--Advertisement--

दूध विक्रेता की संदिग्ध मौत को परिजनों ने बताया हत्या

Dainik Bhaskar

Apr 22, 2018, 05:25 AM IST
दूध विक्रेता की संदिग्ध मौत को परिजनों ने बताया हत्या


भास्कर संवाददाता | सारनी

पाथाखेड़ा में अक्टूबर महीने में एक दूध व्यवसायी की संदिग्ध मौत के मामले में परिजनों ने हत्या की आशंका जाहिर की है। उन्होंने पुलिस पर गलत जांच करने का आरोप भी लगाया है। मामले की लिखित शिकायत उन्होंने शनिवार को एसपी बैतूल और पुलिस महानिरीक्षक से की है। रुपए के लेन-देन में हत्या की आशंका जाहिर की है।

डब्ल्यूसीएल से रिटायर हाल निवासी चिखलीकला मुलताई नंदू पिता धुंधुसिंह रघुवंशी ने बताया उनके बेटे कल्याणसिंह की 19 अक्टूबर को संदिग्ध अवस्था में मृत्यु हो गई थी। डब्ल्यूसीएल स्टेडियम के पास शव मिला था। पुलिस ने जांच के बाद मामले को हार्ट अटैक का बताया। पीएम रिपोर्ट में भी यही आया। नंदू ने आशंका जाहिर की है उनके बेटे की सामान्य मौत नहीं बल्कि हत्या की गई है। हत्या की एक रात पहले कल्याण के मामा के बेटे दिलीप सिंह ने उससे बात की थी। इसके बाद देर रात उसने बहुत दूर जाने की बात कही थी।

मिली जानकारी के अनुसार सुबह शव स्टेडियम के पास संदिग्ध अवस्था में मिला था। इसकी अवस्था अनुसार हत्या की आशंका ज्यादा दिखाई दे रही है। नंदू ने पुलिस और पीएम करने वाले डॉक्टर पर भी आरोप लगाए हैं। तत्कालीन पाथाखेड़ा चौकी प्रभारी पर भी आरोप लगाते हुए उन्होंने बताया मोबाइल के डाटा की सीडी गायब कर दी गई। जबकि इसमें रिकार्डिंग और कुछ जरूरी डाटा था। उन्होंने कथित लापरवाही का आरोप लगाया।

सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया शाखा सारनी के एक कर्मचारी, यूबीआई से जुड़े एक व्यक्ति और अन्य कुछ लोगों पर रुपए लेने का आरोप लगाया है। नंदू का आरोप है उसके रिटायरमेंट के बाद का 24 लाख और अन्य रुपए इन व्यक्तियों ने फिक्स करने के नाम पर लिए थे। इसे जमा नहीं किया, न ही कोई रसीद दी। इसी को लेकर विवाद भी हुआ था। उन्होंने पूरे मामले में उच्चस्तरीय जांच करने, बिसरा को स्टेट लेबोरेटरी में टेस्ट कराने की मांग उठाई है।

X
दूध विक्रेता की संदिग्ध मौत को परिजनों ने बताया हत्या
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..