Hindi News »Madhya Pradesh »Pathakheda» जंगलों में चरवाहे बनेंगे वन विभाग की आंख

जंगलों में चरवाहे बनेंगे वन विभाग की आंख

जंगलों में मवेशी चराने वाले चरवाहे अब वन विभाग की आंख बनेंगे। विभाग वन अपराधों की रोकथाम में इनकी मदद लेगा। रोज कई...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 03:00 AM IST

जंगलों में मवेशी चराने वाले चरवाहे अब वन विभाग की आंख बनेंगे। विभाग वन अपराधों की रोकथाम में इनकी मदद लेगा। रोज कई हिस्सों में पैदल घूमने वाले चरवाहे जंगल के चप्पे-चप्पे पर नजर रखेंगे। विभागीय अधिकारियों ने बुधवार को उनके सम्मेलन का आयोजन कर जरूरी ट्रेनिंग दी। आने वाले समय में उन्हें इसके लिए पुरस्कृत किया जाएगा।

उत्तर वन मंडल के तहत लंबी वन शृंखला है। वन विभाग के पास भी सीमित स्टाफ है। विभाग के अधिकारी पहले से भी ग्रामीणों की मदद ले रहे हैं। वन सुरक्षा समितियां जंगलों में कार्यरत हैं। मगर, अब नई योजना के तहत चरवाहों को भी इससे जोड़ा जा रहा है। बैतूल सीसीएफ पीएस चंपावत, डीएफओ राखी नंदा द्वारा तैयार की गई योजना में चरवाहों से वन विभाग के मैदानी अधिकारी, कर्मचारी सतत संपर्क में रहेंगे। सारनी के एसडीओ सुदेश महिवाल और रेंज आफिसर विजय बारस्कर ने बताया चरवाहों की मदद वन अपराधों में मदद और वन्य जीवों पर निगरानी के लिए ली जाएगी। बेहतर कार्य करने वालों को पुरस्कृत किया जाएगा। इसे लेकर बुधवार को परिक्षेत्र मुख्यालय पर उक्त सम्मेलनों का आयोजन किया।

नई योजना

प्रत्येक परिक्षेत्र सहायक के मुख्यालय पर हुआ चरवाहों का सम्मेलन, सम्मानित कर बताए वन अपराध होने के तरीके

सारनी। पाथाखेड़ा परिक्षेत्र मुख्यालय पर चरवाहों का सम्मेलन आयोजित किया।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pathakheda

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×