• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Pathakheda News
  • पीएम आवास के निर्माण में घटिया मिलावट 3 माह पुरानी सीमेंट का हो रहा था उपयोग
--Advertisement--

पीएम आवास के निर्माण में घटिया मिलावट 3 माह पुरानी सीमेंट का हो रहा था उपयोग

नगरीय प्रशासन विभाग के चीफ इंजीनियर एचएन गुप्ता ने शनिवार को शहर के निर्माण कार्यों का अचानक सर्वे किया।...

Danik Bhaskar | Feb 04, 2018, 07:00 AM IST
नगरीय प्रशासन विभाग के चीफ इंजीनियर एचएन गुप्ता ने शनिवार को शहर के निर्माण कार्यों का अचानक सर्वे किया। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मोरडोंगरी रोड पर बन रहे मकानों के काम को देखकर वे नाराज हुए। यहां ज्यादातर काम घटिया मिले। सारनी नगर पालिका के इतिहास में पहली बार नगरीय प्रशासन विभाग के चीफ इंजीनियर ने टेक्निकल सर्वे किया है। यहां घटिया गिट्टी और रेत का उपयोग हो रहा था। तीन महीने से ज्यादा पुराना सीमेंट का उपयोग किया जा रहा था। इसे लेकर उन्होंने नाराजगी जताई।

मोरडोंगरी रोड पर प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत किफायती मकानों का निर्माण हो रहा है। करीब 52.49 करोड़ की लागत से यहां 867 मकान बनाए जा रहे हैं। नगर पालिका और थर्ड पार्टी के तहत एजिस कंपनी इसकी देखरेख कर रही है। शनिवार दोपहर 2 बजे चीफ इंजीनियर गुप्ता अचानक यहां पहुंचे। उन्होंने यहां पहुंचते ही आवासों में लगाए जा रहे सरिए पर आपत्ति जताई। इसे बदलने के निर्देश दिए। टेस्टिंग लैब में संतोषजनक व्यवस्था नहीं मिलने से वे नाराज हुए। इसके बाद तो उन्होंने साइट के हर हिस्से का पैदल सर्वे किया और सभी तरह से सुधार करने के निर्देश दिए। सीएमओ पवन राय से इस पूरे प्रोजेक्ट को लेकर पर्सनल तौर पर रिपोर्टिंग करने के निर्देश दिए। उनके साथ सहायक अभियंता नगरीय प्रशासन विभाग राकेश चौबे भी यहां मौजूद थे। एजिस के इंजीनियर रीजनल राजेश सिंह को पूरे प्रोजेक्ट पर नजर रखने को कहा।

सारनी। चीफ इंजीनियर एचएन गुप्ता पीएम आवास का बेस सरिया से उखड़वाकर देखते हुए।

इंजीनियर संयुक्त रूप से कराएं टेस्टिंग तब होगा काम

मुख्य अभियंता एचएन गुप्ता ने कहा पूरे देश में प्रधानमंत्री आवास योजना ड्रीम प्रोजेक्ट है। इसके निर्माण कार्य में लापरवाही बर्दाश्त नहीं होगी। उन्होंने कहा एजिस के इंजीनियर राजेश सिंह और नपा के इंजीनियर दीपक चौहान इस पर सतत नजर रखें। हर टेस्ट अपने सामने कराने के बाद ही इसके मटेरियल का उपयोग होना चाहिए। तीन महीने से पुराना सीमेंट उपयोग करना पूरी तरह से गलत है।

शिविर में बोले इतनी सुविधा है फिर भी शुल्क

जमा नहीं किया तो निरस्त कर देंगे फार्म

नगर पालिका ने पाथाखेड़ा के एक्युप्रेशर पार्क में शिविर का आयोजन किया था। इसमें अचानक पहुंचे चीफ इंजीनियर ने लोगों से चर्चा की। लोगों ने पूरी तरह से निशुल्क आवास देने की मांग की। इस पर चीफ इंजीनियर ने स्पष्ट किया मुफ्त जमीन, 3 लाख की सब्सिडी और बैंक से लोन दिलाने की गारंटी दी जा रही है। इससे ज्यादा कुछ नहीं किया जा सकता। लोगों को अपना अंशदान 50 हजार रुपए जमा करना होगा। 2 लाख तक का लोन दिया जाएगा।

महीने भर में स्तर सुधारने के दिए निर्देश

नपा में चीफ इंजीनियर ने अधिकारियों की बैठक ली। इसमें निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदार सोमेश भटनागर को भी बुलवाया। इससे पहले वे साइट पर कांक्रीट, स्टील, लैब, बैचिंग प्लांट, पुटिंग, फाउंडेशन का सर्वे कर चुके थे। उन्होंने कहा सारी चीजें मैंने अपनी आंखों से देखी है। स्थिति ठीक नहीं है। एक महीने में तीनों एजेंसियों को मिलकर काम सुधारना होगा। सुधार नहीं होने पर कार्रवाई होगी।