पाठाखेड़ा

--Advertisement--

जंगलों में चरवाहे बनेंगे वन विभाग की आंख

जंगलों में मवेशी चराने वाले चरवाहे अब वन विभाग की आंख बनेंगे। विभाग वन अपराधों की रोकथाम में इनकी मदद लेगा। रोज कई...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 03:00 AM IST
जंगलों में चरवाहे बनेंगे वन विभाग की आंख
जंगलों में मवेशी चराने वाले चरवाहे अब वन विभाग की आंख बनेंगे। विभाग वन अपराधों की रोकथाम में इनकी मदद लेगा। रोज कई हिस्सों में पैदल घूमने वाले चरवाहे जंगल के चप्पे-चप्पे पर नजर रखेंगे। विभागीय अधिकारियों ने बुधवार को उनके सम्मेलन का आयोजन कर जरूरी ट्रेनिंग दी। आने वाले समय में उन्हें इसके लिए पुरस्कृत किया जाएगा।

उत्तर वन मंडल के तहत लंबी वन शृंखला है। वन विभाग के पास भी सीमित स्टाफ है। विभाग के अधिकारी पहले से भी ग्रामीणों की मदद ले रहे हैं। वन सुरक्षा समितियां जंगलों में कार्यरत हैं। मगर, अब नई योजना के तहत चरवाहों को भी इससे जोड़ा जा रहा है। बैतूल सीसीएफ पीएस चंपावत, डीएफओ राखी नंदा द्वारा तैयार की गई योजना में चरवाहों से वन विभाग के मैदानी अधिकारी, कर्मचारी सतत संपर्क में रहेंगे। सारनी के एसडीओ सुदेश महिवाल और रेंज आफिसर विजय बारस्कर ने बताया चरवाहों की मदद वन अपराधों में मदद और वन्य जीवों पर निगरानी के लिए ली जाएगी। बेहतर कार्य करने वालों को पुरस्कृत किया जाएगा। इसे लेकर बुधवार को परिक्षेत्र मुख्यालय पर उक्त सम्मेलनों का आयोजन किया।

नई योजना

प्रत्येक परिक्षेत्र सहायक के मुख्यालय पर हुआ चरवाहों का सम्मेलन, सम्मानित कर बताए वन अपराध होने के तरीके

सारनी। पाथाखेड़ा परिक्षेत्र मुख्यालय पर चरवाहों का सम्मेलन आयोजित किया।

X
जंगलों में चरवाहे बनेंगे वन विभाग की आंख
Click to listen..