याणी ने परिवहन विभाग में लाइसेंस के लिए आवेदन दिया है। लाइसेंस मिलते ही बाइक का उपयोग करना शुरू कर देगी। कल्याणी के पिता जगदीश पटेल ने बताया कि उनकी 4 लड़कियां हैं। बहनों में सबसे छोटी कल्याणी बड़ी होकर उच्च शिक्षा प्राप्त करके आईपीएस अफसर बनना चाहती है। कल्याणी के पिता उच्च श्रेणी शिक्षक व माता ग्रहिणी हैं। वहीं कल्याणी की दो बहनें इंदौर में रहकर पीएससी की तैयारी कर रही है।

X
पैरों से विकलांग पर हौसले से भरी; आईएएस बनने का लक्ष्य
Click to listen..