Hindi News »Madhya Pradesh »Pathakheda» डब्ल्यूसीएल की जमीन पर अतिक्रमण कर बना रहे पक्के मकान, राजस्व ने ली आपत्ति

डब्ल्यूसीएल की जमीन पर अतिक्रमण कर बना रहे पक्के मकान, राजस्व ने ली आपत्ति

सारनी। अस्पताल के पास की खाली जमीन पर इस तरह हुए हैं अवैध कब्जे। नगरीय क्षेत्र में सीएमओ को अवैध कब्जे हटाने के...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 05, 2018, 04:50 AM IST

डब्ल्यूसीएल की जमीन पर अतिक्रमण कर बना रहे पक्के मकान, राजस्व ने ली आपत्ति
सारनी। अस्पताल के पास की खाली जमीन पर इस तरह हुए हैं अवैध कब्जे।

नगरीय क्षेत्र में सीएमओ को अवैध कब्जे हटाने के निर्देश, तीन दिनों में पूरी हो नोटिस की कार्रवाई

शहर और इसके आस-पास नजूल की खाली जमीन पर अतिक्रमण करने वालों के खिलाफ नगर पालिका सीधे कार्रवाई करेगी। तहसीलदार ने कहा तीन दिनों में ऐसे लोगों को चिन्हित कर नोटिस दिया जाना चाहिए। यहां अस्पताल क्षेत्र, नगर पालिका चौराहा समेत अन्य स्थानों पर अवैध कब्जे हो रहे हैं। इसके बाद पटवारी सर्वे कर नोटिस देंगे।

अस्पताल के पूरे क्षेत्र में अतिक्रमण, पटवारी को दाे दिन में रिपोर्ट देने को कहा

शहर के शासकीय अस्पताल के पास का पूरा हिस्सा अतिक्रमण की चपेट में है। नगर पालिका में राजस्व और नजूल की जमीन होने के कारण लोग इस क्षेत्र में अवैध कब्जा कर रहे हैं। इसे चिन्हित कर दो दिनों में पटवारी से प्रतिवेदन मांगा है। तहसीलदार ने कहा यहां नजूल की जमीन बेचे जाने तक की शिकायत मिली है। हालांकि प्रतिवेदन में इसके कोई साक्ष्य नहीं आए हैं, लेकिन अवैध कब्जा करना भी अपराध है। इस पर कार्रवाई होगी।

नपा और पटवारी को कार्रवाई के निर्देश दिए हैं

सारनी, पाथाखेड़ा और बगडोना क्षेत्र में कई स्थानों पर अतिक्रमण है। मगर, बगडोना में मुख्य मार्ग पर अतिक्रमण से दिक्कतें हैं। चूंकि यह डब्ल्यूसीएल की जमीन है इसलिए उन्हें कार्रवाई करनी चाहिए। इसके लिए पत्र लिखा है। सारनी व अन्य स्थानों पर शासकीय जमीन को अतिक्रमण मुक्त किए जाने का अभियान चलाया जा रहा है। प्रारंभिक रूप से इन्हें चिन्हित करने के निर्देश नपा और पटवारी काे दिए हैं। अजय शर्मा, तहसीलदार, घोड़ाडोंगरी

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Pathakheda

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×