--Advertisement--

नर्मदा की धार हुई पतली, जल योजना पर भी संकट

सांडिया और सिवनी के नर्मदा घाटों पर पानी हुआ कम, पिछले साल अब से 2 मीटर जल स्तर था ज्यादा गिर रहा भूजल स्तर ...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 03:05 AM IST
सांडिया और सिवनी के नर्मदा घाटों पर पानी हुआ कम, पिछले साल अब से 2 मीटर जल स्तर था ज्यादा

गिर रहा भूजल स्तर

पीएचई इंजीनियर केजी माहेश्वरी के मुताबिक ग्रामीण क्षेत्रों में भूजल स्तर 80 से 100 फीट पर है। जबकि शहरी क्षेत्र में 50 से 55 फीट पर है। ट्यूबबेल के बढ़ते उपयोग और ग्रीष्म कालीन मूंग मेंं सिंचाई के लिए ट्यूबबेल का उपयोग ज्यादा होता है। ऐसे में भूजल स्तर नीचे चला जाएगा। भूजल स्तर 150 से 200 फीट पर पहुंच जाएगा। मटकुली सहित जिनौरा, सिरपन वाले क्षेत्र में परेशानियां ज्यादा आने की संभावनाएं हैं।

लोगों को जागरूक होने की जरूरत

भोपाल के भू जल विशेषज्ञ केजी व्यास ने बताया पीएचई कुछ दिन पूर्व नर्मदा की धार को देखकर वेदना हुई है। पहले इस नदी में बहाव था। यह आने वाले खतरे का संकेत है। नदियां अभी काेमा में जा रहीं है। इसके बाद धीरे-धीरे समाप्त हो जाएंगी। तालाब और सहायक नदियों के माध्यम से ही नदी संरक्षण किया जा सकता है। लोगों को जागरूक होने की जरूरत है। पिपरिया पुरानी रिपटा नदी तो अब सूख ही चुकी है। यही हाल अन्य नदियों का भी है।