• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Pathakheda News
  • पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाने के खिलाफ कांग्रेस ने किया प्रदर्शन
--Advertisement--

पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाने के खिलाफ कांग्रेस ने किया प्रदर्शन

सारनी। नाटकीय घटनाक्रम में मोदी बने पदाधिकारी पर जूता तानता कार्यकर्ता। भास्कर संवाददाता |सारनी ...

Danik Bhaskar | May 25, 2018, 04:45 AM IST
सारनी। नाटकीय घटनाक्रम में मोदी बने पदाधिकारी पर जूता तानता कार्यकर्ता।

भास्कर संवाददाता |सारनी

पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ना के खिलाफ गुरुवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पाथाखेड़ा में जोरदार प्रदर्शन किया। कांग्रेस जिलाध्यक्ष सुनील शर्मा को साइकिल पर बैठाकर रैली के रूप में चौकी पहुंचे। यहां टीआई को ज्ञापन सौंपा। इसमें कांग्रेस की सभी विंगों के पदाधिकारी शामिल हुए। कांग्रेसियों ने शिवराज सरकार को किसानों का विरोधी बताया। केंद्र सरकार द्वारा हाल ही में पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी की। ब्लॉक कांग्रेस कमेटी सारनी ने गुरुवार को प्रदर्शन किया। पाथाखेड़ा के एक्युप्रेशर पार्क के पास कांग्रेसी इकट्ठा हुए।

नव नियुक्त जिला अध्यक्ष सुनील शर्मा के नेतृत्व में कांग्रेसियों ने प्रदर्शन किया। जिलाध्यक्ष समेत सभी पदाधिकारी साइकिल पर सवार होकर प्रदर्शन करने पहुंचे। टीआई महेंद्र सिंह चौहान, चौकी प्रभारी गोविंद सिंह राजपूत को ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर ब्लॉक अध्यक्ष भगवान जावरे, अवधेश सिंह, लक्ष्मी गोहे, आशा भारती, महेंद्र भारती, ताहिर खान, एसके उपरीत, मो. इलियास, नारायण खातरकर, विजय उपराले, विक्की सिंह, उज्जवला पांसे, महिला कांग्रेस जिला उपाध्यक्ष मोनिका निरापुरे, ममता यादव, संदीप पासवान, वजीर खान समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

पदाधिकारी पर कार्यकर्ता ने ताना जूता

प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस कमेटी के जिला महामंत्री मो. इलियास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मुखौटा पहनकर नाटक कर रहे थे। इस दौरान कार्यकर्ता शमीम रिजवी उन पर जूता लेकर दौड़े। हालांकि बाद में जिलाध्यक्ष और ब्लॉक अध्यक्ष ने उन्हें संभाला। बाद में बताया यह प्रदर्शन का एक हिस्सा है।

ब्लॉक अध्यक्ष चिल्लाते रहे, कार्यकर्ताओं ने नहीं सुनी

प्रदर्शन के दौरान चौकी के भीतर नहीं जाने की बात तय हुई थी, लेकिन कार्यकर्ता नहीं माने और वे भीतर घुस गए। अनुशासनहीनता की हद तब पार हो गई जब ब्लॉक अध्यक्ष बार-बार पीछे खिसकने को कहते रहे और कार्यकर्ता, पदाधिकारी नहीं माने। आखिर में ब्लॉक अध्यक्ष को कहना पड़ा ये कभी नहीं सुधर सकते।